Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भूख से बच्चियों की मौत मामलाः प्रारंभिक मजिस्ट्रेट जांच में पिता के आचरण पर संदेह

पूर्वी दिल्ली में कथित तौर पर भूख के कारण तीन बच्चियों की मौत मामले की प्रारंभिक मजिस्ट्रेट जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि पिता का आचरण संदेह पैदा करता है और इस संबंध में और गहराई से जांच करने की जरूरत है।

भूख से बच्चियों की मौत मामलाः प्रारंभिक मजिस्ट्रेट जांच में पिता के आचरण पर संदेह

पूर्वी दिल्ली में कथित तौर पर भूख के कारण तीन बच्चियों की मौत मामले की प्रारंभिक मजिस्ट्रेट जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि पिता का आचरण संदेह पैदा करता है और इस संबंध में और गहराई से जांच करने की जरूरत है।

इसके साथ ही रिपोर्ट में कहा गया कि पिता ने उन्हें कुछ "अज्ञात दवाई" दी थी। तीनों बहनें मंगलवार को मृत मिली थीं और उस समय से उनका पिता गायब है।
यह रिपोर्ट सरकार को सौंपी गयी। इसमें कहा गया है कि सबसे बड़ी बहन के बैंक खाते में 1805 रूपए थे।
रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि लड़कियां दस्त और उल्टी से पीड़ित थीं जो पेट में किसी प्रकार के संक्रमण के कारण हो सकती हैं। लेकिन उन्हें पर्याप्त ओआरएस घोल और उचित दवाएं नहीं दी गयीं। संभव है कि इस वजह से उनमें निर्जलीकरण हुआ।
इसमें कहा गया है कि पिता मंगल सिंह ने 23 जुलाई की रात अपनी बेटियों को कुछ "अज्ञात दवा गर्म पानी में मिलाकर" दी। वह 24 जुलाई की सुबह से वापस नहीं लौटा है। इसमें कहा गया है कि इस मामले में पिता का आचरण संदेह पैदा करता है और इसमें आगे जांच की आवश्यकता है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि मृत बच्चों की पोषण की स्थिति काफी अच्छी नहीं थी हालांकि उन्हें नियमित रूप से कुछ खाद्य पदार्थ मिल रहा था। इसमें कहा गया है कि पुलिस उपायुक्त (पूर्व) को मामले में गहराई से जांच करने का निर्देश दिया जा सकता है। तीनों बहनों को 24 जुलाई को लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में मृत लाया घोषित कर दिया गया था।
प्रारंभिक शव परीक्षा में पता लगा कि उनकी भूख के कारण मौत हुयी। गुरु तेग बहादुर अस्पताल में एक मेडिकल बोर्ड ने पुलिस के अनुरोध पर दूसरी शव परीक्षा की थी। लेकिन उसकी रिपोर्ट अभी तक सार्वजनिक नहीं की गयी है।
Next Story
Top