Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

प्रियंका चोपड़ा की ऑनस्क्रीन बेटी को 2 साल बाद मिला इंसाफ, मोलेस्ट करने वाले को 3 साल की जेल

बॉलीवुड एक्ट्रेस जायरा वसीम (zaira wasim) के मोलेस्टेशन केस में आज मुंबई (Mumbai) के कोर्ट ने आरोपी विकास सचदेवा (Vikash Sachdeva) का तीन साल की सजा सुना दी है।

प्रियंका चोपड़ा की ऑनस्क्रीन बेटी को 2 साल बाद मिला इंसाफ, मोलेस्ट करने वाले को 3 साल की जेल

'द स्काई इज पिंक' में प्रियंका चोपड़ा की ऑनसक्रीन बेटी और 'दंगल' फिल्म की एक्ट्रेस जायरा वसीम के 2 साल पहले मोलेस्टेशन केस का अब फैसला आ गया है। इस मामले में मुबंई की डिंडोशी कोर्ट ने पॉक्सो एक्ट की धारा 8 और 354 के तहत विकास सचदेवा को दोषी करार दिया है। कोर्ट ने विकास सचदेवा को 3 साल की सजा सुनाई है। आपको बता दें कि 10 दिसम्बर 2017 को जायरा वसीम ने मुंबई का रहने वाले विकास सचदेवा पर आरोप लगाया था कि उन्होंने फ्लाइट में उन्हें गलत तरीके से छुआ। उस वक्त जायरा वसीम की उम्र 17 साल थीं यानी वो नाबालिग थीं, इसलिए कोर्ट ने पॉस्को एक्ट के तहत सजा सुनाई है।

जानकारी के मुताबिक, साल 2017 के दिसंबर में जायरा वसीम फ्लाइट से नई दिल्ली से मुंबई आ रही थीं। उस वक्त विकास सचदेवा, जायरा वसीम के पीछे वाली सीट पर बैठा था। आरोप था कि पीछे वाली सीट से विकास ने पैर आगे किया और जायरा के कंधे पर पैर से गलत तरीके से छुआ। वहीं विकास का कहना है कि वो फ्लाइट में सोने की कोशिश कर रहे थे, उनका पैर गलती से टच हुआ वो मोलेस्ट नहीं कर रहे थे। जायरा वसीम ने इसको लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया था। इस वीडियो में रोते हुए जायरा ने कहा कि एक व्यक्ति ने मेरी ढाई घंटे की यात्रा को नर्क बना दिया। मैं इस घटना को फोन में रिकॉर्ड करना चाहती थी, लेकिन कम रोशनी के कारण ऐसा नहीं कर पाई। ये हरकत पांच से दस मिनट तक जारी रही... मैं समझ गई कि वो छेड़खानी कर रहा... पीछे वाली सीट पर बैठा व्यक्ति अपने पैर को बार-बार ऊपर नीचे कर रहा था.. कभी गर्दन पर तो कभी पीठ को छूने का प्रयास कर रहा था..'


वहीं मामले को लेकर अपने रिपोर्ट में विस्तारा एयरलाइंस ने कहा कि फ्लाइट में मॉलस्टेशन जैसा कुछ नहीं दिखा था... आरोपी बिजनेसमैन विकास सचदेवा ने केबिन क्रू से कंबल मांगते हुए डिस्टर्ब ना करने की बात कही थी। उसने फ्लाइट में खाना भी नहीं लिया था.. पूरे सफर में कंबल डालकर सोया हुआ था। वहीं, लैंडिंग के दौरान जायरा आरोपी पर चिल्लाने लगी। केबिन क्रू ने जायरा से बात करने की कोशिश की, लेकिन वह वहां से चली गईं। इसके बाद क्रू को जायरा की मां ने घटना के बारे में बताया।


चलिए, आपको बताते हैं कि पॉक्सो एक्ट क्या है?.. दरअसल, पॉक्सो POCSO एक्ट यानी The Protection Of Children From Sexual Offences Act...है। पॉक्सो एक्ट को बच्चों के प्रति यौन उत्पीड़न और यौन शोषण जैसे अपराधों को रोकने के लिए, महिला और बाल विकास मंत्रालय ने बनाया था। इस कानून के तहत अलग-अलग अपराध के लिए अलग-अलग सजा तय की गई है। ये एक्ट तब लगता है जब बच्चे की उम्र 18 साल के कम यानी वो नाबालिग होता है।​

Next Story
Top