Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

शीला दीक्षित के बेटे ने मां की मौत के लिए पीसी चाको को ठहराया जिम्मेदार, पीसी चाको ने बताया इसे राजनीति

दिल्ली विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस में बवाल आ गया है। पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित ने मां की मौत के लिए पीसी चाको को जिम्मेदार ठहराया है। जबकि पीसी चाको ने संदीप दीक्षित पर राजनीति करने का आरोप लगाया है।

शीला दीक्षित के बेटे ने मां की मौत के लिए पीसी चाको को ठहराया जिम्मेदार, पीसी चाको ने बताया इसे राजनीति

दिल्ली विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस में बड़ा बवाल खड़ा हो गया है। दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित ने प्रदेश प्रभारी पीसी चाको को पत्र लिखकर गंभीर आरोप लगाए है। सूत्रों के अनुसार संदीप ने शीला की मौत को चाको की ओर से अत्याधिक मानसिक प्रताड़ना बताया है। जिसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने प्रदेश प्रभारी पीसी चाको के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से अपील की है कि शीला दीक्षित की मौत के कारणों की जांच होनी चाहिए। तब तक के लिए चाको को तुरंत पद से हटाया जाए।

शीला दीक्षित की मौत मामले पर प्रेसवार्ता कर पूर्व मंत्री मंगत राम सिंघल, किरण वालिया, रमाकांत गोस्वामी सहित अन्य ने शीला की मौत के लिए चाको को जिम्मेदार ठहराया। सभी ने कहा कि दिल्ली में कांग्रेस की इतनी बुरी हालत के लिए चाको के निहित स्वार्थ दोषी है। सभी ने लामबंद होते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से अपील की है कि कांग्रेस को गर्त में ले जा रहे चाको को तुरंत पद से हटाया जाए। इस मौके पर पूर्व मंत्री सिंघल ने कहा कि हमने दिल्ली में आज तक बीजेपी की सरकार नहीं बनने दी है। लेकिन अब हालात चिंताजनक हो गए हैं। साल 2015 के चुनावों से अभी तक कांग्रेस का जो नुकसान हुआ है वह सिर्फ चाको के भ्रष्टाचार के चलते हुए है। चाको अपने पद का बेहद गलत उपयोग कर रहे हैं। पूर्व मंत्री रमाकांत गोस्वामी ने कहा कि आज हमने पढ़ा की संदीप दीक्षित ने पत्र लिखा की शीला की मौत के जिम्मेदार चाको हैं। शीला हमारी मां के बराबर थी। भारत के लोग उनका सम्मान करते हैं, और ये खबर दुख पहुंचाने वाली है।

मेरी मां से जुड़ा है मामला

पीसी सार्वजनिक रूप से संदीप ने इस मामले पर कुछ नहीं बोला। फिलहाल इस मामले पर राजनीति गर्मा गई है। इस मुद्दे पर संदीप ने कहा कि यह मामला मेरी मां से जुड़ा है इसलिए चाको के साथ मेरा व्यक्तिगत मामला है। इसमें दिल्ली प्रदेश कांग्रेस का कोई लेना देना नहीं है। मैंने जो पत्र चाको को लिखा है वह उनके प्रदेश प्रभारी के रूप में नहीं बल्कि व्यक्तिगत रूप में लिखा है। एक सवाल के जबाब में संदीप ने कहा कि मेरा दिल्ली कांग्रेस से कोई संबंध ही नहीं है। में कई साल से दिल्ली की राजनीति से दूर हूं। मेरा यहां कोई समर्थक आदि नहीं है। अगर प्रदेश अध्यक्ष के लिए मेरा नाम आ रहा है तो यह पार्टी हाईकमान का मामला है। उन्होंने कहा कि में साफ कर देना चाहता हुं कि मैंने कोई पत्र कांग्रेस को नहीं लिखा है। चाको को व्याक्तिरूप से लिखा है। रही बात किसी समर्थक द्वारा पत्र लिखने की तो मेरा यहां कोई समर्थक नहीं है। मैंने उनको व्यक्तिगत पत्र लिखा था। अब वो इसका सार्वजनिक करें या क्या करें वो जाने।

पीसी चाको ने कहा राजनीति हो रही

संदीप दीक्षित के पत्र पर पीसी चाको की तरफ से भी प्रतिक्रिया आयी है। पीसी चाको ने कहा कि संदीप दीक्षित का पत्र व्यक्तिगत नहीं है। संदीप दीक्षित पत्र के जरिए राजनीति कर रहे हैं। इसके अलावा पीसी चाको ने पत्र के जरिए लगाए आरोपों को पूरी तरह से बेबुनियाद बताया है।


Next Story
Share it
Top