Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Kangana Ranaut Interview : कंगना रनौत ने फिल्म इंडस्ट्री से लेकर लव लाइफ तक के किए खुलासे

कंगना रनौत ने अपने तेरह साल के बॉलीवुड करियर में कई ऐसी फिल्में की और किरदार निभाए हैं, जिनकी वजह से वह बॉलीवुड में अपनी एक अलग जगह रखती हैं। कंगना अपनी अपकमिंग थ्रिलर फिल्म 'जजमेंटल है क्या' में बहुत हटकर किरदार निभा रही हैं। कुछ लोग उन्हें इंडस्ट्री में मेंटल मानते हैं, कंगना इनके बारे में क्या कहती हैं? अपनी बेबाकी के लिए भी उनका क्या कहना है? खुली-खुली बातें कंगना रनौत से।

Kangana Ranaut Interview : कंगना रनौत ने फिल्म इंडस्ट्री से लेकर लव लाइफ तक के किए खुलासेKangana Ranaut Interview

कंगना रनौत का नाम आते ही जेहन में एक वर्सटाइल एक्ट्रेस के साथ एक दबंग, बेबाक एक्ट्रेस की इमेज सामने आती है। दरअसल, पिछले कुछ सालों में बॉलीवुड के नामी लोगों से अनबन की वजह से वह खूब चर्चा में रहीं। इन चर्चाओं में कंगना कभी अपने फ्रंट पर कमजोर नहीं पड़ीं, वह अपने खिलाफ उठने वाली हर आवाज का जवाब देती रहीं। दूसरी तरफ दर्शक उनकी एक्टिंग को भी सराहते रहे। उनकी आखिरी फिल्म 'मणिकर्णिका-द क्वीन ऑफ झांसी' ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा कलेक्शन किया। अब कंगना अपनी अपकमिंग फिल्म 'जजमेंटल है क्या' को लेकर चर्चा में हैं। हाल ही में फिल्म के ट्रेलर लॉन्च पर लेखिका आरती सक्सेना ने कंगना से लंबी बातचीत की। उन्होंने फिल्म 'जजमेंटल है क्या' और करियर, पर्सनल लाइफ से जुड़ी बातें साझा कीं। पेश है, कंगना रनौत से हुई बातचीत के चुनिंदा अंश-

आपकी फिल्म का टाइटल पहले 'मेंटल है क्या' था, अब 'जजमेंटल है क्या' हो गया। टाइटल बदलने के पीछे क्या वजह रही?

सलमान खान की फिल्म 'किक', जो एक साउथ फिल्म की रीमेक थी, उसका नाम 'मेंटल' था। जब हमने यह टाइटल रखा तो कुछ लोगों को प्रॉब्लम हो गई। हमसे कहा गया कि अगर फिल्म का टाइटल नहीं बदला तो हमें कोर्ट के चक्कर लगाने पड़ जाएंगे। जब हमारे पास कोई रास्ता नहीं बचा तो फिल्म का टाइटल 'जजमेंटल है क्या' रखा। वैसे यह कोई नई बात नहीं है। जब मैं किसी फिल्म से जुड़ती हूं तो बहुत से लोगों को प्रॉब्लम हो जाती है। मैं अगर सांस भी लूं तो भी कुछ लोगों को दिक्कत होने लगती है। इस बात को जानकर मैंने भी अपना रास्ता बनाना सीख लिया है।

इंडस्ट्री में कुछ लोग हैं, जिनका कहना है कि फिल्म का पहले वाला टाइटल 'मेंटल है क्या' आपको ज्यादा सूट करता है?

