Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Birthday Special: हेरा फेरी के बाबू भाई को था लव ऐट फर्स्ट साइट, पूर्व मिस इंडिया के साथ रोचक हैं परेश रावल की लव स्टोरी

परेश रावल का जन्म 30 मई 1955 को मुंबई के एक साधारण परिवार में हुआ। परेश ने अपने फिल्मी करियर में हर तरह के किरदार निभाएं चाहें वह रोल विलेन का हो या फिर कोई कॉमेडी। हेरा फेरी के बाबू भाई की लव स्टोरी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं हैं।

Birthday Special Paresh rawal love at first sight story with wife swaroop sampat
X

पूर्व मिस इंडिया स्वरूप संपत के साथ रोचक हैं परेश रावल की लव स्टोरी

200 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके जाने माने अभिनेता परेश रावल(Paresh Rawal) आज अपना 66वां जन्मदिन मना रहें हैं। एक्टर ने अपने दमदार अभिनय से हर एक किरदार में जान डाली चाहें वह रोल कॉमिक हो या निगेटिव। परेश पिछले 4 दशकों से दर्शकों का मनोरंजन करते आएं हैं। परेश रावल ने 'हेरा फेरी', 'भागमभाग', 'हंगामा', 'हलचल', 'फिर हेरा फेरी', 'गोलमाल' जैसी तमाम फिल्मों से दर्शकों को खूब हंसाया। लेकिन उनकी निजी जिंदगी के बारें मे लोग बहुत कम जानते हैं या यूं कहें कि न के बराबर जानते हैं। आज परेश रावल के जन्मदिन पर हम आपको उनकी कहानी बताते हैं।

परेश रावल का जन्म 30 मई 1955 को मुंबई के एक साधारण परिवार में हुआ। परेश ने अपनी पढ़ाई मुंबई के मशहूर कॉलेज नर्सी मूंजी कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकनॉमिक्‍स से की थी। एक्टर की रुची हमेशा से ही फिल्मों में थी जिसके चलते वह कॉलेज में उनकी एक्टिंग की खासा चर्चा थी। परेश ने अपने फिल्मी करियर में हर तरह के किरदार निभाएं चाहें वह रोल विलेन का हो या फिर कोई कॉमेडी। 'हेरा फेरी' के बाबू भाई की लव स्टोरी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं हैं।


परेश रावल ने पूर्व मिस इंडिया स्वरूप संपत (Swaroop Sampat) से शादी की हैं। स्वरूप संपत ने 1979 में मिस इंडिया (Miss India) का खिताब अपने नाम किया था। स्वरूप संपत ने टीवी और फिल्मी दुनिया में काम किया। जहां टीवी पर स्वरूप संपत ने कॉमेडी शो 'ये जो है जिंदगी' में खूब नाम कमाया वहीं उन्होंने 'नरम गरम' (1981), साथिया (2002) और साल 2019 में आई फिल्म उरी में भी काम किया था। स्वरूप संपत से एक्टर को लव ऐट फर्स्ट साइट वाला प्यार हुआ था। अपने एक इंटरव्यू में परेश ने बताया था कि स्वरूप संपत के पिता जी इंडियन नेशनल थियेटर के प्रोड्यूसर थे। मैं अपने कुछ दोस्तों के साथ एक बंगाली ड्रामा देखने वहां गया था, जहां मैंने पहली बार स्वरूप को देखा था और देखते ही मुझे उनसे मोहब्बत हो गई थी। हालांकि परेश तब स्वरूप का नाम तक नहीं जानते थे। इस घटना के 1 साल बाद तक दोनो की बातचीत तक नहीं हुई थी। लेकिन एक दिन परेश का ड्रामा देखने के बाद स्वरूप खुद उनसे बैकस्टेज मिलने आई। तब जाकर परेश को उनका नाम पता चला। उस दिन हुई जान पहचान बहुत जल्द ही दोस्ती से होकर प्यार की मंजिल तक पहुंच ही गयी।


दोनो की शादी बिना कोई ज्यादा ताम-झाम के मुंबई के लक्ष्मीनारायण मंदिर के अंदर हुई थी। इस शादी में कोई मंडप भी नहीं था और महज 9 पंडित मन्त्र पढ़ रहे थे। आज इस जोड़ी के 2 बच्चे हैं अनिरुद्ध और आदित्य। परेश उनकी पत्नी और दोनो बच्चों के साथ मुंबई में ही रहते हैं।

Next Story