logo
Breaking

लोकसभा चुनाव 2019 : दिल्ली में कांग्रेस और आप के बीच मध्यस्थ बनेंगे एनसीपी चीफ शरद पवार

दिल्ली के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन को लेकर राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के मुखिया शरद पवार सूत्रधार बन सकते हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 : दिल्ली में कांग्रेस और आप के बीच मध्यस्थ बनेंगे एनसीपी चीफ शरद पवार
दिल्ली में अकेले चुनाव लड़ने के सर्वसम्मत फैसले के कुछ दिन बाद कांग्रेस लोकसभा चुनाव में भाजपा को हराने के प्रयास के तहत यहां आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन करने पर फिर से विचार कर रही है।

शरद पवार बन सकते हैं मध्यस्थ

सूत्रों के मुताबिक, खबर आ रही है कि दिल्ली के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन को लेकर राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के मुखिया शरद पवार सूत्रधार बन सकते हैं।

आप और कांग्रेस के बीच बातचीत

सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस नेतृत्व आप नेताओं से बात कर रहा है और पार्टी के वरिष्ठ नेता अरविन्द केजरीवाल नीत आप के साथ गठबंधन के लिए दिल्ली कांग्रेस के नेताओं को मनाने की कोशिशों में लगे हैं। कांग्रेस के दिल्ली प्रभारी पी सी चाको ने कहा कि आप के साथ गठबंधन की संभावनाओं को लेकर मैं दिल्ली में कांग्रेस नेताओं से विचार-विमर्श कर रहा हूं।

कांग्रेस दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष की गठबंधन पर दो टूक

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस कार्य समिति ने देशभर में समान विचारधारा वाले दलों से गठबंधन करने का फैसला किया है। चाको ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि दिल्ली कांग्रेस के नेता भी इस भावना को समझेंगे और आप के साथ गठबंधन का फैसला करेंगे। लेकिन अंतिम फैसला जल्द ही कांग्रेस अध्यक्ष लेंगे।
मुद्दे पर दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित और चाको के विचार अलग-अलग हैं। दीक्षित स्पष्ट कर चुकी हैं कि राष्ट्रीय राजधानी में बाद में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर आप के साथ गठबंधन करना पार्टी के हित में नहीं होगा।
चाको ने कहा कि दिल्ली में कुछ वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं को लगता है कि भाजपा को हराना पार्टी की तात्कालिक आवश्यकता है और इसके लिए आप के साथ गठबंधन किया जाना चाहिए। इन नेताओं ने मुद्दे पर राहुल गांधी को लिखा है। उन्होंने कहा कि गांधी पार्टी में विचार-विमर्श के बाद जल्द ही अंतिम फैसला करेंगे।
चाको ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि दिल्ली के हमारे नेताओं को भी कांग्रेस कार्य समिति की नीति का पालन करना चाहिए। मैं उनसे बात कर रहा हूं और इस बारे में उन्हें मनाने की कोशिश कर रहा हूं, लेकिन अगर वे अब भी गठबंधन का फैसला नहीं करते तो यह उन पर निर्भर है।'' दिल्ली में लोकसभा चुनाव 12 मई को होगा।
Share it
Top