Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बॉम्बे हाईकोर्ट में बोलीं BMC, 'गैरकानूनी तरीके से पैसा कमाना चाहते है सोनू सूद, नियम तोड़ने की बन गई है आदत'

बीएमसी की ने कहा कि सोनू सूद अवैध निर्माण के मामले में लगातार नियम तोड़ते रहते है। बीएमसी ने कोर्ट को 16 पेज का हलफनामा पेश किया। इस हलफनामे में बीएमसी ने विस्तार से बताया कि किस तरह सोनू सूद ने उनके नोटिस का नजरअंदाज किया।

बॉम्बे हाईकोर्ट में बोलीं BMC, गैरकानूनी तरीके से पैसा कमाना चाहते है सोनू सूद, नियम तोड़ने की बन गई है आदत
X

बीएमसी यानी बृह्नमुंबई नगर निगम ने सोनू सूद के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में हलफनामा दिया। इस हलफनामे में बीएमसी ने कहा कि सोनू सूद आदतन अपराधी है और गैरकानूनी तरीके से पैसा कमाना चाहते है। बीएमसी की ने कहा कि सोनू सूद अवैध निर्माण के मामले में लगातार नियम तोड़ते रहते है। बीएमसी ने कोर्ट को 16 पेज का हलफनामा पेश किया। इस हलफनामे में बीएमसी ने विस्तार से बताया कि किस तरह सोनू सूद ने उनके नोटिस का नजरअंदाज किया।

जानकारी के मुताबिक, बीएमसी ने अपने हलफनामे में सोनू सूद पर आरोप लगाया गया है कि सोनू इस अवैध निर्माण के जरिए पैसे कमाना चाहते है। इसी वजह से उन्होंने लाइसेंस नहीं लिया और बिना मंजूरी रिहायशी बिल्डिंग को होटल में तब्दील कर दिया। आपको बता दें कि हाल ही मे बीएमसी ने पुलिस में एक्टर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें बीएमसी ने दावा किया कि सोनू ने जुहू में स्थित 6 मंजिला रियायशी बिल्डिंग को होटल में तब्दील कर दिया है। तब्दील करने से पहले एक्टर ने कोई परमिशन नहीं ली थी।

आपको बता दें कि पिछले साल यानी 2020 के अक्टूबर महीने में सोनू सूद ने नोटिस जारी किया था। इस नोटिस को सोनू सूद ने कोर्ट में चुनौती दी। लेकिन उनकी याचिका खारिज हो गई। इसके बाद सोनू ने बॉम्बे हाईकोर्ट का रुख दिया और कोर्ट ने बीएमसी से हलफानामा दाखिल करने को कहा। बीएमसी का कहना है कि वो सोनू सूद के खिलाफ पहले ही दो बार कार्रवाई कर चुके है। बावजूद इसके उन्होंने अवैध निर्माण का काम जारी रखा। साल 2018 के सितंबर में बीएमसी ने उनके खिलाफ विध्वंस की कार्रवाई की थी। इसके बाद 12 नवंबर 2018 को भी अवैध निर्माण बताकर ध्वस्त किया था।

Next Story