Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बेहतर सोच की जरूरत: सुमित्रा महाजन

देश भर के 600 से अधिक चाइल्ड होम में डेढ़ लाख से अधिक बच्चें हैं

बेहतर सोच की जरूरत: सुमित्रा महाजन
नई दिल्ली. शनिवार को माय होम इंडिया के कार्यक्रम सपनों से अपनों तक के तहत देश के 22 शहरों सहित नेपाल व बांग्लादेश में 1112 बच्चों को उनके माता-पिता से मिलने के उपलक्ष्य में आयोजित हुए कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि लोग सोचते हैं कि सरकारी संस्था में काम करने वालों की सोच सही नहीं होती। ऐसा नहीं है वह भी हमारे तरह इंसान है और बेहतर करना चाहते है।
हमें मिलकर संघर्ष करना होगा
उन्होंने कहा कि अच्छे काम के लिए सज्जन लेकिन निष्क्रिय लोग हैं। दुनिया में बुरे लोगों की संख्या कम है बावजूद इसके उनके हावी होने का कहना अच्छे लोगों का संगठित न होना है। हमें मिलकर संघर्ष करना होगा। इस मौके पर राज्य रेल मंत्री मनोज सिंहा ने कहा कि देश के अधिकतर चाइल्ड होम की स्थिति अच्छी नहीं है, यहां बच्चों के साथ कैसा व्यवहार होता है यह जगजनित है। हमें यहां रहने वाले बच्चों को उनके माता-पिता तक पहुंचाने के लिए हर संभव प्रयास करना होगा।
600 से अधिक चाइल्ड होम में डेढ़ लाख से अधिक बच्चें
वहीं इस मौके पर माय होम इंडिया के संस्थापक सुनील देवधर ने कहा कि देश भर के 600 से अधिक चाइल्ड होम में डेढ़ लाख से अधिक बच्चें हैं इनमें से करीब एक लाख बच्चों को उनके माता-पिता से मिलवाया जा सकता है। हमारी कोशिश है कि 2020 तक उन्हें उनके माता-पिता से मिलवा दिया जाए। उन्होंने कहा कि सर्वे के दौरान पाया गया कि कई संस्थाएं लालच के लिए बच्चों को नशे का आदि बना कर अपना हित साधने का प्रयास कर रही हैं। यह बच्चे आने वाले दिनों में अपराधी बनकर समाज के लिए समस्या बनेंगे। इन्हें सुधारने के लिए जल्द से जल्द इनके माता-पिता तक पहुंचाना होगा।
बढ़ती जनसंख्या बड़ी समस्या
तेजी से बढ़ती जनसंख्या देश के लिए घातक है। नई दिल्ली से सांसद मिनाक्षी लेखी ने कहा कि हमें सामाजिक आंदोलन चला कर लोगों को जागरूक करना होगा। देश के संसाधन सीमित है और लोगों को समझना होगा कि इन्हीं सीमित संसाधन में बच्चों का लालन पालन करना है। अक्सर देखा गया है कि कई परिवारों में बच्चों की सीमा अधिक होती है और बच्चें परेशान होकर घर से भाग जाते है। बिना जनसंख्या नियंत्रण के भविष्य में घरों से बच्चों के भागने की समस्या को दूर नहीं किया जा सकता।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top