Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बहुत खराब है ''दिल्ली की हवा, राजधानी में छाई है धुंध की मोटी चादर, अगले महीने और बिगड़ सकते हैं हालात

दिल्ली में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक वायु गुणवत्ता सूचकांक 348 दर्ज किया गया जो ''बहुत खराब'' श्रेणी दर्शाता है। धुंध की मोटी चादर छाई रहने से दिल्ली में हवा की गुणवत्ता ''बहुत खराब'' श्रेणी में रही।

बहुत खराब है

राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों के मुताबिक, समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 348 दर्ज किया गया जो 'बहुत खराब' श्रेणी दर्शाता है। धुंध की मोटी चादर छाई रहने से सोमवार को भी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में रही।

शहर में अलग-अलग जगहों पर बनाए गए 29 निगरानी केंद्रों ने हवा की गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्शाई जबकि चार केंद्रों ने हवा की गुणवत्ता 'अत्यंत गंभीर' श्रेणी की बताई। एक्यूआई का स्तर 0 से 50 के बीच अच्छा माना जाता है।

इसे भी पढ़ें- मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018: राहुल गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इंदौर में किया रोड शो

51 से 100 के बीच यह संतोषजनक स्तर पर होता है और 101 से 200 के बीच इसे मध्यम श्रेणी में रखा जाता है। हवा की गुणवत्ता का सूचकांक 201 से 300 के बीच खराब, 301 से 400 के बीच बहुत खराब और 401 से 500 के बीच अत्यंत गंभीर स्तर पर माना जाता है।

अधिकारियों की दलील है कि निर्माण कार्य, वाहनों से होने वाले प्रदूषण, पंजाब एवं हरियाणा में खेतों में पराली जलाए जाने जैसे कारकों की वजह से दिल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता लगातार गिर रही है।

इसे भी पढ़ें- राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट शीघ्र निर्णय करे या सरकार कानून बनाकर बाधाओं को दूर करे: आरएसएस

राष्ट्रीय राजधानी में धुंध की मोटी चादर छाई हुई है। अधिकारियों का कहना है कि अगले महीने त्योहारों के दौरान हालात और बिगड़ सकते हैं।

केंद्र द्वारा संचालित वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान एवं शोध प्रणाली (सफर) के मुताबिक, प्रदूषण बहुत खराब श्रेणी के ऊपरी स्तर तक बढ़ सकता है, लेकिन अगले दो दिनों तक यह अत्यंत गंभीर श्रेणी में नहीं जाएगा।

Next Story
Top