Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

छात्रा खुदकुशी मामलाः FIR में IO ने नहीं किया छेड़छाड़ का जिक्र, पुलिस प्रशासन ने किया निलंबित

नोएडा में पढ़ाई के प्रेशर से परेशान होकर एक छात्रा द्वारा खुदकुशी का मामला सामने आया है। फिलहाल, पुलिस ने मामले में केस दर्ज कर छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

छात्रा खुदकुशी मामलाः FIR में IO ने नहीं किया छेड़छाड़ का जिक्र, पुलिस प्रशासन ने किया निलंबित

नोएडा में पढ़ाई के प्रेशर से परेशान होकर एक छात्रा द्वारा खुदकुशी का मामला सामने आया है। फिलहाल, पुलिस ने मामले में केस दर्ज कर छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस को छात्रा के शव के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। वहीं मृतका के परिवार वाले अपनी बेटी की मौत के लिए स्कूल वालों पर आरोप लगा रहे हैं।

क्या है मामला

मयूर विहार फेज-1 के एलकॉन पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाली 9वीं क्लास की 15 साल की छात्रा ने सोमवार अपने घर में पंखे से खुद को फांसी लगा ली। घरवालों ने शाम 5 बजे बेटी को पंखे से लटका देखा और अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

परिजनों ने स्कूल पर लगाया आरोप

मृतका के परिवार का आरोप है कि बच्ची ने कम नंबर और टीचर्स द्वारा प्रताड़ित किए जाने पर ऐसा कदम उठाया। मृतका के पिता का कहना है कि मेरी बेटी मुझे बताया था कि उसके SST टीचर ने उसे गलत तरीके से छुआ था।

हालांकि, मैं भी एक टीचर हूं इसलिए मैंने उससे कहा कि वह ऐसा नहीं कर सकते, शायद यह गलती से हुआ हो। पर मेरी ने बताया कि वह डरी हुई है और चाहे जितना अच्छा लिखे, टीचर उसे फेल कर देंगे और वह SST में सच में फेल हो गई। मेरी बेटी को स्कूल ने मारा है।
पुलिस के मुताबिक, मृतका के परिजनों का आरोप है कि स्कूल में उनकी बेटी को दो टीचरों द्वारा लगातार प्रताड़ित किया जा रहा था। एग्जाम में कम नंबर आने की वजह से टीचर छात्रा पर प्रेशर बना रहे थे और वह डिप्रेशन में आ गई थी। इसी वजह से उसने खुदकुशी की। पुलिस IPC की धारा 306, 506 और POCSO एक्ट के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।
वहीं नोएडा पुलिस ने इस मामले के पहले जांच अधिकारी को लापरवाही बरतने के आरोप में सस्पेंड कर दिया है। अधिकारी ने शिकायत दर्ज करते हुए उसमें छेड़छाड़ के आरोप को शामिल नहीं किया था। अब इस मामले की जांच दूसरे अधिकारियों को सौंपी गई है।
Next Story
Top