Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दिल्ली पुलिस के 8 शहीद जवानों के परिजनों को केजरीवाल सरकार देगी 1-1 करोड़ की सम्मान राशि

बहादुरी से अपनी सेवा के दौरान शहीद हुए दिल्ली पुलिस के 8 जवानों को के परिजनों को दिल्ली सरकार 1 करोड़ रुपए की सम्मान राशि देगी। ये फैसला दिल्ली सचिवालय में मंगलवार को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की अध्यक्षता हुई मंत्रियों की बैठक में लिया गया। इस बैठक में शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन और राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत मौजूद रहे।

हरियाणा विधानसभा चुनाव : आम आदमी पार्टी ने जारी की 22 उम्मीदवारों की पहली लिस्टHaryana assembly elections Aam Aadmi Party released first list of 22 candidates

जिन आठ पुलिस कर्मियों के परिवारों को 1 करोड़ रुपए की सम्मान राशि देने की मंजूरी दी गई है उनमें एएसआई विजय सिंह, एएसआई जितेंद्र, एएसआई महावीर सिंह, हेड कांस्टेबल गुलजारी लाल, हेड कांस्टेबल राज पाल सिंह कसाना, एसआई खजान सिंह, एएसआई (भूतपूर्व) धर्मबीर सिंह और कांस्टेबल अमरपाल का परिवार शामिल है। उपमुख्यमंत्री ने बैइक में अधिकारियों को निर्देश दिया इन शोक संतप्त परिवारों को तुरंत 1 करोड़ की सहायता राशि दी जाए।

-एएसआई विजय सिंह दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेशों पर भूपेन्द्र सिंह के पीएसओ की ड्यूटी कर रहे थे। भूपेंद्र सिंह के साथ, 30 अप्रैल 2019 को, कुछ बदमाश मोटरसाइकिल पर आए और उन पर गोलियां चलाईं, जिससे वे घायल हो गए।

-एएसआई जितेंद्र 13 नवंबर, 2018 को ट्रैफिक ड्यूटी पर थे, तब ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले एक ऑटो चालक को इन्होंने रोकना चाहा तो लेकिन वह जब भागने लगा तो जितेंद्र ने ऑटो का हैंडल पकड़कर उसे रोकना चाहा लेकिन ऑटो वाले अपना ऑटो नहीं रोका और आखिरकार तेज रफ्तार ऑटो से वह नीचे गिर गया और उन्होंने दम तोड़ दिया।

-एएसआई महावीर सिंह, 12 जुलाई, 2018 को ड्रंकन ड्राइव चेकिंग ड्यूटी पर थे, जब उन्होंने एक कार को रोकने की कोशिश की। कार चालक ने कार रोकने के बजाय, बैरिकेड्स पर ले जाकर महावीर पर ही चढ़ा दी। इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

-हेड कांस्टेबल गुलजारी लाल, 7 जनवरी, 2019 को द्वारका अंडरपास पर नाइट पिकेट ड्यूटी पर थे, जब एक तेज रफ्तार कार आई और बैरिकेड को टक्कर मारकर मौके से भाग गई। बैरिकेड हवा में झूल गया और गुलजारी लाल को गंभीर चोट लगी, जिन्हें बाद में अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। अस्पताल ले जाते समय रास्ते में उसने दम तोड़ दिया।

-हेड कांस्टेबल राजपाल सिंह कसाना, 14 जनवरी, 2019 को एक अवैध हथियार सप्लायर का पीछा कर रहे थे, जब एक कार ने उनकी मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी और उन्होंने दम तोड़ दिया।

-एसआई खजान सिंह, 20 अक्टूबर 2017 को लापता बच्चों की तलाश में झज्जर आ रहे थे, जहां एक सड़क दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई।

-एएसआई धर्मबीर सिंह अपनी ड्यूटी पर थे, 20 अक्टूबर 2017 को कुछ गिरोह के सदस्यों के बारे में संवेदनशील जानकारी एकत्र करते हुए एक सड़क दुर्घटना में उनकी मौत हो गई।

-कांस्टेबल अमरपाल 21 दिसंबर, 2017 को एक मामले की जांच के लिए जा रहे थे कि उनके साथ एक दुर्घटना हो गई और उसमें लगी चोओं के कारण उन्होंने दम तोड़ दिया।

Next Story
Share it
Top