logo
Breaking

सीरियस एक्टिंग से बहुत टफ है कॉमेडी करना: देबिना बनर्जी

देबिना बनर्जी इन दिनों सीरियल ‘डॉक्टर मधुमति ऑन ड्यूटी’ को लेकर चर्चा में है।

सीरियस एक्टिंग से बहुत टफ है कॉमेडी करना: देबिना बनर्जी
मुंबई. सब टीवी के कॉमेडी सीरियल ‘डॉक्टर भानुमति ऑन ड्यूटी’ का नाम ‘डॉक्टर मधुमति ऑन ड्यूटी’ हुआ तो सीरियल के लीड कैरेक्टर कविता कौशिक की जगह देबिना बनर्जी नजर आने लगीं। लेकिन देबिना इसे रिप्लेसमेंट नहीं मानतीं। फिर भी उन्होंने सीरियल में मधुमति का लीड रोल क्या सोचकर एक्सेप्ट किया? इसे करना उनके लिए कितना चैलेंजिंग रहा? सीरियल से जुड़ी खुली-खुली बातें देबिना बनर्जी से।
सबसे पहले यह बताइए कि कविता कौशिक को रिप्लेस कर कैसा फील कर रही हैं?
कविता कौशिक को रिप्लेस करने जैसी कोई बात ही नहीं है। कैरेक्टर बिल्कुल सेम होता तो मैं इसे रिप्लेसमेंट मान लेती, लेकिन यहां मेरा कैरेक्टर ही नहीं, पूरी कहानी भी चेंज हो गई है। शो का नाम भी ‘डॉक्टर मधुमति ऑन ड्यूटी’ रखा गया है। सिमिलैरिटी एक ही है कि मैं भी डॉक्टर बनी हूं। इसलिए भी मुझे रिप्लेसमेंट वाली फीलिंग नहीं आ रही है।
अगर आपको कविता कौशिक का ही रिप्लेसमेंट करना होता तो क्या यह शो एक्सेप्ट करतीं?
एक्चुअली, ऐसा हुआ नहीं है, तो इस पर मैं कुछ कमेंट नहीं करना चाहूंगी।
वैसे कविता कौशिक के बारे में क्या कहेंगी? क्या शो एक्सेप्ट करने से पहले उनसे बात हुई थी?
उनके बारे में क्या कहूं। वो बहुत अच्छी एक्ट्रेस हैं। उन्होंने अपने दम पर अपना एक अलग मुकाम हासिल किया है। शो एक्सेप्ट करने से पहले उनसे बात करने का कोई मतलब भी नहीं था। शो में मेरा कैरेक्टर पूरी तरह बदल गया है।
क्या सोचकर यह सीरियल करना एक्सेप्ट किया?
पहली बात तो यह कि मैंने पहले कभी डॉक्टर का रोल प्ले नहीं किया था। कॉमेडी मैंने पहले भी की है, लेकिन रोमांटिक कॉमेडी मैं पहली बार कर रही हूं। इसकी स्टोरी लाइन और मेरा कैरेक्टर काफी इंट्रेस्टिंग है।

शो में आपका कॉमेडी का अंदाज किस तरह का है?
इसमें मेरा कॉमेडी का अंदाज बिल्कुल हटकर है। मैं सख्त मिजाज की डॉक्टर हूं। धोखा खाने के बाद अब वो प्यार में बिलीव नहीं करती है। देखना होगा कि क्या वो आगे भी ऐसी ही बनी रहती है या कोई उसके दिल में जगह बना पाता है। जैसे-जैसे सीरियल आगे बढ़ेगा, इसकी कॉमेडी में मजा बढ़ता ही चला जाएगा।
आपको इस शो के लिए बहुत कम वक्त मिला, ऐसे में अपने कैरेक्टर के लिए तैयारी करना कितना चैलेंजिंग रहा?
यह सही है कि मुझे तैयारी का टाइम कम मिला, लेकिन पूरी टीम ने शो को बहुत अच्छे से हैंडल किया, इसलिए मुझे भी कोई परेशानी नहीं हुई।

सीरियल में आपके साथ विपुल राय भी नजर आ रहे हैं, उनके बारे में क्या कहेंगी?
शो में वो डॉक्टर मोहन का कैरेक्टर प्ले कर रहे हैं। बहुत ही शानदार एक्टर हैं विपुल।

कॉमेडी को कितना आसान मानती हैं आप?
कॉमेडी करना कतई आसान नहीं है। खुद का मजाक उड़ाना या ऐसी सिचुएशन में हंसाना, जो नॉर्मल नहीं होती, बहुत ही मुश्किल काम है। सीरियस एक्टिंग से बहुत टफ है कॉमेडी करना।
किस जॉनर में आप खुद को फिट पाती हैं?
बतौर एक्टर मैं हर जॉनर में काम करना चाहती हूं। बहुत ज्यादा कंफर्ट हो जाने से एक्टर का स्कोप भी खत्म हो जाता है। इसलिए मैं हमेशा नया-फ्रेश करने की कोशिश करती हूं। सीरियल ‘रामायण’ में सीता का रोल करने के बाद भी मैं इस तरह के धार्मिक रोल के जॉनर में नहीं फंसी। एक्चुअली, मुझे जितना नया करने को मिलता है, मैं बहुत ज्यादा एक्साइटेड हो जाती हूं। जो एक्टर कंफर्ट जोन में फंस जाते हैं, उनके लिए चैलेंज खत्म हो जाता है। जहां चैलेंज खत्म तो फिर आपका इंट्रेस्ट भी खत्म हो जाता है। इसलिए मैं हमेशा चैलेंजिंग कैरेक्टर करने में बिलीव करती हूं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top