Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

AAP के 9 सलाहकारों को हटाए जाने पर सिसोदिया ने जताई नाराजगी, कहा- लेते थे बस 1 रुपए सैलरी

केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के बीच टकराव कम होता नहीं दिखाई दे रहा है। मंगलवार को गृह मंत्रालय ने आम आदमी पार्टी के 9 सलाहकारों को बर्खास्त कर दिया।

AAP के 9 सलाहकारों को हटाए जाने पर सिसोदिया ने जताई नाराजगी, कहा- लेते थे बस 1 रुपए सैलरी

केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के बीच टकराव कम होता नहीं दिखाई दे रहा है। मंगलवार को गृह मंत्रालय ने आम आदमी पार्टी के 9 सलाहकारों को बर्खास्त कर दिया।

इसे लेकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि बर्खास्त किए गए विधायक राघव चड्ढा और आतिशी मार्लेना को 1 रुपए/महीने की सैलरी पर नियुक्त किया गया था।

इस दौरान मनीष सिसोदिया ने जमकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि पीएम मोदी दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था को बर्बाद करना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें- हरियाणा में बच्‍ची को बचाने टैंक में उतरे दादा-दादी, तीनों की गई जान

इसके साथ ही मनीष सिसोदिया ने नौ सलाहकारों को बर्खास्त करने पर भी नाराजगी जताई। सिसोदिया ने कहा कि BJP सरकार ने उनकी सलाहकार आतिशी मार्लेना को इसलिए निशाना बनाया क्योंकि आतिशी ने शिक्षा व्यवस्था के सुधार में अहम भूमिका निभाई है।

सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा कि इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि क्यों मोदी सरकार ने आतिशी मार्लेना जैसी सलाहकार को बर्खास्त किया। आतिशी ने सेंट स्टीफेंस से पढ़ाई करने के बाद ऑक्सफोर्ड में भी पढ़ाई की है। उन्होंने रोड्स स्कॉलर के तौर पर काम किया फिर वो दिल्ली सरकार में शिक्षा सलाहकार के तौर पर शामिल हुई। इसके आगे उन्होंने लिखा कि आतिशी पिछले 3 साल से मेरे साथ मात्र 1 रुपए प्रति महीने वेतन पर काम कर रही थीं।

वहीं इस मामले को लेकर राघव चड्ढा ने ट्वीट किया कि बलात्कार और नकदी संकट जैसे मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए BJP के इशारे पर गृह मंत्रालय द्वारा प्रभावशाली रणनीति है। गृह मंत्रालय ने मुझे उस पद से हटाने का फैसला लिया, जिस पर 45 दिनों के लिए रहते हुए मैंने केवल 2.50 रुपए सैलरी ली।

ये 9 सलाहकार हुए बर्खास्त

बर्खास्त किए गए सलाहकारों में अतिशी मर्लेना, राघव चड्ढा, अरुणोदय प्रकाश, अमरदीप तिवारी, राम कुमार झा, प्रशांत सक्सेना, समीर मल्होत्रा, दिनकर अदीब और रजत तिवारी शामिल हैं।

हालांकि, दिल्ली सरकार ने दावा किया कि बर्खास्त किए गए सलाहकार प्रशांत सक्सेना डेढ़ साल पहले हाई कोर्ट के एक आदेश के बाद से पद पर नहीं हैं। इसके साथ ही समीर मल्होत्रा और रजत तिवारी भी इस्तीफा दे चुके हैं। वहीं राघव चड्ढा को सिर्फ 2.5 महीने के लिए 2.5 रुपए में नियुक्त किया गया था।

मनीष सिसोदिया का कहना है कि 9 सलाहकारों में से 4 फिलहाल सरकार में काम नहीं कर रहे हैं।
Next Story
Top