Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Madhuri Dixit Interview : अनिल कपूर को लेकर माधुरी ने किया ये बड़ा खुलासा

माधुरी दीक्षित के प्रति दर्शकों का क्रेज आज भी बना हुआ है। बहुत जल्द वह कॉमेडी फिल्म ‘टोटल धमाल’ में नजर आएंगी। इस कॉमेडी फिल्म को एक्सेप्ट करने की क्या वजह रही? इस फिल्म में माधुरी के साथ जूही चावला भी हैं। क्या उनका कंपैरिजन जूही से नहीं किया जाएगा? अब वह इंडस्ट्री में किस तरह के बदलाव देखती हैं? एक खास मुलाकात में बता रही हैं माधुरी दीक्षित।

Madhuri Dixit Interview : अनिल कपूर को लेकर माधुरी ने  किया ये बड़ा खुलासा
X

माधुरी दीक्षित शादी के बाद कुछ समय के लिए फिल्मों से दूर हो गई थीं। बाद में उन्होंने फिल्म ‘आजा नच ले’ से बॉलीवुड में कमबैक किया, बीच-बीच में कुछ फिल्मों में कैमियो करती रहीं। फिल्म ‘गुलाब गैंग’ और ‘डेढ़ इश्किया’ में भी माधुरी अहम किरदारों में नजर आईं। अब वह इंद्र कुमार की कॉमेडी फिल्म ‘टोटल धमाल’ में अनिल कपूर के अपोजिट हैं। हाल ही में माधुरी दीक्षित से मुलाकात हुई। इस मौके पर फिल्म ‘टोटल धमाल’ और करियर से जुड़ी बातचीत हुई। पेश है बातचीत के चुनिंदा अंश-

कॉमेडी फिल्म ‘टोटल धमाल’ आपने क्यों एक्सेप्ट की?

इंदूजी (इंद्र कुमार) मेरे पास स्क्रिप्ट लेकर आए थे। उन्होंने ही मुझे बिंदू के किरदार के लिए अप्रोच किया। जब मैंने कहानी सुनी तो मुझे बहुत ही अच्छी लगी। बहुत फनी भी लगी। उन्होंने मुझे सारे किरदार के साथ यह भी बताया कि कौन-सा एक्टर, कौन-सा रोल करेगा, तो कहानी सुनते वक्त मैं उन एक्टर्स को ध्यान में रखती गई। फिर उन्होंने मुझे यह भी बताया कि मेरे अपोजिट अनिल जी को लेने की बात चल रही है। मैंने कहा यह तो फैंटास्टिक होगा, इतने सालों बाद हम फिर एक साथ काम करेंगे। सच कहूं तो मुझे इस फिल्म की स्क्रिप्ट इसलिए बहुत अच्छी लगी, क्योंकि यह एक फैमिली एंटरटेनर है, जिसे बड़े, बुजुर्ग और बच्चे सभी साथ देख सकते हैं।

क्या आपने ‘धमाल’, ‘डबल धमाल’ देखी है। ‘टोटल धमाल’ में क्या नया है?

जी हां, मैंने धमाल सीरीज की फिल्में देखी हैं। मैंने बाकी फिल्मों की फ्रेंचाइस भी देखी है, जैसे ‘गोलमाल’ की। मेरे मुताबिक जब कोई फ्रेंचाइस बनती है तो उनका एक ढांचा होता है और उसी में कैरेक्टर्स फिट किए जाते हैं। फिल्म ‘टोटल धमाल’ में भी वह ढांचा है, लेकिन इसके अलावा भी कई चीजें नई हैं, जो शायद बाकी फ्रेंचाइस में नहीं थीं। जहां तक कहानी की बात है, इसमें सब पैसों के पीछे भागते दिखेंगे। सबकी अपनी-अपनी जर्नी है और सबकी जर्नी में धमाल है। आखिर में सारे कनेक्ट भी हो जाते हैं। सबको साथ में देखकर तो और भी मजा आता है।

आपने जब धमाल की सीरीज देखी तो उसमें संजय दत्त को भी देखा होगा, फिर वो इस सीरीज में क्यों नहीं हैं?

