Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना का सबसे बड़ा असरः अमेजन ने लगा दी मल्टीप्लेक्स में सेंध

अमेजन द्वारा नई फिल्मों की खरीद और रिलीज का दबाव अब नेटफ्लिक्स, जी5, डिज्नी-हॉटस्टार और मैक्स जैसे ओटीटी प्लेटफॉर्मों पर भी पड़ेगा। वे भी बॉलीवुड के निर्माताओं को आकर्षित करेंगे।

कोरोना का सबसे बड़ा असरः अमेजन ने लगा दी मल्टीप्लेक्स में सेंध
X

आखिरकार वही हुआ जिसका सबसे ज्यादा डर था। कोरना की वजह से बंद पड़े मल्टीप्लेक्सों के किले में ओटीटी प्लेटफॉर्म के इंटरनेशनल खिलाड़ी अमेजन ने सेंध लगा दी है। कई दिनों से चल रही बॉलीवुड फिल्मों के मल्टीप्लेक्सों की जगह वेब/ओटीटी प्लेटफॉर्म पर सीधी रिलीज की अटकलें अंततः सच साबित हुईं। बड़े सितारों वाली फ्रेश बॉलीवुड फिल्मों की ओटीटी रिलीज की शुरुआत भी हो रही है तो सदी के महानायक अमिताभ बच्चन की गुलाबो सिताबो (निर्देशकः शुजित सरकार) से। यह 12 जून को रिलीज होगी। इधर, अमेजन ने विद्या बालन स्टारर शकुंतला देवी के भी अधिकार खरीद लिए हैं। फिल्म की रिलीज डेट अभी घोषित नहीं की गई है। मगर यह भी अमेजन पर जून में ही आएगी।

बड़े सितारों वाली इन फिल्मों के ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आने का सीधा-सरल मतलब यही है कि दर्शकों को फिल्म देखने के लिए मल्टीप्लेक्स में जाने की जरूरत नहीं रह जाएगी। वह घर बैठे टीवी स्क्रीन, डेस्कटॉप, लैपटॉप या मोबाइल पर फिल्म देख सकेंगे। संभव है कि आने वाले समय में दर्शकों को अपने घर में अपने स्क्रीन पर ही फिल्में देखने की आदत लग जाए। ओटीटी पर बड़ी और नई फिल्मों की रिलीज का सिलसिला शुरू होने साथ ही दर्शकों को मल्टीप्लेक्सों की महंगे समोसे, कोल्ड ड्रिंक और पानी की मनमानी कीमतों की लूट से छुटकारा मिलने की शुरुआत हो गई है। बॉलीवुड फिल्मों का सीधे ओटीटी पर आना मल्टीप्लेक्सों के लिए जबर्दस्त धक्का है। पहले ही वे सिर्फ बड़े सितारों वाली फिल्मों पर निर्भर थे और उन्होंने ओटीटी जैस प्लेटफॉर्म पर भी मुकाबले के लिए कोई रणनीति नहीं बनाई थी। वे अपने अहंकार में सिर ऊंचे उठाए खड़े थे।

वास्तव में ये वही अहंकारी मल्टीप्लेक्स हैं, जो आज पूरी फिल्म इंडस्ट्री या सारे निर्माताओं से कोरोना के हालात सुधरने और अपने यहां फिल्में रिलीज होने तक रुकने को कह रहे हैं। मगर हकीकत यह है कि चंद बड़े फिल्म निर्माता घरानों को छोड़ दें तो मझौले, छोटे और नए निर्माता-निर्देशकों की इन मल्टीप्लेक्सों ने कभी परवाह नहीं की। उनके लिए कभी कोई अलग नीति नहीं बनाई। कभी उन्हें अपने यहां सम्मानित जगह नहीं दी। हमेशा धौंसपट्टी और मनमानी करते रहे। अब मल्टीप्लेक्सों के लिए आया ऊंट पहाड़ के नीचे वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। उधर, अमेजन ने बॉलीवुड के साथ-साथ साउथ की भी कई फिल्मों की इधर जमकर खरीदारी की है, जो आने वाले दिनों में उसके प्लेटफॉर्म पर रिलीज होंगी। पोनमंगल वंधल (तमिल), पेंगुइन (तमिल-तेलुगु), लॉ (कन्नड़), फ्रेंच बिरयानी (कन्नड़), सूफियम सुजातायम (मलयालम) जैसी फिल्में भी जल्द ही अमेजन के प्लेटफॉर्म पर नजर आएंगी।

अमेजन द्वारा नई फिल्मों की खरीद और रिलीज का दबाव अब नेटफ्लिक्स, जी5, डिज्नी-हॉटस्टार और मैक्स जैसे ओटीटी प्लेटफॉर्मों पर भी पड़ेगा। वे भी बॉलीवुड के निर्माताओं को आकर्षित करेंगे। ऐसे में मल्टीप्लेक्सों की चुनौती आने वाले दिनों में काफी बढ़ जाएगी। मल्टीप्ल्सों के बारे में खबरें आ रही हैं कि इस साल सितंबर तक उनके खुलने के आसार नहीं दिख रहे हैं। जबकि दर्शकों को मनोरंजन तो चाहिए ही। अमेजन ने बॉलीवुड में नया दरवाजा खोल लिया है।


Next Story