Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Javed Akhtar Birthday: कैफी साहब थे जावेद अख्तर के खिलाफ, नहीं देना चाहते थे बेटी शबाना आजमी का हाथ, जानिए ये दिलचस्प किस्सा

Javed Akhtar Birthday: जावेद अख्तर 17 जनवरी को 75वां जन्मदिन सेलिब्रेट करेंगे। जावेद अख्तर और शबाना आजमी की लव स्टोरी बड़े कमाल की है। शबाना आजमी से से शादी करना जावेद अख्तर के लिए मानो कोई टेढ़ी खीर हो, क्योंकि शबाना आजमी कि पिता कैफी साहब इस रिश्ते के खिलाफ थे, जानिए ये दिलचस्प किस्सा...

Javed Akhtar Birthday: कैफी साहब थे जावेद अख्तर के खिलाफ, नहीं देना चाहते थे बेटी शबाना आजमी का हाथ, जानिए ये दिलचस्प किस्साजावेद अख्तर

बॉलीवुड गानों में अपने कलम से जादू बिखेरने वाले जावेद अख्तर 17 जनवरी को 75 साल के हो जाएंगे। उनका जन्म 17 जनवरी 1945 को ग्वालियर में हुआ। उनके पिता निसार अख्तर मशहूर लेखक थे और मां सफिया अख्तर एक उर्दू टीचर थीं।

मां के इंतकाल के बाद वो अपनी खाला यानी मौसी के पास अलीगढ़ चले गए, जहां से उन्होंने पढ़ाई शुरू की। आगे की पढ़ाई उन्होंने भोपाल में की। 70-80 के दशक में सलीम के साथ जावेद साहब की जोड़ी काफी मशहूर थी।

दोनों ने एक साथ अंदाज, यादों की बारात, जंजीर, दीवार, हाथी मेरे साथी और शोले जैसे फिल्मों के लिए काम किया। जिसके चलते बॉलीवुड में सलीम-जावेद की जोड़ी को खूब प्यार मिलने लगा। जावेद अख्तर को साल 1999 को पद्म भूषण और 2007 में पद्म भूषण से नवाजा जा चुका है।


जावेद अख्तर ने दो निकाह किए। उनकी पहली पत्नी का नाम हनी ईरानी था, वो एक लेखिका थीं। हनी ईरानी का जन्मदिन भी 17 जनवरी को ही आता है। जावेद और हनी ईरानी की शादी 1972 में हुई थी।

बताया जाता हैं कि उस वक्त हनी ईरानी की उम्र महज 17 साल थी। शादी के बाद जावेद और ईरानी के दो बच्चे हुए- फरहान अख्तर और जोया अख्तर... शादीशुदा जिंदगी पहले तो अच्छी चल रही थीं,

लेकिन वक्त के साथ दोनों में झगड़े शुरू हो गए और दोनों 1978 में अलग हो गये, वहीं 1985 में दोनों ने रजामंदी से तलाक ले लिया। इनका रिश्ता सिर्फ सात साल तक चल। बताया जाता हैं कि इस रिश्ते के टूटने के पीछे की वजह शबाना आजमी से बढ़ती नजदीकियां थी।


जावेद अख्तर की पहली मुलाकात शबाना आजमी से उनके घर पर ही थीं। दरअसल, जावेद अख्तर शबाना के पिता कैफी से कविताओं की शिक्षा लेने घर आया-जाया करते थे। इस दौरान दोनों में दोस्ती हुई और दोस्ती प्यार में बदल गई।

जब दोनों ने शादी करने का फैसला लिया और घर में बात की तो शबाना के घरवाले शादी के खिलाफ थे। पिता कैफी आजमी को लगता था कि शबाना की वजह से जावेद अख्तर और हनी के बीच दरार आई।

साथ ही वो नहीं चाहते कि शबाना एक शादीशुदा आदमी से शादी करें लेकिन शबाना ने पिता कैफी को यकीन दिलाया कि जावेद अख्तर की शादी उनकी वजह से नहीं टूटी। तब जाकर कैफी साहब माने और दोनों की शादी कराई।

Next Story
Top