Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

RTI रिपोर्टः दिल्ली में आप सरकार के दौरान बढ़ी शराब की दुकानें

आरटीआइ में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की शराब नीति से संबंधित सवाल पूछे गए।

RTI रिपोर्टः दिल्ली में आप सरकार के दौरान बढ़ी शराब की दुकानें
नई दिल्ली. दिल्ली में बीते रविवार को एक प्रेस कॉन्फेंस कर दिल्ली सरकार पर सवाल उठाए गए। बता दें कि जहां एक तरफ शराब दुकानों को बंद किया जा रहा है वहीं इसी बीच एक हैरान करने वाला नया खुलासा सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक, स्वराज अभियान के एक कार्यकर्ता मुकेश गुप्ता ने आरटीआइ लगाकर दिल्ली सरकार से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की शराब नीति से संबंधित कई सवाल पूछे।
ये थे सवाल-
1. दिल्ली में आप सरकार बनने से पहले कितनी शराब की दुकानें थी?
2. आप सरकार के आने के बाद से लेकर अब तक दिल्ली में कितनी शराब की नई दुकानों को खोली गई हैं, कितनों को लाइसेंस जारी किया गया?
3. दिल्ली सरकार ने शराब को बंद करने के लिए क्या-क्या किया?
4. लोगों में जागरूकता लाने के लिए सरकार ने विज्ञापन पर कितने रुपए लगाए?
5. पहले दिल्ली सरकार को शराब ठेकों के लाइसेंस से कितनी आय होती थी, वहीं अब शराब के ठेकों के लाइसेंस से कितनी आय हुई?
6. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता की विधानसभा में कुल कितनी शराब की नई दुकान खोली गई?
आरटीआइ से आए जवाब-
1.आप सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान दिल्ली में शराब के ठेकों की कुल संख्या 595 थी।
2.सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान शराब के ठेकों से 8 अरब 30 करोड़ 48 लाख 13 हजार के करीब आय प्राप्त किया गया।
3. आप सरकार के दूसरे कार्यकाल में शराब के ठेकों की संख्या में बहुत अधिक बढ़ोतरी हुई है करीब 14 फरवरी 2015 से लेकर 4 जून 2016 के अंदर ही दिल्ली में 58 नई शराब के ठेकों को लाइसेंस जारी किया गया। बता दें कि सरकारी नीति के मुताबिक, स्थानीय विधायक की जब तक इजाजत न हो तब तक कोई भी ठेका नहीं खोला जा सकता है।
4. मात्र सवा साल में ही सिर्फ एल-6, एल-7 और एल-10 के ठेकों से ही सरकार ने शराब की बढ़ोतरी से अब तक 15 अरब से ज्यादा की कमाई कर चुकी है।
5. शराब से दूर रहने के विज्ञापनों पर सिर्फ 7 लाख 76 हजार रुपए खर्च किए है।
आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक, विधानसभा से संबंधित सवाल का कोई जवाब नहीं दिया गया। इन सभी बातों को लेकर प्रेस कॉन्फेंस में अरविंद केजरीवाल की शराब नीति पर जमकर वार किया गया। स्वराज अभियान के कार्यकर्ताओं के अनुसार मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल नशा मुक्त पंजाब बाद को बाद में बनाएं सबसे पहले वो दिल्ली को नशे को मुक्त करें, और नशा मुक्त दिल्ली बनाएं। स्वराज अभियान ने मीडिया को आम आदमी पार्टी का मेनिफेस्टो दिखाया, जिसमें अभियान के प्रवक्ता अनुपम का कहना है कि आप सरकार ने दिल्ली से यह वादा किया था कि दिल्ली को नशा मुक्त बनाएंगे।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top