Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Exclusive Interview: जान्हवी कपूर की इस हरकत से श्रीदेवी भी हो गई थी परेशान

फिल्म ‘धड़क’ से जान्हवी कपूर की अच्छी शुरुआत हुई है। लेकिन अभी बॉलीवुड में अलग मुकाम बनाने में उन्हें लंबा सफर तय करना है। इस सफर में बार-बार उनका कंपैरिजन, मां श्रीदेवी से होगा, इस बात को जान्हवी भी समझती हैं। इसके लिए वह पूरी तरह से तैयार हैं।

Exclusive Interview: जान्हवी कपूर की इस हरकत से श्रीदेवी भी हो गई थी परेशान
X

फिल्म ‘धड़क’ से जान्हवी कपूर की अच्छी शुरुआत हुई है। लेकिन अभी बॉलीवुड में अलग मुकाम बनाने में उन्हें लंबा सफर तय करना है। इस सफर में बार-बार उनका कंपैरिजन, मां श्रीदेवी से होगा, इस बात को जान्हवी भी समझती हैं। इसके लिए वह पूरी तरह से तैयार हैं। एक्टिंग, स्टारडम और अपनी मां से जुड़ी फीलिंग्स को बयां कर रही हैं, जान्हवी कपूर।

अपने समय की शानदार एक्ट्रेस थीं श्रीदेवी। वह अपनी बेटी जान्हवी को भी इंडस्ट्री में लाने के लिए तैयार कर रही थीं। लेकिन अचानक उनका निधन हो गया। हाल में ही जान्हवी की पहली फिल्म ‘धड़क’ रिलीज हुई है। शशांक खेतान डायरेक्टेड इस फिल्म में जान्हवी के अपोजिट शाहिद कपूर के स्टेप ब्रदर ईशान खट्टर हैं।

लेकिन जब से फिल्म रिलीज हुई है, जान्हवी की चर्चा ज्यादा हो रही है। बॉलीवुड की उम्मीदें उनसे बढ़ गई हैं। जान्हवी भी आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं। दरअसल, जिस माहौल में उनकी परवरिश हुई है, उससे उन्होंने बॉलीवुड और फिल्मों के बारे में पहले ही बहुत कुछ जान लिया है।

जान्हवी कहती हैं, ‘एकमात्र चीज जो मैं जानती हूं, वह सिनेमा ही है। मेरे अब तक के जीवन में इसके अलावा कोई एक्सपोजर है ही नहीं। मेरे लिए सिनेमा और कला पर बातें करना सामान्य जीवन का हिस्सा है। मैंने इस बात को भी समझ लिया है कि बॉलीवुड इंडस्ट्री में किस तरह से व्यवहार करना है और क्या नहीं करना है।’

जान्हवी की फैमिली में सिनेमा को लेकर सबकी अलग-अलग पसंद रही है। श्रीदेवी एनिमेटेड और हॉलीवुड फिल्में ही देखना ज्यादा पसंद करती थीं। उनकी छोटी बेटी खुशी को भी यही पसंद है, जबकि जान्हवी की पसंद अलग और मैच्योर है। जान्हवी बताती हैं, ‘स्कूल के बाद हमारी शामें हमेशा फिल्म देखने के लिए ही रिजर्व रहती थीं।

मम्मी और खुशी से मेरा झगड़ा होता था, क्योंकि मुझे पुरानी क्लासिक फिल्में देखना पसंद है, जबकि खुशी को हॉलीवुड फिल्में देखना पसंद है। मेरा मानना है कि पुरानी इंडियन क्लासिक फिल्में अपने समय से आगे की हैं। हाल ही में मैंने ‘मिस्टर एंड मिसेस 55’ (1955) देखी, कमाल की फिल्म है।

‘मदर इंडिया’ (1957), ‘पाकीजा’ (1972) और ‘चालबाज’ (1989) भी अपने समय से आगे की फिल्में हैं। दिलचस्प यह है कि इन फिल्मों को कभी भी वूमेन ओरिएंटेड फिल्मों का टैग नहीं मिला, यह सिर्फ अच्छी फिल्मों के तौर पर ही जानी जाती हैं। उस दौर की एक्ट्रेसेस में मधुबाला जी में तो गजब का जादू था, मैं उनकी दीवानी हूं।’

हालांकि जान्हवी ने बॉलीवुड में अभी डेब्यू किया है और श्रीदेवी को लंबे समय के बाद अच्छी एक्ट्रेस होने का दर्जा हासिल हुआ था, लेकिन दोनों के बीच तुलना किया जाना स्वाभाविक है। इस बारे में जान्हवी कहती हैं, ‘पहले मैं इस बारे में ज्यादा नहीं सोचती थी, लेकिन मुझसे हमेशा यही सवाल किया जा रहा है।

मैं अच्छी तरह जानती हूं कि मॉम ने जो कुछ हासिल किया, उसे पाना आसान नहीं है। उन्होंने लगभग 300 फिल्में की हैं। हर फिल्म जीवन भर का अनुभव होती है, तो कल्पना कीजिए यह कितने जीवन हो गए। मैं सिर्फ अपने पैरेंट्स को प्राउड फील कराना चाहती हूं। हां, मैं उम्मीद करती हंं कि मेरी एक्टिंग को लोग पसंद करें। मैं सिर्फ एक बात का वादा कर सकती हूं कि ईमानदारी से, पूरी मेहनत और लगन से एक्टिंग करूंगी।’

मां श्रीदेवी के जाने के बाद वह परिवार को लेकर बहुत ज्यादा प्रोटेक्टिव हो गई हैं। फिल्मों में आने से पहले जान्हवी को उनकी मॉम सलाह दिया करती थीं। उनके जाने के बाद अब पापा बहुत सपोर्ट करते हैं, खूब प्यार देते हैं। लेकिन सलाह देने का काम अब स्टेप सिस्टर अंशुला और रियल सिस्टर खुशी करती हैं। जान्हवी भावुक होकर बताती हैं, ‘दोनों बहनें सच्ची और साफ राय देती हैं। फिर चाहे मुझे अच्छा लगे या बुरा। मेरे परिवार ने हमेशा मुझे सपोर्ट किया है, यही मेरी स्ट्रेंथ है।’

किस्से बनाने में माहिर

बचपन में जान्हवी अपने आपको एक एक्टर के रूप में नहीं देखती थीं, उनकी मां भी नहीं चाहती थीं कि वह एक्ट्रेस बनें। लेकिन बाद में जान्हवी को लगने लगा कि वह एक्ट्रेस बन सकती हैं। स्कूल के दिनों में ही वह अजीबो-गरीब कहानियां बनाकर ऐसी एक्टिंग किया करती थीं कि सब चौंक जाते। एक बार उन्होंने अपने फ्रेंड्स से कह दिया कि हॉलीवुड की फेमस डांसर शकीरा मुंबई में उन्हें बेली डांसिंग सिखाने के लिए आई थीं।

इसलिए अब वह अपने फ्रेंड्स को भी यह डांस सिखा सकती हैं। इसके बाद दोस्तों के पैरेंट्स ने श्रीदेवी को कॉल किया, ‘आपने शकीरा को बुलाया था? वह कैसी है? क्या आप जान्हवी को हमारे घर भेज सकती हैं, जिससे वह हमारी बेटी को भी शकीरा वाला डांस सिखा दे?’ यह सुनकर उनकी मॉम आश्चर्य में पड़ जातीं और जान्हवी खूब मजे लेतीं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top