Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शाहरुख की ये अभिनेत्री हुई नकली नोटों का शिकार, बार-बार कहने लगी ''चल जा बापू''

हर्षिता भट्ट ने शाहरुख खान की फिल्म ‘अशोक’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। इस फिल्म से उन्हें अच्छी पहचान मिली। लेकिन फिल्म ‘अशोक’ के बाद रिलीज हुई उनकी फिल्मों को बड़ी सफलता नहीं मिली।

शाहरुख की ये अभिनेत्री हुई नकली नोटों का शिकार, बार-बार कहने लगी

हर्षिता भट्ट ने शाहरुख खान की फिल्म ‘अशोक’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। इस फिल्म से उन्हें अच्छी पहचान मिली। लेकिन फिल्म ‘अशोक’ के बाद रिलीज हुई उनकी फिल्मों को बड़ी सफलता नहीं मिली।

इसके बावजूद हर्षिता लगातार फिल्मों में एक्टिव हैं। जल्द ही वह एक फिल्म ‘चल जा बापू’ में नजर आएंगी। इसमें उनके अपोजिट ‘बिग बॉस-2’ के विनर रह चुके आशुतोष कौशिक हैं।

फिल्म ‘चल जा बापू’ के बारे में हर्षिता भट्ट बताती हैं, ‘नकली नोट की समस्या को इस फिल्म में बहुत दिलचस्प ढंग से दिखाया गया है। फिल्म ‘चल जा बापू’ आम आदमी के आर्थिक और सामाजिक संघर्ष पर आधारित है।

इसमें मेरे किरदार का नाम पल्लवी है। पल्लवी छोटे शहर की लड़की है। घुमक्कड़ और बिंदास आशु (आशुतोष कौशिक) को फिल्म में पल्लवी से प्यार हो जाता है। वह पल्लवी से शादी कर लेता है।

लेकिन आशु के कुछ काम-काज न करने की वजह से पल्लवी बहुत नाराज रहती है। वह अपनी तरह से उसे बदलने की कोशिश करती है।’ फिल्म में हर्षिता ने एक छोटे शहर की लड़की का रोल किया है, इस रोल को करना उनके लिए थोड़ा मुश्किल रहा, क्योंकि वह मुंबई में पली-बढ़ी हैं।

हर्षिता कहती हैं, ‘मैं मुंबई की लड़की हूं और सहारनपुर जैसे छोटे शहरों को मैंने देखा नहीं है। वहां से बिलॉन्ग करने वाले किरदारों को निभाना, समझना कई बार ज्यादा मेहनत का काम हो जाता है।

उस तरह की बॉडी लैंग्वेज पकड़ना और फिर वैसी भाषा का इस्तेमाल करना भी अपने आप में एक चैलेंज होता है। लेकिन एक कलाकार को तो अपना किरदार ऐसा निभाना चाहिए, जो दर्शकों को रियल लगे।

मैंने भी अपनी तरह से स्मॉल टाउन गर्ल के रोल को निभाने की पूरी कोशिश की है। इसमें फिल्म के डायरेक्टर और राइटर की गाइडेंस बहुत काम आई।’ हर्षिता का मानना है कि फिल्म ‘चल जा बापू’ दर्शकों को पसंद आएगी।

फिल्म का सब्जेक्ट आसानी से उनसे कनेक्ट करेगा। वह कहती हैं, ‘यह फिल्म असल घटनाओं पर आधारित है। किसी के पास जब 500 का नकली नोट आता है और वह उसे चलाने की कोशिश करता है तो क्या-क्या सिचुएशन पैदा हो सकती है।

फिल्म में हमने उन्हीं सिचुएशंस को कॉमिक अंदाज में दिखाया है। हमारी फिल्म के हीरो आशुतोष के दिमाग में इस फिल्म की कहानी का कॉन्सेप्ट आया था। उनके साथ भी यह घटना हो चुकी थी, यानी एक बार नकली नोट उनके हाथ भी लग गया था।

उसी को बेस बनाकर हमारी फिल्म की कहानी लिखी गई है। मुझे लगता है कि इस फिल्म की कहानी दर्शकों को पसंद आएगी, क्योंकि इसमें कॉमेडी के साथ थोड़ा बहुत ड्रामा भी है। बेहतरीन संगीत है।

यह पूरी तरह एक मनोरंजक फिल्म है। मैं भी लंबे समय से एक अच्छी कॉमेडी फिल्म करना चाहती थी। इस फिल्म को करके मेरी वह ख्वाहिश पूरी हो गई।’फिल्म में आशुतोष कौशिक के साथ वर्किंग एक्सपीरियंस भी हर्षिता के लिए काफी यादगार रहे।

वह बताती हैं, ‘आशुतोष के साथ काम करना बहुत ही अच्छा रहा। हालांकि यह उनकी पहली फिल्म है लेकिन वह ‘बिग बॉस’ जैसे रियालिटी शो के विजेता रह चुके हैं। हमारे बीच शुरू से आखिर तक एक केमिस्ट्री कायम रही।

आशुतोष ने पूरी शूटिंग के दौरान बहुत सपोर्ट किया, जिस वजह से मैं अपने रोल को ठीक तरह से निभा पाई। वह वंडरफुल एक्टर और बेहतरीन को-एक्टर साबित हुए। उन्होंने भी अपने पार्ट को बखूबी फिल्म में निभाया है।’

‘चल जा बापू’ की तरह इन दिनों कई इश्यू बेस्ड फिल्में भी बन रही हैं। फीमेल सेंट्रिक फिल्में भी लगातार देखने को मिल रही हैं। इस चेंज को हर्षिता एक एक्टर के लिए पॉजिटिव मानती हैं।

वह कहती हैं, ‘मैं मानती हूं कि आज का दौर सभी एक्टर्स, डायरेक्टर्स के लिए बेहद अच्छा है। खासकर एक्ट्रेसेस के लिए बॉलीवुड में यह शानदार समय है। आज के दर्शक एक्सपेरिमेंटल फिल्मों को पसंद कर रहे हैं। सिनेमा में आए इस बदलाव से मैं बहुत खुश हूं।’

हर्षिता भट्ट को बॉलीवुड में 17 साल हो गए हैं। अब तक की अपनी जर्नी से वह काफी खुश हैं। वह कहती हैं, ‘मैं अपने फैंस का शुक्रिया अदा करती हूं कि शायद उनकी दुआएं हमेशा मेरे साथ रही हैं।

इस वजह से ही मुझे हमेशा ऐसी फिल्में मिली, जिनमें अच्छे किरदार निभाने का मौका मिला। मेरा तो यही मानना है कि लगातार काम करते रहो, चुनौतियां स्वीकार करो, सफलता जरूर मिलेगी।’

Next Story
Top