Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

DSSSB कार्यालय के बाहर धरने भर बैठें छात्र, दिल्ली सरकार नहीं कर रहीं सुनवाई

डीएसएसएसबी की टीचर भर्तियों पर आवेदन सिर्फ ऑनलाइन ही किए जा रहे हैं। लेकिन छात्रों को ऑनलाइन आवेदन करने में कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

DSSSB कार्यालय के बाहर धरने भर बैठें छात्र, दिल्ली सरकार नहीं कर रहीं सुनवाई

दिल्ली सरकार के दिल्ली अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड यानि डीएसएसएसबी ने हाल ही में 9232 अध्यापक पदों पर भर्तियां निकाली है। इन भर्तियों पर आवेदन करने की अंतिम तारिख 31 जनवरी है।

डीएसएसएसबी की इन भर्तियों पर आवेदन सिर्फ ऑनलाइन ही किए जा रहे हैं। लेकिन छात्रों को ऑनलाइन आवेदन करने में कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

इसे भी पढ़ेंः लाभ का पद मामलाः HC ने मांगा चुनाव आयोग से जवाब

ऑनलाइन आवेदन 5 जनवरी से शुरु हुआ था। आवेदन प्रक्रिया शुरु होने के बाद डीएसएसएसबी की वेबसाइट बीच में चार-पांच दिनों के लिए बंद हो गई। बेवसाइट पर फोर्म ओपन होने के बाद भी आवेदनकर्ताओं को कई तरह की समस्या का सामना कर पड़ रहा है।

आवेदनकर्ताओं ने बताया कि डीएसएसएसबी की वेबसाइट सही तरीके से नहीं खुल रही है, फोर्म आधे-अधूरे ही भरे जा रहे हैं। ऑनलाइन फोर्म में अचानक से कोई ऑप्शन आते है, जब हम फिल करते हैं तो अगले ही पल में गायब हो जाते है।

डीएसएसएसबी पब्लिक डीलिंग ऑफिसर की सलाह पर विश्वास नहीं

ऑनलाइन फोर्म में आ रही दिक्कतों की शिकायत करने के लिए कुछ छात्र डीएसएसएसबी के कार्यालय भी गए लेकिन उन्हें उचित जबाव नहीं मिला। एक छात्र ने बताया कि डीएसएसएसबी की ओर पब्लिक डील करने वाले अधिकारी छात्रों को सिर्फ फोर्म भरने की हिदायत दे रहे थे, उनका कहना था कि गलत-सही जैसा भी फोर्म फिल हुआ है भर दें, अगर सिलेक्शन होता है तो एफेडेबिट लगा कर सही हो जाएगा। लेकिन आवेदनकर्ताओं को पब्लिक डीलिंग ऑफिसर की बातों का विश्वास नहीं हो रहा है।

डीएसएसएसबी का कार्यालय या जेल

एक छात्र ने बताया कि हमे अंदर अधिकारियों से मिलने नहीं दिया जा रहा है। एंट्री गेट पर बड़े ताले से बंद कर रखा है। डीएसएसएसबी कार्यालय के बाहर नुकीले ग्रिल और कंटीले तारों की फेंसिंग कर रखी है जैसे अंदर कोई जेल हो? बाहर इतनी भीड़ है और कोई अधिकारी भी बाहर निकलकर बात करने नहीं आ रहा है।

किसी काम का नहीं हेल्पलाइन का नंबर

एक छात्रा ने बताया कि डीएसएसएसबी के अधिकारी सूचना भी ठीक तरीके से नहीं दे रहे है। डीएसएसएसबी ने हेल्पलाइन नंबर तो दे रखा है लेकिन कोई उठाता नहीं है। छात्रा ने आगे बताया कि नोटिसबोर्ड पर नोटिस कम जंग ज्यादा लगे हुए हैं। अधिकत्तर नोटिस पर कोई तारिख नहीं पड़ी है। ऊपर नोटिस बोर्ड को इस तरह ढका हुआ है कि कुछ भी सही से दिखाई नहीं दे रहा है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल से अपील

एक छात्र ने हरिभूमि के माध्यम से दिल्ली के मुख्यमंत्री और दिल्ली के उपराज्यपाल से अपील की है कि डीएसएसएसबी के कार्य प्रक्रिया को उचित बनाने के लिए ठोस कदम उठाए, हम जैसे बहुत से छात्र हैं जिन्हें डीएसएसएसबी की कार्यशैली को लेकर कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

रिजल्ट घोषित करने की मांग पर धरना

इसके अलावा डीएसएसएसबी कार्यालय के बाहर 2013 में निकली परिवहन विभाग में हेड कांस्टेबल की भर्ती (43/13) को लेकर कुछ अभ्यर्थी धरने पर बैठे हुए हैं। इनका कहना है कि 2013 में परिवहन विभाग में हेड कांस्टेबल की परीक्षा तो हो गई है लेकिन रिजल्ट अभी तक नहीं दिया गया है। यह लोग परिणाम घोषित करवाने की मांग को लेकर धरने पर बैठे हुए हैं।

Next Story
Top