Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

निर्भया कांड के 5 साल: जाने क्रूर वारदात के बाद दिल्ली कितनी सुरक्षित?

दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में काम कर रही और रह रही महिलाएं केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के महिला सुरक्षा के दावों के विपरीत खुद को यहां सुरक्षित महसूस नहीं करतीं।

निर्भया कांड के 5 साल: जाने क्रूर वारदात के बाद दिल्ली कितनी सुरक्षित?

दिल्ली में 16 दिसम्बर 2012 में हुए निर्भया कांड की पांचवीं बरसी शनिवार को है। दिल्ली में 23 वर्षीया निर्भया के साथ बस में क्रूरतम तरीके से सामूहिक दुष्कर्म करके उसे बुरी तरह घायल किया गया था।

इस घटना ने दिल्ली को शर्मसार कर दिया था। निर्भया ने मौत से 13 दिन तक जूझते हुए इलाज के दौरान सिंगापुर में दम तोड़ दिया था। निर्भया के इस भयानक हादसे के बाद देश की राजधानी दिल्ली को 'दुष्कर्म' की राजधानी' की संज्ञा दी जाने लगी।

लेकिन क्या देश की राजधानी दिल्ली में महिलाएं अब सुरक्षित है? आपराधिक आंकड़ों में तो इसकी पुष्टि होती नहीं दिखती। आपको बता दें कि दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में काम कर रही और रह रही महिलाएं केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के महिला सुरक्षा के दावों के विपरीत खुद को यहां सुरक्षित महसूस नहीं करतीं।

खबरों के मुताबिक दिवंगत निर्भया को श्रद्धांजलि देने के लिए 1090 वूमेन पावर हेल्पलाइन और लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन की ओर से एक कार्यक्रम चारबाग मेट्रो स्टेशन पर आयोजित किया जाएगा।

मिली जानकारी के अनुसार शनिवार दोपहर 2 बजे होने वाले इस कार्यक्रम में स्कूली छात्राओं समेत बड़ी संख्या में लोग निर्भया को श्रद्धांजलि देंगे। लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी अमित कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी को भी पहुंचेंगी।

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ें

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा 2016-17 के जारी आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में अपराध की अधिकतम दर 16.04 प्रतिशत रही, जबकि इस दौरान अपराध की राष्ट्रीय औसत दर 55.2 प्रतिशत है।

इस समीक्षाधीन अवधि में दिल्ली में दुष्कर्म (2,155 दुष्कर्म के मामले, 669 पीछा करने के मामले और 41 मामले घूरने) के लगभग 40 प्रतिशत मामले दर्ज हुए।

Next Story
Top