Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अलविदा 2018 / जानें कब-कब लगा दिल्ली मेट्रो को ग्रहण

वर्ल्ड क्लास कही जाने वाली दिल्ली मेट्रो आजकल भगवान भरोसे ही चलती है। तकनीकी खराबी के ग्रहण में फंसी दिल्ली मेट्रो आए दिन कहीं ना कहीं खड़ी रहती है। हम आपको बता रहे हैं साल 2018 में कितनी बार मेट्रो सेवा बाधित हुई।

अलविदा 2018 / जानें कब-कब लगा दिल्ली मेट्रो को ग्रहण
X

एक समय था जब हर कोई यही कहता था कि बिना किसी परेशानी के और समय से पहुंचना है तो मेट्रो से ही जाना, लेकिन आज हालात एक दम बदल गए है। अब अगर मेट्रो के सहारे आप सही समय पर अपन गंतव्य तक पहुंच गए तो इसे उपर वाले की कृपा ही समझे। क्योंकि वर्ल्ड क्लास कही जाने वाली दिल्ली मेट्रो आजकल भगवान भरोसे ही चलती है।

तकनीकी खराबी के ग्रहण में फंसी दिल्ली मेट्रो आए दिन कहीं ना कहीं खड़ी रहती है। अगर द्वारका लाईन को अटक अटक लाइन कहा जाए तो गलत नहीं होगा। अब इसे डीएमआरसी की लापरवाही कहें या पुरानी पड़ती मेट्रो रेल के कल पुर्जें जो अक्सर खराब होते रहते है।

इसे भी पढ़ें- अलविदा 2018 / पीएम मोदी का मिशन 'गगनयान' और भारत की अंतरिक्ष यात्रा

जहां एक तरफ डीएमआरसी घाटे के नाम पर एक साल में दो बार किराया बढ़ाती है वहीं आए दिन होने वाली खराबी पर पल्ला झाड़ती है। वर्तमान साल का आंकड़ा हैरान करने वाला है। जुलाई से नवबंर के बीच में ही करीब 20 बार मेट्रो के पहिए थमे है।

आप अंदाजा लगाए कि करीब 315 किमी. लंबे ट्रेक पर रोज 30 लाख के आस पास यात्रियों को ढोने वाली मेट्रो जब थमती है तो यात्रियों की क्या गत होती होगी। हालात यह है कि रक्षा बंधन जैसे पर्व पर भी दिल्ली मेट्रो की खराबी ने लाखों बहनों भाईयों के बीच इंतजार घंटो बढ़ा दिया था।

खराबी से निपटने के सवाल पर मेट्रो की चुप्पी

आए दिन मेट्रो की खराबी को लेकर डीएमआरसी ने कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाने की घोषणा की थी। इस दिशा में कहां तक पहुंचने के बारे में डीएमआरसी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई। बता दें कि रोज रोज होने वाली खराबी से मेट्रो की धूमिल होती छवि को सुधारने के लिए 22 सितंबर 2018 को डीएमआरसी ने घोषणा की थी कि जल्द ही टेंक की वायर व इलेक्ट्रिकल उपकरण बदले जाएगें।

बताया गया था कि करीब 240 किलोमीटर लंबे एलिवेटिड खंडों पर ओएचई वायरिंग सहित अन्य इलेक्ट्रिकल उपकरणों को भी बदला जाएगा। इन उपकरणों की जगह पर स्टेट आॅफ द आर्ट तकनीक के इलेक्ट्रिकल उपकरण लगाये जाएंगे। इतना ही नहीं इस मुहिम के तहत मेट्रो सिस्टम को ज्यादा कार्यकुशल बनाने के लिए आधुनिकतम सेफ्टी फीचर भी लगाए जाएंगे। लेकिन आज करीब दो महीने बाद भी हालात जस के तस है।

जानिए कब-कब हुई मेट्रो सेवा बाधित

महीना कितनी बार हुई खराब

जुलाई करीब 4 बार

अगस्त करीब 6 बार

सितंबर करीब 2 बार

अक्टूबर करीब 2 बार

नवबंर करीब 4 बार

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top