Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जन शरणम: कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से सबका मन मोहा

राजधानी दिल्ली के हिन्दी भवन में एनजीओ ‘जन शरणम’ ने अपना तीसरा वार्षिकोत्सव बड़े हषोल्लस के साथ मनाया।

जन शरणम: कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से सबका मन मोहा

राजधानी दिल्ली के हिन्दी भवन में एनजीओ ‘जन शरणम’ ने अपना तीसरा वार्षिकोत्सव बड़े हषोल्लस के साथ मनाया। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसके अंतर्गत न केवल संस्था बल्कि अन्य प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा उत्कृष्ट प्रस्तुतियां दी गई। वार्षिकोत्सव में सोशल और शक्ति अवॉर्ड का आयोजन भी किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बिजनेस वर्ल्ड के चेयरमैन अनुराग बतरा, विशिष्ठ अतिथि के रूप में करमवीर यादव एडिशनल प्राइवेट सकेटरी गर्वनमेंट इंडिया, डॉ. डी के गुप्ता, शिखा शर्मा प्रसिद्ध डायटीशियन व न्यूटिशस्ट, प्रियंका टंडन स्पीचुअल हिलर, रूबी फोगाट यादव पूर्व मिसेज एशिया व भाजपा नेत्री, खुशी राम पूर्व मेयर साउथ आदि उपस्थित रहे।

कार्यक्रम में देश व विदेश में अपनी आवाज का परचम लहरा चुके गायक दिवाकर शर्मा, चाइल्ड आर्टिस्ट व एक्टर रूबल जैन, अदिति जैसवाल, बृन्दा शर्मा, कृष्णा चौधरी और माला स्मृति होम के द्वारा उत्कृष्ठ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी गई। कल्पना ठाकुर, सुषमा पंकुले, सुधा कुमारी, भगत सिंह सेना, डॉ देबाब्रत बिश्वास व अनीता नेगी को शक्ति इम्पेक्ट अवॉर्ड व देव मलिक, ऋचा वशिष्ठ, अनुज चौधरी, नेहा गुप्ता, डॉ ऋचा आर्या, खुशीराम, जे.पी. सिंह, वीरवती सिंह, उल्लास पी.आर को सोशल इम्पेक्ट अवॉर्ड से नवाजा गया।

झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले गरीब बच्चों व महिलाओं को समर्पित संस्था ‘जन शरणम’ को वी मार्ट के राजन प्रसाद, सात्वा के डायरेक्टर प्रशांत पारिख, ट्रैवलॉनिक के सीईओ गगन गौर, एनिमल बूस्टर के संस्थापक व डायरेक्टर अनुज चौधरी, फेलिक्स हॉस्पिटल के सीएमडी डॉ. डी के गुप्ता, कैराली आयुर्वेदिक ग्रुप से पवन कामरा आदि अपना पूरा सहयोग देते रहते हैं। इस कार्यक्रम में भी इनका काफी योगदान व सहयोग रहा। संस्था ने सभी को आभार व्यक्त किया।

इस अवसर पर संस्था के अध्यक्ष रमांशु वर्मा ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि ‘जन शरणम’ को आप सभी को प्यार, स्नेह, योगदन, सहयोग हमेशा मिलता रहा है। उसी की बदौलत आज हम यहां पहुंचे हैं। हम झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले बच्चों व महिलाओं को शिक्षा व प्रशिक्षण देते है। ताकि वे लोग जो पढ़ने के लिए स्कूल नहीं जा सकते और जो महिलाएं पैसे खर्च करके सिलाई नहीं सीख सकतीं, उनको हमारी संस्था नि:शुल्क शिक्षा व प्रशिक्षण दे रही है।

उन्होंने आगे बताया कि हमारी संस्था में ऐसे बच्चे भी आये जो नशे की लत के शिकार थे, लेकिन आज हमारे परिवार में आकर वे बच्चे उचित शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। कई बच्चे ऐसे हैं जो अकेले ही अपना घर चला रहे हैं। इसके लिए मेरी पूरी टीम बधाई की पात्र है, उन सभी के सहयोग से आज हमारी संस्था ‘जन शरणम’ प्रगित की ओर बढ़ रही है।

जन शरणम के बारे में

वर्ष 2015 में समाज के अशिक्षित एवं पिछड़े वर्ग की सेवा के उद्देश्य से समाज के विभिन्न क्षेत्रों के अनुभवी प्रोफेशनल मिलकर ‘जन शरणम’ संस्था के द्वारा दिल्ली और उत्तर प्रदेश में इस उद्देश्य से अपना कार्य आरम्भ किया कि समाज के हाशिये पर पड़े क्षेत्रों के बच्चों और महिलाओं को अपने पैरों पर खड़े होने का एक विश्वास पैदा हो ज़ो आगे चलकर भारत के स्वर्णिम भविष्य के यात्री बनकर अपने जीवन का सकारात्मक उपयोग कर सकें।

आरम्भ में जन शरणम की टीम ने दिल्ली और यू पी के ऐसे क्षेत्रों जैसे पिछड़े हुए या झुग्गी झोंपड़ियों की गरीबी में रह रहे स्थानों को चिन्हित किया जहां पर जीवन की आधारभूत शैक्षिक अथवा स्वास्थ्य सुविधाओं का बिल्कुल अभाव है। पहले इस क्षेत्र में पहले से कार्यरत नोएडा के माला स्मृति होम के बच्चों के साथ उनके शैक्षिक एवं व्यक्तित्व सुधार के लिये उन बच्चों के साथ मिलकर कई प्रकार के कार्यक्रम/उत्सवों का आयोजन, तथा NCR के लोगों द्वारा इन बच्चों को समुचित सुविधाएँ प्रदान करवायी गयीं और आज़ ये बच्चे अपना जीवन सार्थक बनाने की दिशा में आगे बढ़ चुके हैं।

इस सफर में माला स्मृति होम के संचालक डा•बिश्वास और उनकी पत्नी के असीम त्याग के आगे हम नतमस्तक रहेंगे जो इन बच्चों को बिल्कुल उनके सगे माता पिता की तरह लालन-पालन कर रहे हैं ।हमने गत वर्षों में इन बच्चों के साथ शैक्षिक/दैनिक आवश्यकताओं/बिल्डिंग के सुन्दरिकरण आदि में योगदान करने के अलावा, उनको दिल्ली जू, म्युसियम तथा ऐतिहासीक स्थानों की मनोरंजक यात्राएं करवाई ज़ो उनके व्यक्तित्व को बहु आयामी बनाने में कारगर सिद्ध हों!

लखनऊ और दिल्ली में जन शरणम स्कूल ना ज़ा पाने वाले बच्चों के लिये फ्री शिक्षा केन्द्र चला रहा है। साथ ही गरीब महिलाओं को सिलाई-कढाई की ट्रेनिंग भी दी ज़ा रही है, जिसके द्वारा वो आर्थिक रूप से भी स्वतन्त्र हो पायें। हम उपरोक्त चिन्हित इलाकों में समय समय पर फ्री मेडिकल और स्वास्थ्य केम्प भी लगा रहे हैं। हमारी योजना है की शीघ्र ही भारत के सभी राज्यों मे ऐसे केन्द्र और सेवायें खोले।

Next Story
Top