Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Alert: पश्चिमी भारत से धूल भरी आंधी के कारण दिल्ली में खतरनाक स्तर पर पहुंचा एयर क्वालिटी इंडेक्स

दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों में धूल के कारण के दिल्ली की हवा जहरीली हो गई है। मौसम विभाग के अनुसार अगले तीन दिनों तक धूल भरे वातावरण से निजाद मिलने कि कोई संभावना नहीं है।

Alert: पश्चिमी भारत से धूल भरी आंधी के कारण दिल्ली में खतरनाक स्तर पर पहुंचा एयर क्वालिटी इंडेक्स

दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी परिक्षेत्र में आज धूल का गुबार छाया रहा और केन्द्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने अनुमान व्यक्त किया कि अगले तीन दिन तक यह धुंध छाई रह सकती है।

बुधवार को नोएडा में पीएम 10 का स्तर 1135 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर पहुंच गया था। गौरतलब है कि दिल्ली में पीएम 10 का स्तर 981, पीएम 2.5 का स्तर 200, नोएडा में पीएम 10 का स्तर 1135 तो पीएम 2.5 का स्तर 444 है. जबकि गाजियाबाद में पीएम 10 का स्तर 922 और पीएम 2.5 का स्तर 458 है।

मौसम विभाग का कहना है कि अगले तीन दिन तक इसी तरह के हालत दिल्ली-एनसीआर में बने रहेंगे। मंत्रालय के अनुसार दिल्ली के ऊपर छायी धूल भरी धुंध के लिये राजस्थान में आयी धूल भरी आंधी मुख्य वजह है। यहां आज हवा की गुणवत्ता गंभीर स्तर से नीचे चली गयी।

मंत्रालय की ओर से जारी आधिकारिक बयान में अगले तीन दिनों तक दिल्ली में यह स्थिति बरकरार रहने की आशंका व्यक्त की गयी है। मंत्रालय ने इन दिनों दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ने को अस्वाभाविक बताते हुये कहा कि इसकी मुख्य वजह राजस्थान में आने वाली धूल भरी आंधी है।

उसके कारण दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हवा के कम दबाव का क्षेत्र बनने की वजह से हवा में मिले धूलकण जमीन से कुछ ऊंचाई पर जमा हो जाते हैं। मौसम विशेषज्ञों की राय में इन दिनों भीषण गर्मी से जूझ रहे राजस्थान में तापमान की अधिकता के बीच पश्चिमी विक्षोभ के कारण तेज हवाओं के कारण धूल भरी आंधी का असर दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में धूलकणों के वायुमंडल में संघनित होने के रूप में दिखता है।

इस साल भी दस से 12 जून के बीच राजस्थान की धूल भरी आंधी का रुख दिल्ली की ओर रहा जिसकी वजह से यह स्थिति पैदा हुयी है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के हवाले से मंत्रालय ने दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में अगले तीन दिन धूल का गुबार बरकरार रहने का अनुमान व्यक्त किया है।

इसके मद्देनजर केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने राज्य इकाई के माध्यम से स्थानीय निकायों और निर्माण क्षेत्र से जुड़ी एजेंसियों से लगातार पानी का छिड़काव करने को कहा है जिससे धूल को उड़ने से रोका जा सके।

साथ ही दिल्ली के मुख्य सचिव को इस दिशा में सभी संबद्ध एजेंसियों को आवश्यक दिशानिर्देश जारी करने को कहा है। इस बीच, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने स्थिति से निपटने के लिये संबद्ध विभागों के साथ बैठक कर स्थिति से निपटने के लिये वायु प्रदूषण रोधी कदम उठाने को कहा है। साथ ही लोगों को अधिक समय तक खुले में निकलने से बचने का भी परामर्श जारी किया है।

Next Story
Top