logo
Breaking

‘संकट मोचन महाबली हनुमान’ में रावण बने फिल्म एक्टर आर्य बब्बर

आर्य बब्बर सोनी चैनल के सीरियल ‘संकट मोचन महाबली हनुमान’ में रावण की भूमिका निभा रहे हैं।

‘संकट मोचन महाबली हनुमान’ में रावण बने फिल्म एक्टर आर्य बब्बर
मुंबई. पंजाबी और बॉलीवुड फिल्मों में काम करने के बाद अब आर्य बब्बर ने छोटे पर्दे पर अपने कदम रख दिए हैं। सोनी चैनल के सीरियल ‘संकट मोचन महाबली हनुमान’ में वह रावण की भूमिका निभा रहे हैं। रावण की भूमिका को वह एक चुनौतीपूर्ण भूमिका मानते हैं। इस भूमिका के लिए उन्होंने क्या खास तैयारियां कीं? रावण के किरदार को वह किस रूप में देखते हैं?
वैसे तो आर्य बब्बर को अभिनय कला विरासत में मिली है। उनके पिता राज बब्बर हिंदी फिल्मों के जाने-माने अभिनेता हैं, मां नादिरा बब्बर भी थिएटर से जुड़ी हुई हैं। और खुद आर्य हिंदी-पंजाबी फिल्मों में अपनी एक अलग जगह रखते हैं। रावण की भूमिका हर कलाकार के लिए बहुत चुनौतीपूर्ण है। किसी भी एक्टर के लिए इसे निभाना बहुत बड़ी बात है।
आर्य बबर का कहना है कि जब मैं छोटा था, तो पुरानी वाली ‘रामायण’ में अरविंद त्रिदेवी जी को रावण की भूमिका में देखा था, मुझे भी सभी बच्चों की तरह यह सीरियल पसंद था। लेकिन कभी नहीं सोचा था कि एक दिन रावण की भूमिका निभाने का मौका मिलेगा। मैंने अपनी तरफ से इस भूमिका को निभाने के लिए बहुत तैयारी की है। शुद्ध हिंदी के शब्दों का सही उच्चारण सीखा है, अपने एक्सप्रेशंस पर भी बहुत ध्यान दिया। रावण को समझने के लिए मैंने ‘अज्ञात रावण’ नाम का एक प्ले भी पढ़ा है। इसके अलावा ‘असुरा’ नाम की एक किताब भी पढ़ी है। बॉडी पर भी काफी वर्कआउट किया है। इसलिए मैं जिस रावण की भूमिका में दिख रहा हूं, वह एक अलग अंदाज का रावण है।
आगे बात करते हुए आर्य ने बताया कि जब हम भगवान राम की कहानी सुनाते हैं, तो उसमें हनुमान होते ही हैं यानी नायक होते ही हैं, और जहां नायक है, वहां खलनायक भी होगा, उसके बिना कहानी पूरी नहीं होती है। जहां तक बात रावण की है, तो यह हमारी पौराणिक कथाओं का ऐसा चरित्र है, जिसके कई पहलू हैं। रावण को कोई अत्याचारी मानता है, तो कोई उसे एक कुशल राजा और ज्ञानी मानता है। कह सकते हैं कि एक एक्टर के लिए इस भूमिका में एक्टिंग का बहुत स्कोप है। इसलिए रावण की भूमिका में मेरा अभिनय अपना प्रभाव जरूर छोड़ेगा। देखिए, राम और रावण हमारे मन के विचार हैं। राम अच्छाई के और रावण बुराई का प्रतीक है। ऐसे में यह व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह अपने किस विचार को प्राथमिकता देता है।
उन्होने कहा कि आज टीवी काफी बदल चुका है। अब टीवी पर अच्छी कहानी आने लगी हैं, जिसमें हर एक्टर के करने के लिए कुछ खास होता है। मैं काफी समय से टीवी पर काम करना चाहता था, लेकिन कोई अच्छा ऑफर नहीं मिल रहा था। फिर जब मुझे ‘संकट मोचन महाबली हनुमान’ में रावण की भूमिका निभाने का मौका मिला तो मुझे यह टीवी पर आने का सही मौका लगा। आगे भी अच्छे प्रोजेक्ट्स का हिस्सा बनना चाहूंगा। वैसे इस वक्त मैं दो हिंदी फिल्मों में भी काम कर रहा हूं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी
खबर के बारे में -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top