Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''अरविंद केजरीवाल के साथ चपरासी जैसा सलूक करते हैं दिल्ली के गवर्नर'', इन पार्टियों ने किया समर्थन

स मसले पर ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस, माकपा और भाकपा ने भी नरेश अग्रवाल का समर्थन किया था।

मजेंटा लाइन के उद्घाटन समारोह में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को न बुलाना सभी राजनीतिक पार्टियों को खल रहा है। समाजवादी पार्टी के नेता ने राज्यसभा में भाजपा का विरोध किया और अरविंद केजरीवाल के समर्थन में सवाल उठाया है।

सांसद नरेश अग्रवाल ने राज्यसभा में कहा, 'दिल्ली सरकार के पास कोई शक्ति नहीं है। एलजी दिल्ली के मुख्यमंत्री के साथ चपरासी के तरह व्यवहार करते हैं। यह किसी भी मुख्यमंत्री का अपमान है।'

इसे भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री मोदी सांसदों को भेजते हैं गुड मॉर्निंग मैसेज, लेकिन कोई नहीं देता जबाव, दी ये बड़ी नसीहत

अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली में चल रही आम आदमी पार्टी की सरकार और राजधानी के लेफ्टिनेंट गवर्नर के बीच की खींचतान जहां सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुकी है। वहीं, अरविंद केजरीवाल को संसद में विभिन्न विपक्षी दलों का सपोर्ट मिला।

चार पार्टियों ने किया केजरीवाल का समर्थन

इस मसले पर ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस, माकपा और भाकपा ने भी नरेश अग्रवाल का समर्थन किया था। कई सदस्‍यों द्वारा इस मसले को उठाने के बाद उपसभापति पीजे कुरियन ने शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी से इस तकरार को खत्‍म कराने के लिए कदम उठाने को कहा। केंद्रीय मंत्री ने इस दिशा में पहल करने का आश्‍वासन दिया।

ओछी राजनीति

राज्यसभा में दिल्ली विशेष उपबंध संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान सपा के नेता रामगोपाल यादव ने दिल्ली मेट्रो की एक महत्वपूर्ण सेवा के उद्घाटन में दिल्ली के मुख्यमंत्री को नही बुलाने को गलत परंपरा की शुरुआत बताया। इससे पहले तृणमूल कांग्रेस के नदीमुल हक ने यह मुद्दा उठाते हुए इसे ‘ओछी राजनीति’ का नतीजा बताया।

Next Story
Top