Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

फिल्म ''पद्मावत'' के खिलाफ स्वरा ने खोला मोर्चा, संजय लीला भंसाली पर साधा निशाना

अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने फिल्म पद्मावत को देखने के बाद द वायर में प्रकाशित अपने ओपन लेटर को ट्वीट के जरिये पोस्ट किया है। जिसमें उन्होंने निर्देशक संजय लीला भंसाली पर निशाना साधा है।

फिल्म

निर्देशक संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावत रिलीज हो चुकी है। लेकिन फिल्म को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने फिल्म की स्क्रिप्ट को लेकर आपत्ति जताई है।

स्वरा भास्कर ने फिल्म पद्मावत को देखने के बाद द वायर में प्रकाशित अपने ओपन लेटर को ट्वीट के जरिये इसका खुलासा किया है। स्वरा ने अपने लेटर की शुरुआत 'At The End of Your Magnum Opus....I Felt Reduced to a Vagina Only' नामक शीर्षक से की है।

यह भी पढ़ें- बजट सत्र से पहले दो सर्वदलीय मीटिंग आज, कल से शुरू होगा बजट सत्र का पहला चरण

अपने खुले पत्र में स्वरा ने लिखा है कि फिल्म पद्मावत के जरिये निर्देशक संजय लीला भंसाली ने सती और जौहर प्रथा का महिमामंडन किया है। फिल्म में दिखायी गयी स्त्रियों की छवि से नाराज हैं।
पत्र की शुरूआत में तो स्वरा ने फिल्म में भूमिका निभाने वाले स्टार्स की तारीफ की लेकिन उन्होंने आगे लिखा कि महिलाओं के वजाइना के तौर पर सीमित कर दिया है।
स्वरा ने फिल्म के आखिर में अपनी इज्जत की रक्षा के लिये महिलाओं द्वारा किये गये जौहर पर भी लिखा है। उन्होंने लिखा कि सर, महिलाओं को रेप का शिकार होने के अलावा जिंदा रहने का भी हक है।
स्वरा ने लिखा कि पुरूष से मतलब पति, मालिक, रक्षक, महिलाओं की सेक्शुअलिटी तय करने वाले जो भी आप समझते हों, पर उनकी मौत के बावजूद महिलाओं को जीवित रहने का अधिकार है।
स्वरा ने सख्ती से आगे लिखा कि महिलाएं चलती-फिरती वजाइना नहीं हैं। हां महिलाओं के पास यह अंग होता है लेकिन उनके पास और भी बहुत कुछ है। इसलिए लोगों की पूरी जिंदगी वजाइना पर केंद्रित, इस पर नियंत्रण करते हुए, इसकी हिफाजत करते हुए, इसकी पवित्रता बरकरार रखते हुए नहीं बीतनी चाहिए।
स्वरा ने यह स्वीकार किया कि यह फिल्म ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित है और सती और जौहर आदि कुप्रथाएं हमारे समाज का ही हिस्सा रही हैं।
हालांकि, वह कहती हैं कि फिल्म की शुरुआत में सती-जौहर प्रथा के खिलाफ डिस्क्लेमर दिखा कर निंदा कर देने भर का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि इसके आगे तीन घंटे तक राजपूत आन-बान-शान का महिमामंडन चलता है।
बता दें स्वरा भास्कर अनारकली ऑफ आरा, तनु वेड्स मनु, प्रेम रतन धन पाओ, निल बटे सन्नाटा जैसी बेहतरीन फिल्मों से बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बना चुकी हैं।
Next Story
Top