Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

तिहाड़ जेल में कैदी की संदिग्ध हालात में मौत, परिजनों ने हत्या का जताया शक

दिल्ली के तिहाड़ जेल में एक सजा याफता कैदी की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। मृतक सामूहिक दुष्कर्म और पोक्सो एक्ट के तहत जेल में बंद था। मृतकों के परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है।

तिहाड़ जेल में कैदी की संदिग्ध हालात में मौत, परिजनों ने हत्या का जताया शक

तिहाड़ जेल में एक बार फिर कैदी की संदिग्ध हालात में मौत का मामला सामने आया है। मृतक 24 साल का नरेन्द्र सामूहिक दुष्कर्म और पोक्सो एक्ट में बंद था। शनिवार दोपहर पुलिस को डीडीयू अस्पताल से इसकी सूचना मिली थी।

शव को पोस्टमॉर्टम के लिये भिजवा मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिये गए हैं। तिहाड़ जेल के अधिकारियों का कहना है कि मरने वाले ने खुद ही दीवार में कई बार सिर मारा, जिस कारण उसकी जान गई। वहीं, इस कैदी का केस लड़ रहे एडवोकेट ने उसकी हत्या करने का इल्जाम लगाया है।

मिली जानकारी के अनुसार करीब ढाई साल पहले रनहौला थाने में सामूहिक दुष्कर्म और पॉक्सो का केस दर्ज किया गया था। इस मामले में छह आरोपी गिरफ्तार किये गए, जिनमें से एक नरेन्द्र भी था। वह जेल नंबर पांच में बंद था।

डीसीपी वेस्ट विजय कुमार ने बताया कि शनिवार दोपहर एक बजे डीडीयू अस्पताल से इस कैदी की मौत के बारे में खबर मिली थी। उसकी मौत का वास्तविक कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही साफ हो सकेगा।

केस की जांच मजिस्ट्रेट करेगें। वहीं जेल के एक अधिकारी ने कहा इस कैदी के बारे में शुक्रवार को शिकायत मिली थी, जिसके बाद उसे बुलाया गया था। तभी उसने खुद का सिर कई बार दीवार पर दे मारा। यह पता चलने पर उसे गंभीर हालत में डीडीयू ले जाया गया था।

कैदी के एडवोकेट एपी सिंह का कहना है नरेन्द्र का परिवार हरफूल विहार नजफगढ में रहता है। केस की अगली तारीख 11 जुलाई थी। एडवोकेट का दावा है कि जब भी नरेन्द्र पेशी पर कोर्ट आता था तो वह अपने परिजनों को जान का खतरा होने की बात करता था।

वह बताता था कि जेल में एक कर्मचारी है जो उसे अक्सर बुरी तरह मारता पीटता है। एडवोकेट ने बताया उन्हें दोपहर तीन बजे नरेन्द्र की मौत होने की खबर मिली थी। कैसे मौत हुई जब इस बारे में हरि नगर थाने से पूछा गया तो पुलिस जांच जारी होने के नाम पर कोई संतोष जनक जवाब नहीं दे सकी।

Next Story
Top