Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इन 10 आरोपों की वजह से आप सरकार ने खोया जनता का विश्वास

आप सरकार पर आरोपो का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा, कभी आप सरकार किसी पर आरोप लगाती है तो कभी वे खुद अपने ही कारनामों के वजह से विवादों में घिरे नज़र आते है। ऐसे ही 10 आरोप जिसके कारण आप सरकार सुर्खियों में बनी रहती है।

इन 10 आरोपों की वजह से आप सरकार ने खोया जनता का विश्वास

आप सरकार पर आरोपो का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है, कभी आप सरकार किसी पर आरोप लगाती है तो कभी वे खुद अपने ही कारनामों की वजह से विवादों में घिर जाती है। आज दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने नितिन गडकरी और कपिल सिब्बल से अपने द्वारा लगाए गए गलत आपरोपों पर माफ़ी मांगी, ऐसे जानिए आम आदमी पार्टी के 10 ऐसे आरोप जिसके कारण आप सरकार विवादों में रही...

1. आप सरकार के खिलाफ शिकायतकर्ता राहुल शर्मा ने केजरीवाल के रिश्तेदार बंसल पर ये आरोप लगाए थे कि केजरीवाल के रिश्तेदार बंसल ने अधिकारियों के सहयोग से फर्जी कागजातों के आधार पर कई कंपनियों के नाम पर काम कराने के लिए और फर्जी बिल बनवाए थे। इसके लिए उन्होंने दिल्ली के खजाने को नुकसान पहुंचाया था।
इस मामले में दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर और उनके रिश्तेदार सुरेन्द्र कुमार बंसल और पीडब्ल्यूडी विभाग के कर्मचारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रही है।
2. आप सरकार के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार को जब 4 जुलाई 2016 को कार्यालय से गिरफ्तार किया गया तो लोग हैरान रहे गए। हालांकि मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार को 22 दिनों बाद सीबीआई अदालत ने उन्हें जमानत दे दी, लेकिन उनके भ्रष्टाचार के कारनामों की पोल खुल गई।
राजेन्द्र कुमार ने 2007-2015 के बीच अपने रिश्तेदारों की कम्पनी को दिल्ली सरकार में काम करने का ठेका दिया और उसके बदले में धन भी लिया। इस तरह से दिल्ली सरकार को 12 करोड़ का चूना लगाया और खुद अपने लिए तीन करोड़ रुपये भी कमा लिए।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के खिलाफ भी सीबीआई में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज

3. आप सरकार के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के खिलाफ भी सीबीआई में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज हैं। सिसोदिया पर ये इल्ज़ाम है कि केजरीवाल के टॉक टू एक कार्यक्रम के प्रचार के लिए 1.5 करोड़ रुपये में एक पब्लिक रिलेशन कंपनी को काम सौंप दिया। जबकि मुख्य सचिव ने इसके लिए इजाजत नहीं देने को कहा था, लेकिन सरकार ने बात नहीं मानी थी ।
4. केजरीवाल के मंत्री सत्येंद्र जैन पर हवाला के जरिए 16.39 करोड़ रुपए मंगाने का आरोप है। इसके बाद उनके लॉकर से दो करोड़ रुपये नकद भी पाए गए थे। ये वो जानकारी है जिसे आयकर विभाग ने ट्रेस किया था।
5. आप सरकार के खाद्य मंत्री असीम अहमद खान ने अपने विधानसभा क्षेत्र में एक बिल्डर से निर्माण कार्य जारी रखने के लिए 6 लाख रुपयों की रकम की मांग थी, जिसके बाद बिल्डर ने उनकी रिकॉर्डिंग करके उनकी इस मांग को जग जाहिर कर दिया। इसके दबाव में केजरीवाल को अपने मंत्री को बर्खास्त करना पड़ा।
6. आप सरकार के सामाजिक कल्याण, महिला व बाल विकास मंत्री संदीप कुमार ने राशन कार्ड बनवाने के लिए एक महिला के साथ जबरदस्ती संबंध बनाये थे। इन संबंधों की सीडी सार्वजनिक होने पर केजरीवाल को इन्हें भी मंत्रालय से बर्खास्त करना पड़ा था।
7. हाल ही में जारी हुई सीएजी की रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है कि केजरीवाल सरकार ने दूसरे राज्यों में अपने सरकार का प्रचार करने के लिए दिल्ली सरकार के खजाने का दुरुपयोग किया। पहले साल के काम-काज पर तैयार रिपोर्ट कहती है कि पहले ही साल में केजरीवाल ने 29 करोड़ रुपये दूसरे राज्यों में अपने दल के विज्ञापन पर खर्च किए थे।
8. आप की नेता राखी बिड़लान पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे। आरटीआई के हवाले से दावा करते हुए बीजेपी ने आरोप लगाया कि मंगोलपुरी में 15 हजार की सोलर स्ट्रीट लाइट को एक लाख रुपये और 10 हजार में लगने वाले सीसीटीवी कैमरे पर 6 लाख रुपये खर्च किए गए।
9. भ्रष्टाचार और व्यभिचार के साथ एक बड़ी आबादी पर केजरीवाल सरकार अत्याचार करने से भी नहीं हिचकिचाती। दिल्ली के अंकित सक्सेना मर्डर केस में यही कुछ तो हुआ है। उनके परिजनों के लिए दिल्ली सरकार से मुआवजे की मांग की गई, लेकिन केजरीवाल ने एक इस मांग को नज़रअंदाज कर दिया।
10. आप सरकार पर दिल्ली के कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने आरोप लगाया कि ये क्लिनिक ‘आप’ कार्यकर्ताओं की बिल्डिंगों में चलाए जा रहे हैं। वहीं माकन ने कहा कि उन्होंने इस मामले में एक सर्वे कराकर पता लगाया था कि किस तरह से मोहल्ला क्लिनिकों में घोटाला किया जा रहा हैं।
Next Story
Top