Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Mahatma Gandhi Death Anniversary 2019: इन 5 फिल्मों से खुले महात्मा गांधी के कई राज

31 जनवरी को भारत में शहीद दिवस मनाया जाता है। इस दिन महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) ने बिरला भवन के रास्ते में गोली मारकर हत्या कर दी थी। गांधी जी को राष्ट्रपिता (Father of the Nation) कहा जाता है। उन्होंने आजादी की लड़ाई में अपना सबकुछ न्यौछावर कर दिया। गांधी जी की हत्या के बाद उनके जीवन पर कई फिल्में बनी हैं। जो आज भी युवाओं को प्रेरणा देती हैं। आज हम बता रहे हैं गांधी जी के जीवन से जुड़ी 5 फिल्में जो आपको जरूर देखनी चाहिए।

Mahatma Gandhi Death Anniversary 2019: इन 5 फिल्मों से खुले महात्मा गांधी के कई राज

Martyrs Day/ Mahatma Gandhi

31 जनवरी को भारत में शहीद दिवस (Martyrs Day) मनाया जाता है। इस दिन महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) ने बिरला भवन के रास्ते में गोली मारकर हत्या कर दी थी। गांधी जी को राष्ट्रपिता (Father of the Nation) कहा जाता है। उन्होंने आजादी की लड़ाई में अपना सबकुछ न्यौछावर कर दिया। गांधी जी की हत्या (Mahatma Gandhi Death Anniversary 2019) के बाद उनके जीवन पर कई फिल्में बनी हैं। जो आज भी युवाओं को प्रेरणा देती हैं। आज हम बता रहे हैं गांधी जी के जीवन से जुड़ी 5 फिल्में जो आपको जरूर देखनी चाहिए।

गांधी (Gandhi)

1982 में आई फिल्म गांधी को अगर आज देखेंगे तो पाएंगे कि बहुत ही अनुभवी कलाकारों ने इसमें काम किया था। फिल्म की शुरुआत वहीं से होती है जहां गांधी जी को गोली मारी जाती है। रिचर्ड एट्टनबर्ग (Richard Attenborough) ने इस फिल्म को डायरेक्ट किया था।

गांधी जी के जीवन से जुड़ी सभी बातों को इस फिल्म में बखूबी समेटा गया है। फिल्म का बजट 22 मिलियन डॉलर था। और फिल्म ने लगभग 127 मिलियन डॉलर की कमाई की थी। इस फिल्म की IMDb रैंकिंग 8.1 है।

द मेकिंग ऑफ द महात्मा (The Making of the Mahatma)

द मेकिंग ऑफ द महात्मा में गांधी जी का शुरुआती जीवन दिखाया गया है। 1996 में एक भारतीय और दक्षिण अफ्रीकी प्रोडक्शन ने मिलकर इस फिल्म को बनाया था। फिल्म में रजित कपूर ने युवा गांधी का किरदार निभाया है। साउथ अफ्रीका में महात्मा गांधी के आंदोलन की बातें इस फिल्म में देखने को मिलती है। फिल्म फातिमा मीर की किताब द अपरेंटिसशिप ऑफ ए महात्मा पर आधारित है। इस फिल्म की IMDb रैंकिंग 7 है।

गांधी माय फादर (Gandhi My Father)

यह फिल्म अपने आप में एक बेहद कमाल की फिल्म है। क्योंकि इस फिल्म में बिना रिसर्च के काम नहीं हो सकता। गांधी माय फादर महात्मा गांधी और उनके बेटे हरीलाल के रिश्ते को दिखाती है। हरीलाल की कहानी ज्यादा लोगों को नहीं पता है।

इस लिए फिल्म की शुरुआत में ही आप हरीलाल से जुड़ जाते हैं। फिरोज अब्बास खान ने इस फिल्म का निर्देशन किया है। फिल्म में पता चलता है कि गांधी जी की बात सब मानते थे लेकिन उनका बेटा ही उनकी नहीं सुनता था।

लगे रहो मुन्ना भाई (Lage Raho Munna Bhai)

लगे रहो मुन्ना भाई गांधी के जीवन पर बनी हुई फिल्म नहीं है। लेकिन इस फिल्म में आपको गांधी के आदर्शों के बारे में पता चलता है। मुख्य किरदार में संजय दत्त (Sanjay Dutt) हैं। जो कि होते एक क्रिमिनल हैं। लेकिन गांधी को पढ़ने का मौका लगता है और वह दादागिरी के बजाय गांधीगिरी से काम लेने लगते हैं।

मैने गांधी को नहीं मारा (Maine Gandhi Ko Nahin Mara)

मैने गांधी को नहीं मारा में अनुपम खेर जैसे मंझे हुए कलाकारों ने काम किया है। इस फिल्म में दिखाया गया है कि एक हिंदी का प्रोफेसर गलती से गांधी जी को गोली मार देता है। और उसका केस कोर्ट में जाता है। गलती से इस लिए कहा जा रहा है क्योंकि अनुपम खेर इस फिल्म में एक मनोरोगी प्रोफेसर बने हैं। हालांकि इस फिल्म में गांधी का किरदार प्रत्यक्ष रूप से मौजूद नहीं है लेकिन अप्रत्यक्ष मौजूदगी का अहसास है।

Next Story
Top