Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली: निहाल विहार से गायब हुए प्रॉपर्टी डीलर की लाश बहादुरगढ़ में मिली, मामला दर्ज

पुलिस ने बताया कि मृतक सतेंद्र उर्फ कालू (34) परिजनों के साथ उत्तम नगर के महारानी बाग में रहता था।

दिल्ली: निहाल विहार से गायब हुए प्रॉपर्टी डीलर की लाश बहादुरगढ़ में मिली, मामला दर्ज

नई दिल्ली. निहाल विहार से गायब हुए प्रॉपर्टी डीलर की लाश बहादुरगढ़ में मिली, उसके सिर पर गोली लगी हुई थी। पुलिस ने इस बावत केस दर्ज कर लिया है। इस मामले के तार द्वारका में हुए प्रॉपर्टी डीलर रविंद्र उर्फ रब्बू की हत्या से भी जुड़ रहे हैं। दोनों लोग एक दूसरे को जानते थे।

ये भी पढ़ें : मीडिया पर सख्त हुई दिल्ली सरकार, 500 करोड़ तक की मानहानि का दावा करने की तैयारी

पुलिस ने बताया कि मृतक सतेंद्र उर्फ कालू (34) परिजनों के साथ उत्तम नगर के महारानी बाग में रहता था। उसकी परिजनों ने बताया कि नौ अक्टूबर की रात सतेंद्र दोस्त गिरीश बंसल के साथ घर में था। रात में करीब साढ़े 12 बजे वह परिवार वालों को कहकर गया कि वह दोस्त गिरीश को छोड़ने निहाल विहार के कुंवर सिंह नगर जा रहा है। इसके बाद वह वापस नहीं आया, अगली दिन करीब ढाई बजे गिरीश सतेंद्र के घर पहुंचा और उसके बारे में पूछा। इसके बाद परिजनों ने बताया कि वह रात में वापस ही नहीं लौटा। इसके बाद गिरीश ने ही पुलिस को फोन कर मामले की सूचना दी।
कालू के परिजनों ने बताया कि 13 अक्टूबर की सुबह पुलिस को बहादुरगढ़ थाने से सूचना मिली की एक युवक का शव नाले में पड़ा हुआ मिला है। यह सूचना निहाल विहार पुलिस को दो गई। इसके बाद परिजनों ने उसके शव की कपड़े के आधार पर पहचान की। जिसमें सतेंद्र के सिर पर गोली लगी हुई थी।
पुलिस
का मानना है कि शव नाले में होने की वजह से पूरी तरह सड़ चुका था। परिजनों ने बताया कि पुलिस को अभी तक इस मामले में सतेंद्र की वह कार भी नही मिली है, जिससे वह दोस्त को छोड़ने गया था। सतेंद्र के परिवार में डीलर के अलावा उसके माता-पिता छोटा भाई प्रमोद पत्नी व दो बेटे हैं।

पुलिस ने सीमा विवाद में उलझाया
सतेंद्र के भाई प्रमोद ने आरोप लगाया कि दो दिन बीत जाने के बाद जब वह निहाल विहार थाने भाई के बारे में पूछने गए तो पुलिस ने बेहद गैर जिम्मेदाराना तरीके दिखाया। इस पर पुलिस ने उनसे कहा कि क्या कोई अपहरण की कॉल आई है? जब वह कॉल आएगी तब मामले की जांच करेंगे। मृतक के एक दोस्त ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पूरे मामले में पुलिस ने बेहद खराब रवैया दिखाया। शुरुआती तौर पर उत्तमनगर थाने की पुलिस ने इसे निहाल विहार थाने का बताया, वहीं उत्तमनगर थाने की पुलिस ने इसे निहाल विहार का बताया। इस कारण रिपोर्ट दर्ज करने में बेहद देरी हुई।
मितराऊं से जुड़ रहे हैं तार
पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सतेंद्र उर्फ कालू की द्वारका में मारे गये रविंद्र उर्फ रब्बू से दोस्ती थी। दोनों एक दूसरे को लंबे समय से जानते थे। सतेंद्र 9 अक्टूबर को गायब हुआ था। जबकि रब्बू की 8 अक्टूबर की दरम्यानी रात घटना ककरौला के पास तीन युवकों ने तारा नगर इलाके में उनकों गोली मार दी। यह पूरी वारदात सीसीटीवी में दर्ज हुई थी। पुलिस ने बताया कि इस हत्या के तार भी मितराऊं से जुड़ रहे हैं। पुलिस ने बताया कि जांच के घेरे में मितराऊं के दो लोग हैं। पुलिस कालू के दोस्त गिरीश बंसल से भी पूछताछ कर रही है।
रब्बू के हत्यारों की हुई पहचान
दक्षिण-पश्चिमी जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रब्बू के हत्यारों की शिनाख्त कर ली है। इस मामले में पुलिस ने दो आरोपियों की पहचान कर ली है। इस मामले का पुलिस जल्द खुलासा करेगी। रब्बू की हत्या की तीन लोग शामिल थे। पुलिस ने बताया कि आरोपियों की धरपकड़ करने के लिए कई टीमें लगी हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top