Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चलते-चलते आ जाए प्रेशर! तो ऐसे पता करें कहां है टॉयलेट?

यह खबर खासतौर पर लड़कियों के किसी खुशखबरी से कम नहीं है

चलते-चलते आ जाए प्रेशर! तो ऐसे पता करें कहां है टॉयलेट?
नई दिल्ली. आमतौर पर जब आप कहीं बाहर होते हैं और अचानक आपको तेज पोट्टी या फिर सूसू आ जाए तो अब आपको घबराने की जरुरत नहीं है, क्योंकि अब आप अपने स्मार्ट फोन में GPS पर अपने नजदीक के टॉयलेट को ढूंढ सकेंगे।
यह खबर खासतौर पर लड़कियों के किसी खुशखबरी से कम नहीं है। महिलाओं को ऐसी स्थिति में बड़ी मुसीबत का सामना करना पड़ता था। केंद्र सरकार इसके लिए एक रोडमैप तैयार कर रही है जिसमें गूगल मैप मोबाइल ऐप की मदद से आप अपने नजदीक के किसी टॉयलेट के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। एक बार योजना क्रियान्वयित होने पर स्मार्टफोन यूजर टॉयलेट लोकेशन को ट्रेस कर सकेंगे, जैसे अभी वह किसी रेस्ट्रॉन्ट या नजदीक के एटीएम के बारे में पता लगाते हैं।
सूत्रों के मुताबिक नेशनल कैपिटल रीजन (NCR) में यह सुविधा नवम्बर के अंत तक मिलने लगेगी। अभी तक 5,100 टॉयलेटोंं की मैपिंग की जा चुकी है। सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय अगले स्वच्छ पखवाड़ा के शुरू होने से पहले नवंबर के अंत तक इसकी लॉन्चिंग कर देगा। NCR में इस योजना को अमल में लाने के बाद देश भर के अन्य शहरों में भी इसे लाया जाएगा।
जनसुविधा कॉम्पलेक्स, कमर्शल इमारतें जैसे कि मॉल्स, शॉपिंग कॉम्पलेक्स और पेट्रोल पंप के टॉयलेटों को इस मैपिंग में शामिल किया गया है।
एक अधिकारी ने बताया, वर्तमान में लोगों के पास कोई जानकारी नहीं होती कि वे अपने आस-पास किस टॉयलेट का यूज कर सकते हैं। इस सुविधा से सबसे ज्यादा महिलाओं को राहत मिलेगी जिन्हें बहुत ही अजीब स्थिति का सामना करना पड़ता है।
उन्होंने कहा, हम सभी टॉयलेटों की साफ-सफाई की स्थिति को सुधारने पर भी काम कर रहे हैं। टॉयलेट की रैंकिंग देने के लिए हम यूजर्स को विकल्प उपलब्ध कराने पर विचार कर रहे हैं। मंत्रालय की तरफ से पहले ही मोबाइल ऐप लॉन्च करने की तैयारी है जिसमें लोग टॉयलेट की साफ-सफाई के मानकों पर रैंकिंग कर सकेंगे। इस रैंकिंग को म्युनिसिपलटीज को उपलब्ध कराया जाएगा। लोगों की रैंकिग के बाद ऑपरेटर्स पर टॉयलेट की मेन्टीनेंस के लिए दबाव डाला जाएगा।
दिल्ली में वर्तमान नियमों के अनुसार, किसी भी समय अगर किसी जगह पर 20 से ज्यादा लोग एकत्र होते हैं तो वहां पर्याप्त टॉयलेट्स की व्यवस्था होनी चाहिए। किसी भी संगठन, संस्था या आयोजन में अगर इस नियम का उल्लंघन किया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए उसे बंद करने के लिए आदेश भी दिया जा सकता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top