कोई क्या कहता है, मुझे फर्क नहीं पड़ता है। मैं आज उनकी वजह से नहीं बल्कि दर्शकों के प्यार की वजह से इंडस्ट्री में टिकी हूं। दर्शकों ने मुझे हमेशा पसंद किया है। इंडस्ट्री से मुझे कभी सपोर्ट नहीं मिला। यहां बहुत नेपोटिज्म है, लोगों ने ग्रुप बना रखे हैं, इस वजह से इंडस्ट्री से बाहर से आए एक्टर को मौके नहीं मिलते हैं, उन्हें काफी कुछ झेलना पड़ता है। मैंने भी अपने एक्टिंग करियर में बहुत स्ट्रगल किया है, काफी कुछ सहा है। 2016-2017 में तो कुछ लोगों ने सच में मुझे मेंटल बता दिया था। उनका कहना था कि मैं मेंटल पेशेंट हूं, मेरा इलाज हो रहा है। अगर ऐसा होता तो मुझे यह बात बताने में कोई हर्ज या शर्म नहीं होती है। लेकिन मेरे बारे में कोई गलत बात कहे तो मैं क्यों बर्दाश्त करूंगी?


फिल्म 'जजमेंटल है क्या' और अपने किरदार के बारे में कुछ बताएं? आप इससे कितना रिलेट करती हैं?

यह फिल्म एक मर्डर मिस्ट्री है। पहले मैं इस तरह की फिल्म करने के खिलाफ थी। मुझे थ्रिलर फिल्म में दिलचस्पी नहीं है। लेकिन फिल्म की कहानी सुनने के बाद लगा कि जैसे यह मेरी ही कहानी है। अगर 2016-17 में मेरी जिंदगी में मुश्किल दौर न आया होता, लोगों ने मुझे मेंटल साबित करनै की कोशिश न की होती तो मैं इस कहानी से रिलेट नहीं करती। लेकिन मेरे साथ जो कुछ हुआ, उससे मैं फिल्म 'जजमेंटल है क्या' की कहानी और किरदार से कनेक्ट हो गई। मैंने मेंटल वर्ड को कॉम्पिलीमेंट की तरह लिया। अभी आपको इससे ज्यादा नहीं बता सकती हूं, फिल्म की कहानी और किरदार के बारे में, इसके लिए आपको थिएटर जाना होगा।

इस फिल्म में राजकुमार राव भी हैं, वह आपके साथ फिल्म 'क्वीन' में भी थे। तब से लेकर अब तक राजकुमार राव में क्या फर्क पाती हैं?

राजकुमार एक एक्टर के तौर पर बहुत मैच्योर हो गए हैं। एक्टिंग करना उनके लिए बहुत आसान हो गया है। लेकिन एक इंसान के तौर पर वह बिल्कुल नहीं बदले हैं। राजकुमार आज भी डाउन टू अर्थ हैं। उनका सेंस ऑफ ह्यूमर भी बहुत अच्छा है, वह बहुत मजाकिया हैं।


आपने अलग-अलग तरह के किरदार निभाए हैं। जब कोई फिल्म साइन करती हैं तो अपने किरदार की तैयारी किस तरह करती हैं?

सबसे पहले तो मैं किरदार को समझने की कोशिश करती हूं, फिर उसको अपने दिल-दिमाग में उतार लेती हूं। किरदार को पर्सनली महसूस करने लगती हूं। शुरुआत में थोड़ी मुश्किल होती है लेकिन जब एक बार किरदार समझ आता है तो एक्टिंग करना आसान हो जाता है।

अब भी प्यार पर विश्वास है ?

कंगना को करियर में मनचाही सफलता मिली है। लेकिन प्यार के मामले में वह उतनी लकी नहीं रही। कंगना ने बार-बार प्यार में धोखा खाया है। क्या अब भी वह प्यार में विश्वास करती हैं? पूछने पर कंगना जवाब देती हैं, 'मेरा मानना है प्यार कभी मरता नहीं। अगर प्यार मर गया तो यह दुनिया तबाह हो जाएगी। कहने का मतलब है कि हर इंसान एक जैसा नहीं होता। मुझे किसी से प्यार में धोखा मिला तो इसका मतलब यह नहीं है कि सभी धोखेबाज होते हैं। मेरा अब भी प्यार पर विश्वास है।

Share it
Top