Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सौम्या हत्याकांड: जस्टिस काटजू के खिलाफ अवमानना नोटिस जारी

काटजू ने कहा कि कोर्ट ने अपना फैसला सुनी सुनाई बातों पर ही दिया है।

सौम्या हत्याकांड: जस्टिस काटजू के खिलाफ अवमानना नोटिस जारी
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने अपने पूर्व न्यायाधीश मार्कण्डेय काटजू को शीर्ष अदालत के न्यायाधीशों को कथित रूप से बदनाम करने के मामले में अवमानना नोटिस जारी किया। शीर्ष अदालत ने काटजू के उस ब्लाग पर यह नोटिस जारी किया जिसमें उन्होंने न्यायाधीशों के प्रति कथित रूप से असंयमित भाषा का प्रयोग किया था। उन्होंने कहा था कि बेंच ने सुने-सुनाए सबूतों पर यकीन कर लिया कि सौम्या खुद चलती ट्रेन से कूदी और गोविंदाचामी ने धक्का नहीं दिया था। काटजू ने लिखा था कि लॉ कॉलेज में पढ़ने वाला छात्र भी यह जानता है कि सुने-सुनाए साक्ष्य अदालत में स्वीकार्य नहीं हैं। इस मामले पर सफाई देते हुए न्यायमूर्ति काटजू ने कहा कि शीर्ष अदालत के न्यायाधीश को इस तरह का आचरण नहीं करना चाहिए क्योंकि यह तो एक न्यायाधीश से मुझे धमकी जैसा है।

काटजू को कोर्ट में बुलाया गया
बता दें कि सौम्या मर्डर केस पर काटजू को अपने विचारों को विस्तार से समझाने के लिए कोर्ट में बुलाया गया था। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने केरल के चर्चित सौम्या रेप व मर्डर केस में दोषी गोविन्दचामी की फांसी की सजा रद्द कर दी थी। कोर्ट ने उसे सिर्फ रेप का दोषी माना और उम्र कैद की सजा सुनाई थी। सबूतों के अभाव में गोविन्दचामी को हत्या का दोषी नहीं माना गया था। इस फैसले पर जस्टिस काटजू ने फेसबुक पोस्ट में लिखा था 'मैं मानता हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी को हत्या का कसूरवार न मानकर गलती की है और उन्हें अपने फैसले पर पुनिर्विचार करना चाहिए।'

फैसले की समीक्षा
जस्टिस काटजू ने अपनी पोस्ट में यह भी कहा था कि कोर्ट ने अपना फैसला सुनाने में सिर्फ सुनी सुनाई बातों पर ही ध्यान दिया है। उन्होंने यह भी कहा था कि कानून के मुताबिक एक व्यक्ति तब भी दोषी है 'अगर उसका इरादा कत्ल का न हो लेकिन उसने इस तरह की चोटें पहुंचाई हों जो आम हालात में किसी भी व्यक्ति के मौत की वजह बन सकती है।' इसके बाद पूर्व सुप्रीम कोर्ट जज को 11 नवंबर को कोर्ट में आकर अपनी पूरी बात रखने के लिए बुलाया गया था। आज ही सुप्रीम कोर्ट में सौम्या की मां और केरल सरकार द्वारा दर्ज की गई अपील की सुनवाई भी होनी थी जिसमें फैसले की समीक्षा करने का अनुरोध किया गया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top