Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दिल्ली सीलिंगः दो दिन में 3500 करोड़ का नुकसान, आज दिन भी बंद रह सकते हैं बाजार

सीलिंग के विरोध में दिल्ली में लगातार तीसरे दिन भी बाजार बंद रहने के आसार दिख रहे हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि बंद शाम तक जारी रह सकता है।

दिल्ली सीलिंगः दो दिन में 3500 करोड़ का नुकसान, आज दिन भी बंद रह सकते हैं बाजार

सीलिंग के विरोध में दिल्ली में लगातार तीसरे दिन भी बाजार बंद रहने के आसार दिख रहे हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि बंद शाम तक जारी रह सकता है। वहीं ये भी बताया जा रहा है कि एक अन्य कारोबारी संगठन चैंबर आफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (सीटीआइ) ने तीसरे दिन यानी रविवार को भी बाजार बंद का आह्वान किया है, जिसकी सफलता को लेकर अभी संशय है।

2 दिन बंद से 3500 करोड़ का नुकसान

बाजार बंद का आह्वान करने वाले कारोबारी संगठन कैट की तरफ से बंद को सफल बताते हुए ये दावा किया जा रहा है कि 2 दिन के बाजार बंद में करीब 3500 करोड़ रुपए का कारोबार प्रभावित हुआ है। जिसके चलते सरकार को करीब 300 करोड़ रुपए के राजस्व की चपत लगी है।

यह भी पढ़ें- पाकिस्तान पर जमकर बरसे गृहमंत्री राजनाथ, कहा- किसी की मां ने दूध नहीं पिलाया जो कश्मीर को भारत से अलग करे

बंद का रहा मिला-जुला असर

दिल्ली में दूसरे दिन भी बाजार बंद का असर मिला जुला रहा है। वैसे, शुक्रवार को बंद रहीं कई दुकाने शनिवार को खुली थीं। इन बाजारों में चांदनी चौक, खान मार्केट, कनॉट प्लेस, लक्ष्मी नगर, खारी बावली, शाहदरा, लाजपत नगर, सरोजनी नगर समेत अन्य बाजार शामिल रहे।

गौरतलब है कि सीलिंग के विरोध में कन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने 2 दिन के बाजार बंद की घोषणा की थी। इसमें पहले दिन भी बाजार बंद का मिलाजुला असर था। हालांकि, पहले दिन ज्यादातर बाजार बंद में शामिल थे तो दूसरे दिन करीब 50 फीसद बाजार खुले रहे।

निकला विरोध मार्च

सीलिंग के विरोध में बाजारें बंद कर व्यापारियों ने सदर बाजार से चांदनी चौक स्थित टाउन हाल तक विरोध मार्च निकाला। जो कि नया बाजार व खारी बावली होते हुए टाउन हाल तक पहुंचा।

इस विरोध मार्च में कई बाजारों के कारोबारी नेताओं के साथ दुकानदार और मजदूर भी शामिल हुए। विरोध मार्च के दौरान सीटीआइ के संयोजक हेमंत गुप्ता ने केंद्र सरकार से संसद से कानून पारित करवा कर दुकानदारों को सीलिंग से राहत देने की मांग की।

वहीं कारोबारियों के संगठन कैट के नेतृत्व में निकाले गए विरोध मार्च में शामिल व्यापारियों ने राहत के लिए नगर निगम के साथ, केंद्र सरकार व दिल्ली सरकार से भी तत्काल कदम उठाने की मांग की।

Share it
Top