Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्कूल में हुई छात्र की संदिग्ध मौत, परिजनों ने लगाए स्कूल प्रशासन पर आरोप

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के थाना खजूरी खास इलाके के सादतपुर के इंटर कॉलेज जीवन ज्योति स्कूल में 16 साल के इकलौते बच्चे तुषार की संदिग्ध हालत में मौत हो गई।

स्कूल में हुई छात्र की संदिग्ध मौत, परिजनों ने लगाए स्कूल प्रशासन पर आरोप

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के थाना खजूरी खास इलाके के सादतपुर के इंटर कॉलेज जीवन ज्योति स्कूल में 16 साल के इकलौते बच्चे तुषार की संदिग्ध हालत में मौत हो गई।

इसे भी पढ़ेंः विजेंद्र गुप्ता, भाजपा के मेयरों से धक्कामुक्की के आरोप में ‘आप' के चार विधायकों पर मामला दर्ज

सोलह साल का तुषार जीवन ज्योति पब्लिक स्कूल में नौवीं क्लास में पढ़ता था। वह गुरुवार को सुबह 8 बजे के करीब स्कूल के लिए घर से निकला था। उसके बाद परिवार को सूचना मिली कि तुषार स्कूल में बेहोश पड़ा हुआ है।
तुषार को पास के मावी अस्पताल में ले जाया गया जहां से बच्चे को गुरु तेग बहादुर अस्पताल में ले जाया गया। वहां पर डॉक्टरों ने बच्चे की जांच की और उसे मृत घोषित कर दिया। इस घटना पर तुषार के परिजनों ने स्कूल का घेराव किया।

परिजनों ने स्कूल पर लगाया हत्या का आरोप

परिजनों ने उसकी हत्या का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है कि झगड़ा होने के बाद कुछ लड़कों ने पीट-पीटकर तुषार को मौत के घाट उतार दिया। वहीं स्कूल प्रशासन दस्त की वजह से मौत होना बता रहा है। खजूरी खास थाना पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए जीटीबी मोर्चरी भेज दिया है।

गैर-इरादतन हत्या का केस दर्ज

शुक्रवार को मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। पुलिस ने इस मामले में गैर-इरादतन हत्या का केस दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक, तुषार परिवार के साथ गली नंबर-3, तुकमीरपुर, करावल नगर में रहता था।

बाथरुम में अचेत मिला तुषार

परिवार में पिता सुनील कुमार और मां निशा है। पिता एमसीडी में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी हैं। तुषार सादत नगर स्थित जीवन ज्योति पब्लिक स्कूल में 9वीं कक्षा का छात्र था।
बृहस्पतिवार सुबह तुषार स्कूल गया था। इस बीच 10.30 बजे छात्रों ने उसे स्कूल के बाथरूम में अचेत देखा। मामले की सूचना शिक्षकों व प्रिंसिपल को दी गई। शिक्षक तुषार को जीटीबी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

स्कूल प्रशासन घटना पर डाल रहा पर्दा’

तुषार के चचेरे भाई रवि ने आरोप लगाया है कि उसके भाई की स्कूल में ही हत्या कर दी गई, लेकिन स्कूल प्रशासन उस पर पर्दा डाल रहा है। रवि का कहना है कि उसने अपने भाई का शरीर देखा है।
सीने और गर्दन पर गुम चोटों के निशान हैं। स्कूल प्रशासन ने जानबूझकर पूरे मामले को दबाने की कोशिश की। रवि का आरोप है कि यदि स्कूल की मंशा सही होती, वह समय पर परिवार को सूचना देता। तुषार की मौत 10.30 बजे हो चुकी थी, लेकिन स्कूल ने जीटीबी अस्पताल से 12 बजे उसके बीमार होने की सूचना दी।

परिजनों ने करावल नगर चौक पर लगाया जाम

तुषार के लिए इंसाफ की मांग करते हुए बृहस्पतिवार शाम को परिजनों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों ने करावल नगर चौक पर जाम लगा दिया। सूचना मिलते ही काफी संख्या में पुलिस बल पहुंच गया।
परिजन आरोपियों को पकड़ने और उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे। परिजनों का आरोप था कि तुषार की मौत के लिए कहीं न कहीं स्कूल प्रशासन भी जिम्मेदार है। स्कूल में जाने के बाद बच्चे की जिम्मेदारी स्कूल प्रशासन की हो जाती है। पुलिस ने परिजनों को समझा-बुझाकर वहां से हटाया।
Next Story
Top