Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली: बच्चे को EWS कोटे में दाखिले के लिए जब बिजनेसमैन बन गया गरीब, ऐसे हुआ खुलासा

दिल्ली में एक परिवार द्वारा फर्जीवाड़े का बड़ा खुलासा हुआ है। अपने बच्चे को ईडब्ल्यू कोटे के तहत एक नामी स्कूल में पढ़ाने के लिए कमला नगर में रहने वाले एक परिवार ने फर्जी डाक्युमेंट्स बनाए थे।

दिल्ली: बच्चे को EWS कोटे में दाखिले के लिए जब बिजनेसमैन बन गया गरीब, ऐसे हुआ खुलासा

दिल्ली में एक परिवार द्वारा फर्जीवाड़े का बड़ा खुलासा हुआ है। अपने बच्चे को ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत एक नामी स्कूल में पढ़ाने के लिए कमला नगर में रहने वाले एक परिवार ने फर्जी डाक्युमेंट्स बनाए थे।

कमला नगर में रहने वाले बिजनेसमैन गौरव गोयल ने नकली वोटर कार्ड और झूठे जन्म प्रमाण-पत्र बनाकर अपने बड़े बेटे का दाखिला चाणक्यपूरी के संस्कृति स्कूल में कराया। झूठे प्रमाण-पत्र में अपना पता चाणक्यपुरी के संजय कैंप बताया। करीब चार साल पहले उसने अपने बड़े बेटे का दाखिला इस स्कूल में कराया था। चार सालों तक स्कूल वालों को इसकी भनक नही लगी और इतने सालों तक यह फर्जीवाड़ा चलता रहा।

लेकिन मामला तब सामने आया, जब गौरव गोयल ने भी अपने छोटे बेटे का दाखिला उसी स्कूल में सिबलिंग कोटे के तहत कराने की सोची। इस फर्जीवाड़े के सामने आने के बाद स्कूल वालों ने पुलिस को खबर दी और पुलिस ने फिर इस मामले की खोजबीन करनी शुरु कर दी।

पुलिस ने तलाशी अभियान के दौरान कहा कि गोयल का एक एमआरआई बिजनेस है। इसके साथ ही गौरव दालों की बिक्री का एक थोक व्यापार का मालिक है। साथ ही नई दिल्ली के DCP मधुर वर्मा का कहना है परिवार ने नकली प्रमाण-पत्र, निवास-स्थान बनाए थे।

परिवार वालों ने अपने बेटे के दाखिले के लिए नकली वोटर कार्ड और झूठे जन्म प्रमाण-पत्र बनाए थे। गौरव गोयल ने अपनी वार्षिक आय 67,000 बताई थी। साथ ही यह भी कहा कि वह एक एमआरआई कैंद्र में काम करता है।

Next Story
Top