Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Gangubai Kathiawadi First Look: आलिया भट्ट का 'गंगुबाई' लुक हुआ वायरल, फिल्म में बनीं माफिया क्वीन

Gangubai Kathiawadi First Look: संजय लीला भंसाली की फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी फर्स्ट लुक रिलीज़ कर दिया गया है। पोस्टर में आलिया का अब तक का सबसे अलग लुक नजर आ रहा है।

Gangubai Kathiawadi First Look: आलिया भट्ट का गंगुबाई लुक हुआ वायरल, फिल्म में बनीं माफिया क्वीनगंगुबाई

संजय लीला भंसाली और आलिया भट्ट की फिल्म 'गंगुबाई काठियावाड़ी' से आलिया का पहला पोस्टर रिलीज हो चुका हैं। पोस्टर में आलिया का अब तक का सबसे अलग लुक नजर आ रहा है। दोनों पोस्टर्स में आलिया के 2 लुक शेयर किए गए हैं। एक पोस्टर में आलिया का बैठीं नजर आ रही हैं, वहीं दूसरे में आलिया के लुक का क्लोज से दिखाया गया हैं।

ये पोस्टर अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। फैन्स अब इस फिल्म को लेकर एक्साइटेड हो रहे हैं। आपको बता दें कि आलिया और संजय लीला भंसाली की ये पहली फिल्म है। चलिए अब आपको बताते हैं कि आखिर गंगूबाई कौन हैं, जिसके ऊपर संजय लीला भंसाली फिल्म बना रहे है।

मशहूर राइटर एस हुसैन जैदी द्वारा लिखी गई किताब 'माफिया क्वीन्स ऑफ मुंबई' के आधार पर संजय लीला भंसाली ये फिल्म बना रहे है। दरअसल, गंगूबाई गुजरात के कठियावाड़ की रहने वाली थीं, जिसके चलते उनको गंगूबाई कठियावाड़ी कहा जाता था। छोटी उम्र में ही गंगूबाई को वेश्यावृति के लिए मजबूर किया गया।

इस दौरान उनके पास अपराधी-गैंगस्टर ग्राहक बनकर आने लगे। गंगूबाई मुंबई के कमाठीपुरा इलाके में कोठा चलाती थीं। गंगूबाई दिल से दयालु थी, उन्होंने सेक्सवर्कस और अनाथ बच्चों के लिए काफी काम किया था।

गंगूबाई कठियावाड़ी का असली नाम गंगा हरजीवनदास काठियावाड़ी था। गंगूबाई एक्ट्रेस बनना चाहती थीं, लेकिन 16 साल की उम्र में उन्हें पिता के अकाउंटटेंट से प्यार हो गया और वो उसके साथ शादी कर मुंबई आ गईं।

प्यार में डूबी गंगूबाई को जरा भी इस बात की भनक नहीं थी कि जिससे उसने शादी की है, वहीं पति उसके जिस्म का सौदा करने का प्लान बनाए बैठा है। गंगूबाई को उसके पति ने महज पांच सौ रुपये में उसे कोठे पर बेच दिया। इस किताब में माफिया डॉन करीम लाला का भी जिक्र किया गया है।

करीब लाला की गैंग के एक सदस्य ने गंगूबाई के साथ बलात्कार किया था। जिसके बाद इंसाफ की मांग के लिए गंगूबाई करीम लाला से मिलीं और राखी बांधकर अपना भाई बना लिया। करीम लाला की बहन होने के चलते जल्दी ही कमाठीपुरा की कमान गंगूबाई के हाथ में आ गई। किताब में कहा जाता है कि गंगूबाई किसी भी लड़की को उसकी बिना मर्जी के कोठे में नहीं रखती थीं।

Next Story
Top