Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जब श्रीकृष्ण बने शशि कपूर, मगर फिल्म नहीं बनी

शशि कपूर को भले ही श्रीकृष्ण बनने का दूसरा मौका नहीं मिला परंतु रामानंद सागर को वक्त ने एक और मौका दिया। जब उनका सीरियल रामायण जबर्दस्त रूप से सफल हुआ। तब उन्होंने कई साल बाद फिर से यह विषय उठाया और सीरियल श्रीकृष्ण बनाया।

जब श्रीकृष्ण बने शशि कपूर, मगर फिल्म नहीं बनी
X

इन कोरोना-दिनों में दूरदर्शन पर रामायण और महाभारत के पुनर्प्रसारण के साथ परिवारों में इन महान ग्रंथों की खूब चर्चा है। साथ ही धारावाहिक रामायण के निर्माता-निर्देशक रामानंद सागर भी सबको याद आ रहे हैं। रामायण सीरियल बनाने से पहले भी रामानंद सागर ने फिल्म पर्दे पर धर्म की धारा बहाने की कोशिश की थी परंतु तब उनका प्रयास नाकाम रहा। बॉलीवुड इतिहास के पन्ने खंगालने पर पता चलता है कि रामानंद सागर ने 1978-79 में, भगवान श्रीकृष्ण पर फिल्म की योजना बनाई थी, जिसका नाम रखा था योगेश्वर श्रीकृष्ण। फिल्म के लिए रामानंद सागर ने उस दौर के सितारे शशि कपूर को भगवान श्रीकृष्ण के रोल के लिए साइन किया। फिल्म का मुहूर्त मुंबई के नटराज स्टूडियो में भव्य अंदाज में हुआ था। जिसमें शशि कपूर के बड़े भाई राजकपूर, राजश्री प्रोडक्शंस के सर्वेसर्वा ताराचंद बड़जात्या के साथ राजनीति के दिग्गज भी शामिल हुए थे। इससे समझा जा सकता है कि यह रामानंद सागर का कितना महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट था।

मुहूर्त पर शशि कपूर श्रीकृष्ण के रूप में सजे मंच पर प्रकट हुए थे। इस मुहूर्त में लोगों के लिए एक बड़ा आकर्षण तत्कीन गृहमंत्री मोरारजी देसाई थे। पक्के गांधीवादी मोरारजी देसाई आम तौर पर फिल्मों के विरोधी थे परंतु उनके मुहूर्त में आने की दो वजहें थीं। एक तो भगवान श्रीकृष्ण, जिनकी द्वारका गुजरात में थी और दूसरा कारण उनके साथी नेता लालकृष्ण आडवणी। आगे जाकर प्रधानमंत्री बने मोरारजी देसाई गुजरात से थे। कुछ लोगों का यह भी कहना है कि योगेश्वर श्रीकृष्ण की स्क्रिप्ट और संवाद आडवाणी लिख रहे थे। उल्लेखनीय है कि आडवाणी को हमेशा ही सिनेमा से प्यार रहा है और ए एक जमाने में वह फिल्मों की समीक्षाएं भी लिखा करते थे। मोरारजी देसाई रामानंद सागर के श्रीकृष्ण पर फिल्म बनाने की बात से बेहद खुश थे। उन्होंने शशि कपूर को श्रीकृष्ण की वेशभूषा में पसंद भी किया। लेकिन आगे जाकर किन्हीं कारणों से यह फिल्म नहीं बन पाई और डिब्बे में बंद हो गई। शशि कपूर को भी इस बात का मलाल रहा कि यह फिल्म बंद हो जाने के कारण वह पर्दे पर श्रीकृष्ण का रोल नहीं निभा सके।

शशि कपूर को भले ही श्रीकृष्ण बनने का दूसरा मौका नहीं मिला परंतु रामानंद सागर को वक्त ने एक और मौका दिया। जब उनका सीरियल रामायण जबर्दस्त रूप से सफल हुआ। तब उन्होंने कई साल बाद फिर से यह विषय उठाया और सीरियल श्रीकृष्ण बनाया। जो दूरदर्शन पर रामायण की तरह ही सफल रहा। फिल्म इतिहास के पन्ने यह भी बताते हैं कि रामानंद सागर ने योगेश्वर श्रीकृष्ण में शशि कपूर के साथ अन्य सितारों को भी साइन किया था। फिल्म अगर बनती धर्मेंद्र, विनोद खन्ना, जीवन, अमजद खन और हेमा मालिनी क्रमशः भीम, कर्ण, शकुनी, दुर्योधन और द्रोपदी के रोल में नजर आते।

Next Story