जब कोई राइटर या डायरेक्टर स्क्रिप्ट रेडी करता है तो उसके अनुसार कई कैरेक्टर भी लिखता है, फिर उस कैरेक्टर को ध्यान मंं रखकर एक्टर चूज करता है। हो सकता है उनके मुताबिक इंदू जी ने कोई कैरेक्टर नहीं लिखा हो, इसलिए वो इस सीरीज में नहीं हैं। फिर भी अगर आप लोगों को शिकायत है (हंसते हुए) तो इसकी शिकायत आप डायरेक्टर-प्रोड्यूसर से करें, क्योंकि किरदार का चुनाव उन पर ही डिपेंड करता है, हम कलाकारों पर नहीं।

अनिल कपूर के साथ इस बार क्या खास कर रही हैं, इतने सालों में कितने चेंजेस उनमें देखे आपने?

हमारे बीच हमेशा से जो केमेस्ट्री दिखती आई है, वो केमेस्ट्री आपको इस फिल्म में भी दिखेगी। फर्क बस यह है कि हम रोमांस करते नहीं दिखेंगे। फिल्म में हम दोनों मैरिड कपल बने हैं, वो गुजराती हैं और मैं मराठी बनी हूं। लेकिन हमारी आपस में खटपट है। जहां तक अनिल के साथ काम करने की बात है तो वो एकलौते ऐसे एक्टर थे, जो सेट पर भी बहुत धमाल मचाते थे। पहले जिस एनर्जी से वो सेट पर आते थे, आज भी उसी एनर्जी के साथ आते हैं, उन्होंने उसे बरकरार रखा है। वो जिस जोश के साथ तब काम करते थे, आज भी उसी जोश से काम करते हैं। मुझे तो उनमें कोई चेंजेस नहीं नजर आए।

हाल ही में फिल्म ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा’ में जूही कॉमेडी करती दिखीं, अब आप कॉमेडी करती नजर आएंगी। आपको नहीं लगता लोग फिर से आप दोनों को कंपेयर करेंगे?

इसमें कंपैरिजन वाली कोई बात नहीं है। हम कोई डांस स्टेप नहीं कर रहे हैं, जिसे पहले वो करेंगी, फिर मैं करूंगी। जहां ऐसा होता है, वहां कंपैरिजन की बात आती है। मेरे मुताबिक जूही जी की पर्सनालिटी तो कमाल की है। जब वो कॉमेडी करती हैं तो बहुत अच्छी लगती हैं, लेकिन दो एक्टर्स की ऐसी तुलना नहीं करनी चाहिए। कॉमेडी करना या एक्टिंग करना एक आर्ट है, जिसे हर कोई अपने हिसाब से हैंडल करता है।

आपके हिसाब से इंडस्ट्री कितनी बदली है?

मेरे हिसाब से इंडस्ट्री अब वेल ऑर्गनाइज्ड हो गई है और डिसिप्लिंड भी। पहले के अगर कुछ प्रोडक्श न हाउस को छोड़ दिया जाए तो बाकी जगह कब, कहां शूटिंग होनी है, कब खत्म, कुछ तय नहीं होता था। कभी शूटिंग अचानक से बंद भी हो जाती थी। लेकिन आज पहले से बजट रेडी होता है, स्क्रिप्ट तैयार होती है, लुक भी पहले से सेट किया होता है, इससे आर्टिस्ट के लिए काम करना और भी आसान हो जाता है।

पर्सनल-प्रोफेशनल लाइफ में बैलेंस

माधुरी अब एक्टिंग में पूरी तरह एक्टिव हो गई हैं, ऐसे में होममेकर की अपनी जिम्मेदारियों को कैसे निभाती हैं? पूछने पर वह बताती हैं, ‘मैं अपनी प्रॉयोरिटी जानती हूं। मुझे पहले क्या करना है? उसके बाद क्या करना है? मैं इसका खाका तैयार रखती हूं और उसी हिसाब से काम करती हूं। मैं टाइम मैनेजमेंट के जरिए काम सेट करती हूं, जैसे पहले मैंने एक हिंदी फिल्म की, बीच में समय मिला तो मराठी कर ली, अब ‘टोटल धमाल’ और ‘कलंक’ को एक्सेप्ट किया है। मुझे लगता है कि जब हम दोनों लाइफ के बीच बैलेंस बनाना सीख जाते हैं तो सब कुछ अपने आप आसान हो जाता है।’

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top