Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Subhash Chandra Bose Jayanti: सुभाष चंद्र बोस के ये 10 अनमोल विचार, जो बदल देंगे आपकी जिंदगी का नजरिया

Subhash Chandra Bose Jayanti: 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती है। उनका जन्म 23 जनवरी 1897 में हुआ। भारत को आजाद कराने में सुभाष चंद्र बोस की अहम भूमिका रही है। जन्मदिन के मौके पर उनके अनमोल विचारों को जरूर पढ़े। ये अनमोल विचार आपकी जिंदगी बदल देंगे।

Subhash Chandra Bose Jayanti: सुभाष चंद्र बोस के ये 10 अनमोल विचार, जो बदल देंगे आपकी जिंदगी का नजरिया

आजाद हिंद फौज (Azad Hind Fauj) के संस्थापको में से एक नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) की 23 जनवरी को बर्थ एनिवर्सरी (Netaji Subhash Chandra Bose Birth Anniversary) है।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने भारत की आजादी (Indian Freedom Struggle) की लड़ाई में अहम भूमिका निभाई थी। सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose Birthday) का जन्मदिन 23 जनवरी 1897 (23 January 1897) को कट्टक (Cuttack) में हुआ था।

नेताजी ने 1922 में स्वराज (Swaraj Newspaper) नाम का एक अखबार निकाला। जिसके बाद उन्होंने भारत को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्ति दिलाने के लिए जी-तोड़ मेहनत की और 1942 में Indian National Army का गठन किया।

लेकिन 18 अगस्त 1945 को ताईवान में हुए प्लैन क्रैश में सुभाष चंद्र बोस (Subash Chandra Bose Death) की मृत्यु हो गई। लेकिन कहा जाता रहा कि प्लैन क्रैश में उनकी मृत्यु नहीं हुई बल्कि वह जिंदा हैं।

लेकिन आज भी उनकी मौत का राज अनसुलझा है कि उस प्लैन क्रैश में उनकी मौत हुई थी या नहीं। आईये उनके जन्मदिन के मौके पर जानते हैं, ऐसे ही 10 विचारों के बारे में...


  1. तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा।
  2. सफलता, हमेशा असफलता के स्‍तंभ पर खड़ी होती है।
  3. मेरा अनुभव है कि हमेशा आशा की कोई न कोई किरण आती है, जो हमें जीवन से दूर भटकने नहीं देती।
  4. जिस व्यक्ति के अंदर 'सनक' नहीं होती वो कभी महान नहीं बन सकता. लेकिन उसके अंदर, इसके आलावा भी कुछ और होना चाहिए।
  5. जो अपनी ताकत पर भरोसा करते हैं, वो आगे बढ़ते हैं और उधार की ताकत वाले घायल हो जाते हैं।
  6. हमारा सफर कितना ही भयानक, कष्टदायी और बदतर हो, लेकिन हमें आगे बढ़ते रहना ही है. सफलता का दिन दूर हो सकता हैं, लेकिन उसका आना अनिवार्य ही है।
  7. मां का प्यार सबसे गहरा होता है- स्वार्थरहित. इसको किसी भी तरह से मापा नहीं जा सकता।
  8. याद रखिए सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है।
  9. ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं. हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिले, हमारे अंदर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए।
  10. जो सिपाही देश के प्रति वफादार रहता है, जो अपना जीवन बलिदान करने को तैयार रहा है, वह अजेय है।

Next Story
Top