Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जामिया कुलपति के खिलाफ शुरू होगी जांच प्रक्रिया: एचआरडी

पुडुचेरी वीसी की भी जाएगी कुर्सी

जामिया कुलपति के खिलाफ शुरू होगी जांच प्रक्रिया: एचआरडी
नई दिल्ली. जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय (जेएमआई) के कुलपति प्रोफेसर तलत अहमद के खिलाफ अगले सप्ताह से जांच की प्रक्रिया शुरू हो सकती है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने उम्मीद जताई है कि अगले सप्ताह की शुरुआत में ही इस बाबत राष्ट्रपति की लिखित अनुमति मिल जाएगी। करीब सप्ताह भर पहले मंत्रालय ने इसके लिए राष्ट्रपति को फाइल भेजी थी। मंत्रालय के सूत्रों ने हरिभूमि को बताया कि जामिया मिलिया विवि के कुलपति (वीसी) के खिलाफ विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा की गई जांच में फंड के दुरूउपयोग, नैक के सदस्यों के विवि भ्रमण पर गैर-जरूरी अत्यधिक खर्च जैसी गड़बड़ी से लेकर दाखिला प्रक्रिया में अनियमितता के मामले सामने आए। इसके बाद मंत्रालय ने राष्ट्रपति से वीसी के खिलाफ जांच की प्रक्रिया शुरू करने की अनुमति मांगी है।
इस्तीफे की मांग
इसपर मंत्रालय ने कुलपति को कहा कि मंत्रालय को संबोधित करते हुए अपना इस्तीफा भेजिए। वीसी राष्ट्रपति को सीधे संबोधित करके अपना इस्तीफा नहीं भेज सकते। इसपर कुलपति ने कोई जवाब नहीं दिया। मंत्रालय ने दो बार वीसी से फिर से जवाब देने को कहा लेकिन उनका कोई उत्तर मंत्रालय को नहीं मिला। अंत में एचआरडी की ओर से इस मामले पर कानूनी राय ली गई और फिर पुडुचेरी विवि की वीसी की बर्खास्तगी की फाइल राष्ट्रपति को भेजी गई।
पुडुचेरी वीसी की भी जाएगी कुर्सी
सूत्र ने कहा कि मंत्रालय की ओर से पुडुचेरी विश्वविद्यालय की वीसी चंद्रा कृष्णामूर्ति की बर्खास्तगी की फाइल भी राष्ट्रपति के पास है। आगामी सप्ताह में यह फाइल भी मंत्रालय के पास आने की संभावना है। दरअसल यह मामला बीते लगभग मार्च से चल रहा है जब मंत्रालय की ओर से कुलपति को नोटिस भेजकर जवाब मंगाया गया था। इसके खिलाफ उन्होंने पुडुचेरी उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। इसमें वीसी को अपना पक्ष रखने के लिए दो बार तीन सप्ताह का समय मिला। अप्रैल के मध्य में यह समयसीमा समाप्त हुई। इस बीच उन्होंने एचआरडी मंत्रालय के नोटिस का जवाब दे दिया। मंत्रालय इसकी जांच करने में समय ले रहा था जिसे देखते हुए वीसी ने सीधे राष्ट्रपति के नाम अपना इस्तीफा लिखकर मंत्रालय को भेज दिया। पुडुचेरी कुलपति के खिलाफ अकादमिक गड़बड़ियों के अलावा डी-लिट की फर्जी डिग्री लेने का भी आरोप है।
एनडीए की सरकार में यह दूसरा मामला
अगर मंत्रालय की सिफारिश पर राष्ट्रपति पुडुचेरी कुलपति को बर्खास्त करते हैं तो यह दूसरा ऐसा मामला होगा जिसमें एनडीए सरकार द्वारा किसी केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति को पद से हटाया जाएगा। इससे पहले मंत्रालय की सिफारिश पर राष्ट्रपति ने इसी वर्ष फरवरी महीने में कोलकात्ता के विश्वभारती विवि के कुलपति सुशांतदत्त गुप्ता को बर्खास्त किया था। पुडुचेरी कुलपति को पिछली यूपीए-2 की सरकार में वर्ष 2013 में नियुक्त किया गया था। अभी उनके पास दो वर्ष का कार्यकाल शेष बचा था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top