logo
Breaking

Interview : 'जो भी काम करूंगी, वह हटकर होगा': हैली शाह

हैली शाह, स्टार भारत के नए सीरियल ‘सूफियाना प्यार मेरा’ को लेकर इन दिनों चर्चा में हैं। एक लंबे ब्रेक के बाद इस सीरियल को एक्सेप्ट करने की क्या वजह रही? हैली सीरियल में डबल रोल कर रही हैं, क्या इसे अपने लिए चैलेंज मानती हैं? सीरियल में सूफियाना इश्क की बात है, क्या ऐसे इश्क पर भरोसा करती हैं हैली शाह?

Interview :

रेणु खंतवाल : हैली शाह ने टीवी पर कई सीरियल किए हैं। इसमें 'गुलाल', 'अलक्ष्मी-हमारी सुपर बहू', 'खेलती है जिंदगी आंख मिचौली', 'खुशियों की गुल्लक आशी', 'स्वरागिनी', 'देवांशी', 'सावित्री देवी कॉलेज एंड हॉस्पिटल', 'लाल इश्क' जैसे सीरियल शामिल हैं। लेकिन उन्हें सबसे ज्यादा पॉपुलैरिटी मिली सीरियल 'स्वरागिनी' में स्वरा का किरदार निभाकर। वह आज भी स्वरा के किरदार से दर्शकों के बीच पहचानी जाती हैं। इन दिनों हैली शाह सीरियल 'सूफियाना प्यार मेरा' में डबल रोल में नजर आ रही हैं। बातचीत हैली शाह से।

सीरियल 'स्वरागिनी' हिट रहा लेकिन इसके बाद आप टीवी पर बहुत कम नजर आई , इसकी क्या वजह रही?

हां, इस सीरियल में मेरे स्वरा के किरदार को दर्शकों ने खूब पसंद किया। इसके बाद मैं बहुत सोच-समझकर ही कोई किरदार करना चाहती थी। मेरे अपने लिए कुछ अलग प्लान थे, मैं कोई सीरियल बस ऐसे ही नहीं करना चाहती थी। मैंने बहुत सोच-समझकर 'देवांशी' सीरियल किया। यह सीरियल मेरे बाकी सीरियल्स से बहुत अलग था। इसके बाद मैं ऐसा सीरियल करना चाहती थी, जैसा मैंने पहले कभी न किया हो। लेकिन अच्छा ऑफर नहीं मिल रहा था तो मैंने टीवी से कुछ दिन का ब्रेक ले लिया। जब 'सूफियाना प्यार मेरा' की स्क्रिप्ट सुनी तो लगा कि यह सीरियल काफी अलग है।

आखिर क्या खास है, इस सीरियल में?

इस सीरियल के जरिए मैं पहली बार एक मुस्लिम लड़की का किरदार निभा रही हूं। इसमें मेरा डबल रोल है। मेरे किरदारों के नाम हैं, सल्तनत और कायनात। सल्तनत एक मॉडर्न लड़की है, वह बहुत कॉन्फिडेंट है। अपने उसूलों के हिसाब से ही जिंदगी जीती है, किसी बात पर आंख बंद करके यकीन नहीं करती है। वह हर बात के पीछे का कारण जानना चाहती है। सही बात को जानने के बाद ही वह अपने नजरिए और तरीके से उन बातों को अपनी जिंदगी में शामिल करती है। प्यार के मामले में भी वह अपने उसूलों को पहले रखती है। वह थोड़ी-सी जिद्दी भी है। कायनात के किरदार के बारे में अभी कुछ नहीं बता सकती हूं। लेकिन यह जरूर कहूंगी कि यह बहुत ही खूबसूरत कहानी है, जो दर्शकों को पसंद आएगी।

अकसर देखा गया है कि जब कोई एक्टर इंडस्ट्री से ज्यादा वक्त तक दूर रहता है तो दर्शक उनको भूल जाते हैं। क्या इस तरह का डर आपको नहीं लगा?

बिल्कुल नहीं। दरअसल, मैं अपने काम को लेकर बहुत चूजी हूं। मुझे अपनी पसंद का जो काम करना है, मैं वही करूंगी। 'देवांशी' के बाद मुझे कई रोल ऑफर हुए, जिन्हें मैंने मना कर दिया। मुझे अपने आप पर भरोसा था और है। मेरा मानना है कि जब आपको अपने काम पर भरोसा होता है, आप अपना काम ईमानदारी से करते हैं, तो कोई डर नहीं लगता है।

आप सीरियल में डबल रोल कर रही हैं। क्या इसके लिए किसी डबल रोल वाली मूवी का रेफरेंस लिया?

बिल्कुल नहीं। मुझे किसी भी मूवी को रेफरेंस के तौर पर नहीं लेना था। मैं अपने दोनों किरदारों को अलग पहचान देना चाहती थी। इसलिए मैंने ऐसा कुछ न देखा, न पढ़ा। मुझे गाइड करने के लिए सीरियल के राइटर और अलग से पूरी टीम है।

सीरियल का नाम 'सूफियाना प्यार मेरा' है। इस कॉन्सेप्ट से आप कितना कनेक्ट करती हैं?

हां, इस सीरियल में जो प्यार दिखाया जाएगा, उसमें सूफियानापन होगा। प्यार को अलग ही अंदाज में दिखाया जाएगा। मैं भी इस कॉन्सेप्ट से कनेक्ट फील करती हूं। सूफी शब्द शांति, सुकून का अहसास कराता है, वहीं प्यार जिंदगी को खुशियों से भर देता है। सोचिए जब प्यार सूफियाना होगा तो जिंदगी भी खुशहाल-खूबसूरत हो जाएगी।

आगे आप किस तरह के रोल करना चाहेंगी?

अभी तो अपने सीरियल 'सूफियाना प्यार मेरा' में ही बिजी हूं। इस प्रोजेक्ट के बाद आगे कुछ सोचूंगी। हां, इतना तय है कि जो भी काम करूंगी, वह हटकर होगा और दर्शकों को जरूर पसंद आएगा।

Share it
Top