Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मल्टीप्लेक्स मालिकों ने विशेष थियेटर शो की पुरजोर वकालत की

सिनेमा उद्योग के रिवाज के अनुसार, फिल्म रिलीज होने के बाद के शुरुआती आठ सप्ताह विशेष रूप से सिनेमा हॉल में शो के लिए रखा जाता है, फिर उसके बाद यह प्रदर्शनी का अधिकार सैटेलाइट चैनलों या नेटफ्लिक्स या अमेज़ॅन जैसे निकाय को बेचा जाता है।

मल्टीप्लेक्स मालिकों ने विशेष थियेटर शो की पुरजोर वकालत की
X

मुंबई. मल्टीप्लेक्स चलाने वालों ने फिल्म निर्माताओं से किसी फिल्म को डिजिटल या इलेक्ट्रानिक माध्यमों पर दिखाने का अधिकार डिजिटल या सैटेलाइट कंपनियों को बेचने से पहले केवल सिनेमा हॉल में उनके शो के लिए कुछ दिन का समय रखे जाने की परंपरा का पालन करने की अपील की है।

सिनेमा उद्योग के रिवाज के अनुसार, फिल्म रिलीज होने के बाद के शुरुआती आठ सप्ताह विशेष रूप से सिनेमा हॉल में शो के लिए रखा जाता है, फिर उसके बाद यह प्रदर्शनी का अधिकार सैटेलाइट चैनलों या नेटफ्लिक्स या अमेज़ॅन जैसे निकाय को बेचा जाता है।

मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एमएआई) द्वारा यह अपील, संभावित रूप से फिल्म निर्माताओं की तात्कालिक नकदी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए फिल्म प्रदर्शन का अधिकार डिजिटल या उपग्रह चैनलों को बेचने से उत्पन्न चिंताओं के बीच की गई है। ऐसा इव वजह से है लॉकडाउन के कारण मल्टीप्लेक्स बंद हैं।

एमएआई ने फिल्म निर्माताओं से फिल्मों की रिलीज फिलहाल रोकने का आग्रह किया है।



एसोसिएशन के अनुसार, कोविड-19 महामारी के कारण, हजारों स्क्रीन को देश भर में बंद करने के लिए मजबूर किया गया था, जिससे इस कारोबार से जुड़े अनेकों कर्मचारी, और अंशधारकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

एमएआई 18 क्षेत्रीय और राष्ट्रीय मल्टीप्लेक्स श्रृंखला का प्रतिनिधित्व करता है और भारत में लगभग 90 फीसदी मल्टीप्लेक्स उद्योग का प्रतिनिधित्व करता है। इसके सदस्य देश भर में 2,900 से अधिक स्क्रीन के साथ 600 से अधिक मल्टीप्लेक्स चनाते हैं।

Next Story