logo
Breaking

मैं दिलफेंक आशिक हूं: अमित टंडन

अमित टंडन सब टीवी के नए रोमांटिक कॉमेडी सीरियल ‘दिल दे के देखो’ में नजर आ रहे हैं।

मैं दिलफेंक आशिक हूं: अमित टंडन
मुंबई. अमित टंडन की पूरी परवरिश और पढ़ाई अमेरिका में हुई है। उनके पैरेंट्स न्यूयॉर्क में पिछले चालीस साल से रह रहे हैं। अमित का रुझान बचपन से म्यूजिक और एक्ंिटग की तरफ था। इस फील्ड में करियर बनाने के लिए वह भारत आ गए। सबसे पहले उन्होंने सिंगिंग रियालिटी शो ‘इंडियन आइडल’ के सीजन-1 में हिस्सा लिया था। वह टॉप फाइनलिस्ट तक भी पहुंचे। सिंगिंग के बाद अमित ने एक्टिंग में भी कदम रखा। एकता कपूर के सीरियल ‘कैसा ये प्यार है’ में उन्होंने पृथ्वी का किरदार निभाया। इसके बाद उन्होंने कई सीरियल्स में दमदार किरदार निभाए और छोटे पर्दे पर अपनी पहचान बनाई। इन दिनों वह सब टीवी के नए सीरियल ‘दिल दे के देखो’ में कमल चोपड़ा के रोल में नजर आ रहे हैं। बातचीत अमित टंडन से।
सबसे पहले यह बताइए इस सीरियल को आपने क्या सोचकर एक्सेप्ट किया? इसमें आपका क्या रोल है?
इस सीरियल का कॉन्सेप्ट मुझे बहुत मजेदार, अनोखा लगा, इसलिए मैंने इसे एक्सेप्ट किया। सीरियल में मैं कमल चोपड़ा का कैरेक्टर प्ले कर रहा हूं, जो शक्ल-सूरत से हट्टा-कट्टा पंजाबी मुंडा लगता है। उसने बॉडी अच्छी बनाई हुई है, टैटूज गुदवा रखे हैं। वो करना तो बहुत कुछ चाहता है, लेकिन होता उसके उलट ही है। जैसे वो गाना गाता है तो उसकी आवाज लड़की जैसी होती है। कुल मिलाकर सीरियल में बहुत ही अंतरंगी कैरेक्टर है मेरा।
सीरियल ‘दिल दे के देखो’ की मेन स्टोरी क्या है?
इसमें तीन लव स्टोरीज हैं। एक हमारे दादा-दादी के उम्र के लोगों के लिए है। दूसरे एक ऐसा कपल है, जो अपने बचपन का प्यार भूल नहीं पाया है, उसे पाना चाहता है। तीसरी लव स्टोरी दो यंगस्टर्स के बीच की है।
अपने कैरेक्टर को आप खुद से कितना रिलेट करते हैं?
जी, मैं भी सिंगर हूं, लेकिन आदमी की आवाज में ही गाता हूं लड़की की नहीं। मैं अपनी पर्सनल लाइफ में भी खूब मजाकिया हूं। पापा तो मुझे मेरी हरकतों की वजह से जोकर कहते हैं। मैं खुद अपने को जोकर मानता हूं, लोगों को खूब हंसाता हूं।
सीरियल में अपकी जोड़ी प्रीत कौर के साथ है। उनके कैरेक्टर और उनके साथ वर्क एक्सपीरियंस के बारे में कुछ बताइए?
सीरियल में प्रीत कौर सिमरन का कैरेक्टर निभा रही हैं, जिसे एक राजकुमार की तलाश है। उस राजकुमार की खोज में उसने अभी तक शादी नहीं की है। यह वही सिमरन है, जिसने कमल को बचपन में गाल पर किस किया था। उसे कमल से बचपन से ही प्यार है। प्रीत के साथ काम करके बहुत ही मजा आ रहा है।
क्या आपने कभी अपनी लाइफ में भी किसी को दिल देकर देखा है?
मैं तो कई बार दिल देकर देख चुका हूं। आप यह कह सकते हैं कि मैं दिलफेंक आशिक हूं। मेरे तो अच्छे-बुरे दोनों तरह के एक्सपीरियंस रहे हैं।
पर्सनली आप अपने दिल की सुनते हैं या दिमाग की?
मैं तो सिर्फ अपने दिल की ही सुनता हूं। दिल की सुनकर ही मैं अमेरिका छोड़कर इंडिया आ गया। दिल की ही सुनकर मैं वापस म्यूजिक में आया। कभी-कभी अपने दिमाग की भी सुननी चाहिए, लेकिन दिल को मैं ज्यादा अहमियत देता हूं। मेरा मानना है कि जो लोग दिल की सुनते हैं, वो दिल लगाकर काम करते हैं और कामयाब भी होते हैं।
क्या आपको लगता है कि किसी को दिल देना या किसी का दिल लेना आसान होता है?
मुझे लगता है कि आसान है, लेकिन जितनी आसानी से आप दिल देते या लेते हैं, उतनी ही आसानी से दिल टूट भी जाता है। इसलिए अगर आप किसी को अपना दिल दें तो सोच-समझ कर ही दें।
दिल सूरत देखकर देना चाहिए या सीरत देखकर?
देखिए, कुछ लोग सूरत देखकर तो कुछ सीरत देखकर दिल देते हैं। मेरे हिसाब से दोनों बातें ध्यान में रखकर दिल देंगे तो आपके लिए ठीक रहेगा। मैंने सूरत पर जाने वालों को मात खाते हुए देखा है, लेकिन सीरत पर मरने वाले ज्यादा खुश रहते हैं।
आप एक्टर होने के साथ-साथ सिंगर भी हैं। क्या ऐसा नहीं लगता कि आपकी सिंगिंग पीछे छूट गई है?
ऐसा बिल्कुल नहीं है। मैं पिछले छह महीनों से लगातार म्यूजिक ट्रैक निकाल रहा हूं। म्यूजिक स्टेज शो कर रहा हूं। सिंगिंग से बराबर जुड़ा हुआ हूं। मैं इस समय एक्टिंग और सिंगिंग को पकड़कर आगे बढ़ रहा हूं। ‘दिल देकर देखो’ का टाइटल ट्रैक भी मैंने ही गाया है। सीरियल में लड़की की आवाज में सिंगिंग करता हुआ भी दिखाई दूंगा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top