Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

AAP MLA नरेश बाल्यान के विवादित बोल- ''मुख्य सचिव जैसे अधिकारियों को ठोकना चाहिए''

सीएम अरविंद केजरीवाल सरकार के मुख्य सचिव मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ आम आदमी पार्टी के विधायक द्वारा मारपीट के मामले पर दिल्ली के उत्तम नगर से AAP MLA नरेश बाल्यान ने विवादित बयान देते हुए कहा कि ऐसे अधिकारियों को ठोकना चाहिए।

AAP MLA नरेश बाल्यान के विवादित बोल-

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सामने सरकार के मुख्य सचिव मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ आम आदमी पार्टी के विधायकों द्वारा मारपीट के मामले पर उत्तम नगर के AAP MLA नरेश बाल्यान ने विवादित बयान देकर इस मामले को और हवा दे दी है।

एमएलए नरेश बाल्यान ने कहा कि जो मुख्य सचिव के साथ हुआ, जो इन्होने झूठा आरोप लगाया, मैं तो कह रहा हूं ऐसे अधिकारियों को ठोकना चाहिए जो आम आदमी के काम रोक के बैठे हैं। ऐसे अधिकारियों के साथ यही सलूक होना चाहिए।

वहीं इससे पहले आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया कि मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर कथित हमला मामले में दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन पर बयान बदलने का दबाव बनाया है। आप के कुछ विधायकों पर प्रकाश के साथ हाथापाई करने का आरोप है।

उप राज्यपाल अनिल बैजल पर निशाना

आप के वरिष्ठ नेता आशुतोष और संजय सिंह ने दावा किया कि यह दिल्ली में आप सरकार को अस्थिर करने की एक चाल है। दिल्ली के मंत्री इमरान हुसैन एवं दिल्ली डॉयलॉग आयोग के उपाध्यक्ष अशीष खेतान पर हमला मामले में सबूत दिए जाने और इसकी शिकायत किये जाने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए आशुतोष ने उप राज्यपाल अनिल बैजल पर निशाना साधा और उन्हें ‘भाजपा का एजेंट' करार दिया।

उस वक्त कमरे में क्या हुआ

सोमवार रात सिविल लाइंस इलाके में स्थित केजरीवाल के आवास पर जब आप विधायकों ने कथित तौर पर प्रकाश पर हमला किया तब जैन वहां मौजूद थे। संजय सिंह ने कहा कि पुलिस को दिए अपने पहले बयान में उन्होंने कहा था कि कथित हाथापाई की घटना के वक्त वह शौचालय में थे और उन्हें नहीं पता कि उस वक्त कमरे में क्या हुआ।

बदल गया जैन का बयान

सिंह ने कहा कि हालांकि पुलिस ने बताया कि जैन ने कल दावा किया कि जब वह शौचालय से लौटे तो उन्होंने देखा कि मुख्य सचिव अंशु प्रकाश अपना चश्मा ढूंढ रहे थे। यह सब संभावित हमले की ओर इशारा करता है। आखिर जैन ने एक ही दिन में अपना रुख क्यों बदल दिया? किसके दबाव में उन्हें मजबूरन अपना बयान बदलना पड़ा? उन्होंने दावा किया कि दिल्ली पुलिस जैन को साथ ले गई थी और उन पर अपना बयान बदलने का दबाव डाला।

कानून का पालन

उन्होंने कहा कि यह कैसे हो सकता है कि जब उन्हीं जैन ने जोर देकर कहा था कि जिस समय वह वहां मौजूद थे उस दौरान उन्होंने कोई हमला नहीं देखा और अब वह कुछ और दावा कर रहे हैं? इन आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली पुलिस के विशेष सीपी एंव मुख्य प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक ने कहा कि विभाग केवल नियमों और कानून का पालन कर रहा है।

सीसीटीवी कैमरे की फुटेज

पाठक ने कहा कि उचित प्रक्रिया के तहत सबसे पहले पुलिस ने बयान दर्ज किए और फिर अदालत के समक्ष बयान दर्ज किए गए। आशुतोष ने कहा कि प्रकाश की ‘मेडिको-लीगल केस रिपोर्ट' में कहा गया है कि हमला रात 12 बजे हुआ, लेकिन सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में वह रात साढ़े 11 बजे केजरीवाल के आवास से जाते दिखाई दे रहे हैं।

Next Story
Top