Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

1984 सिख विरोधी दंगे/ 22 साल बाद हाई कोर्ट ने 88 दोषियों की सजा बरकरार रखी

हाईकोर्ट ने पूर्वी दिल्ली के त्रिलोकपुरी क्षेत्र में 1984 में सिखविरोधी दंगों के दौरान हुई हिंसा के मामले में निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा है। निचली अदालत ने 88 लोगों को दंगों का दोषी ठहराते हुए 5 साल की सजा का ऐलान किया था, जिसपर 22 साल बाद हाईकोर्ट ने भी मुहर लगा दी है।

1984 सिख विरोधी दंगे/ 22 साल बाद हाई कोर्ट ने 88 दोषियों की सजा बरकरार रखी

हाईकोर्ट ने पूर्वी दिल्ली के त्रिलोकपुरी क्षेत्र में 1984 में सिखविरोधी दंगों के दौरान हुई हिंसा के मामले में निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा है। निचली अदालत ने 88 लोगों को दंगों का दोषी ठहराते हुए 5 साल की सजा का ऐलान किया था, जिसपर 22 साल बाद हाईकोर्ट ने भी मुहर लगा दी है।

दोषियों ने 27 अगस्त 1996 को सुनाए गए ट्रायल कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। ट्रायल कोर्ट ने इन्हें दंगा करने, घर जलाने और कर्फ्यू का उल्लंघन करने का दोषी ठहराया था। अब हाईकोर्ट ने भी ट्रायल कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा है।

इसे भी पढ़ें- करतारपुर कॉरिडोर/ इमरान खान ने कहा- 'सिद्धू तो पाकिस्तान में भी चुनाव जीत सकते हैं'

इससे पहले, 14 नवंबर को सिखविरोधी दंगों के एक मामले में अदालत ने यशपाल सिंह नाम के दोषी को मौत की सजा और नरेश सेहरावत नाम के एक अन्य दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। दोनों को दक्षिणी दिल्ली के महिपालपुर इलाके में 2 सिखों की हत्या का दोषी पाया गया

Next Story
Top