Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली-एनसीआर: एयर क्वालिटी में थोड़ा सुधार, धूल नियंत्रण पर निगरानी के निर्देश

सरकार ने धूल न उड़ने देने और कूड़ा जलाने जैसी सभी गतिविधियों पर सख्ती से नियंत्रण रखने और निगरानी करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली-एनसीआर: एयर क्वालिटी में थोड़ा सुधार, धूल नियंत्रण पर निगरानी के निर्देश

केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री डा. हर्षवर्धन ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) दिल्ली और आसपास के इलाकों में छायी धूल की परत से उत्पन्न हालात पर नियंत्रण के लिये संबद्ध एजेंसियों को जारी दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन सुनिश्चित कराने और स्थिति पर निगरानी रखने का निर्देश दिया है।

हर्षवर्धन ने आज दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हवा की गुणवत्ता में सुधार आने की जानकारी देते हुये बताया कि केन्द्र और राज्य सरकारों की संबद्ध एजेंसियों को धूल न उड़ने देने और कूड़ा जलाने जैसी सभी गतिविधियों पर सख्ती से नियंत्रण रखने और निगरानी करने का निर्देश दिया गया है।

मंत्रालय की ओर से जारी बयान के अनुसार 12 और 13 जून को राजस्थान में धूल भरी आंधी के कारण दिल्ली एनसीआर क्षेत्र के वायुमंडल में धूल की परत जमने से हवा की गुणवत्ता अब तक के सबसे खराब स्तर पर पहुंच गयी थी। इस स्थिति में आज सुधार दर्ज किया गया।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में आज शाम चार बजे पीएम 10 का स्तर 759 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर दर्ज किया गया जबकि कल शाम पांच बजे तक इसका स्तर 823 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर था।

स्थिति की गंभीरता को देखते हुये डा. हर्षवर्धन ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और राज्यों के स्थानीय निकायों को निर्माण कार्य सहित धूल उड़ने के अन्य सभी स्रोतों पर नियंत्रण और निगरानी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है।

इस दिशा में मंत्रालय द्वारा ग्रेडिड रिस्पांस एक्शन प्लान (जीआरएपी) के तहत पहले से जारी दिशानिर्देशों का पालन भी करने को कहा गया है। जिससे कूड़ा जलाने जैसी गतिविधियों पर सख्ती से रोक लगाने का निर्देश दिया गया है।

इस बीच जीआरएपी के तहत गठित कार्य बल की आज केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और दिल्ली सरकार के अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक में दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में रविवार तक निर्माण कार्यों पर पूरी तरह से रोक लगा दी गयी है।

मौसम विभाग ने दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हवा की गति बहुत कम होने और बारिश की संभावना नगण्य होने के आधार पर हवा में छाये धूल के गुबार की स्थिति अगले दो दिनों तक बरकरार रहने की आशंका जतायी है।

Next Story
Top