Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बर्थडे स्पेशल: बेटे की मौत की वजह से खामोश हो गए थे जगजीत सिंह, सिर्फ 30 रुपये में की थी शादी

मशहूर गजल गायक और संगीत की दुनिया के अनमोल नगीने जगजीत सिंह का आज 77 वां जन्मदिन है। जगजीत सिंह के बचपन का नाम जगमोहन था लेकिन पिता के कहने पर उन्होंने अपना नाम बदल लिया।

बर्थडे स्पेशल: बेटे की मौत की वजह से खामोश हो गए थे जगजीत सिंह, सिर्फ 30 रुपये में की थी शादी

संगीत की दुनिया के अनमोल नगीने और गजल सम्राठ के नाम से मशहूर जगजीत सिंह का आज 77वां जन्मदिवस है। जगजीत सिंह का जन्म 8 फरवरी 1941 को राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में हुआ था। जगजीत सिंह आज भले हीं हमारे बीच में न हों पर उनकी गाई हुई गजलें आज भी हमारे जेहन में ताजा हैं।

आपको बता दें कि जगजीत सिंह के बचपन का नाम जगमोहन था लेकिन पिता के कहने पर उन्होंने अपना नाम बदल लिया। म्यूजिक में बचपन से ही उनकी काफी रूचि थी। संगीत की शिक्षा उन्होंने उस्ताद जमाल खान और पंडित छगनलाल शर्मा से हासिल की। लेकिन एक हादसे ने उन्हें खामोश कर दिया था।

बेटे की मौत ने कर दिया खामोश-

जगजीत सिंह ने चित्रा से शादी की थी। हालांकि, चित्रा पहले से शादीशूदा थीं, लेकिन जगजीत सिंह ने चित्रा के पति से ही उन्हीं का हाथ मांग लिया था। चित्रा और जगजीत सिंह ने शादी कर ली। दोनों ने साथ में कई गजलें गायीं। इस जोड़ी का एक बेटा हुआ, विवेक। लेकिन एक कार हादसे में उनके बेटे की मौत हो गई।

ये घटना साल 1990 में घटी थी। उस समय उनके बेचे की उम्र 18 साल थी। बेटे के ऐसे अचानक चले जाने से चित्रा तो जैसे पूरी तरह से टूट गईं थीं और उन्होंने गायकी से दूरी बना ली थी। वहीं जगजीत सिंह भी पूरी तरह से टूट गए थे। उन्हें करीब से जानने वालों का मानना था कि उनकी गजल में जो तड़प और दुख झलकता है, वे इसी हादसे को बयां करता है।

30 रू में हुई थी जगजीत सिंह की शादी-

जगजीत सिंह और चित्रा सिंह की लव स्टोरी भी बहुत दिलचस्प है। जगजीत सिंह चित्रा से बहुत प्यार करते थे लेकिन चित्रा पहले से ही शादी शुदा थी ऐसे में इन दोनों की प्यार की राह इतनी आसान नहीं थी।

लेकिन वक्त गुजरने के साथ चित्रा और उनके पति देबू में दूरिया बढ़ती गई और बाद में दोनों ने रजामंदी से तलाक ले लिया। इन सबमें मजेदार बात यह कि जगजीत ने चित्रा से शादी करने के लिए उनके पहले पति से अनुमति मांगी थी।

चित्रा के पति से मूंजरी मिलने के बाद दोनों ने शादी कर ली। इस शादी का खर्च महज 30 रुपये आया था। तबला प्लेयर हरीश ने पुजारी का इंतजाम किया था और गजल सिंगर भूपिंदर सिंह दो माला और मिठाई लाए थे।

इन गजलों ने बनाया गजल सम्राठ-

जगजीत सिंह के गाये सुपरहिट गानों की लंबी फेहरिस्त में कुछ हैं, होठों से छू लो तुम मेरा गीत अमर कर दो, झुकी झुकी सी नजर, तुम इतना क्यों मुस्कुरा रहे हो, तुमको देखा ता ये ख्याल आया, तेरा घर ये मेरा घर, चिट्ठी ना कोई संदेश, होश वालो को खबर क्या आदि। आज भले ही जगजीत सिंह हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी जादुई आवाज आज भी लोगों को अपना बनाने का दम रखती है।

हर टूटे दिल और पहलू मोहब्बत की आवाज हैं जगजीत सिंह-

आपने जब पहली बार मुहब्बत की होगी, तो वो आपके दिल की आवाज बना होगा। जब पहली बार आपका दिल टूटा होगा, तो उसकी आवाज ने आपका दिल बहलाया होगा। जब आप लंबे सफर पर चले होंगे, तो उस आवाज ने आपकी तन्हाई बांटी होगी। मशहूर गजल गायक जगजीत सिंह ऐसी ही मखमली आवाज के जादूगर थे। उनकी रुहानी आवाज के जादू का हर कोई दीवाना है।

यह भी पढ़ेंः प्रियंका चोपड़ा का बड़ा खुलासा, बताया- एक साल से किसके साथ थीं रिलेशनशिप में

150 से ज्यादा बनाई एलबम-

जगजीत सिंह ने अपने गायकी के करियर में करीब 150 से ज्यादा एल्बम बनाई हैं लेकिन 10 अक्टूबर 2011 में लोगों के दिलों पर राज करने वाली ये आवाज शांत हो गई। साल 2003 में जगजीत सिंह को भारत सरकार की ओर से पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

Next Story
Top