Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीएम मोदी करेंगे मंत्रिमंडल में फेरबदल, नए चेहरों को मिलेगा मौका

मोदी के मंत्रिमंडल में इस सप्ताह भारी फेरबदल होने की संभावना है। कुछ नए चेहरे इसमें शामिल हो सकते हैं तो कुछ का ओहदा और बढ़ाया जा सकता है।

पीएम मोदी करेंगे मंत्रिमंडल में फेरबदल, नए चेहरों को मिलेगा मौका
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में इस सप्ताह भारी फेरबदल होने की संभावना है। सूत्रों के अनुसार अफ़्रीका यात्रा पर रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने मंत्रिमंडल विस्तार का फैसला किया है। कुछ नए चेहरे इसमें शामिल हो सकते हैं तो कुछ का ओहदा और बढ़ाया जा सकता है। ऐसी अटकलें भी हैं कि खराब प्रदर्शन के कारण कुछ मौजूदा मंत्रियों की विदाई भी हो सकती है। मंत्रिमंडल में फेरबदल के कयास पिछले तीन-चार सप्ताह से लगाए जा रहे थे लेकिन मंत्रियों के कामकाज की समीक्षा के लिए 30 जून को प्रधानमंत्री की ओर से बुलाई गई मंत्रिपरिषद् की बैठक के बाद संसद के मानसून सत्र से पहले मंत्रिमंडल में फेरबदल को लगभग तय माना जा रहा है। संसद का मानसून सत्र 18 जुलाई से आरंभ हो रहा है।
बताया गया है कि इस बारे में राष्ट्रपति भवन को सूचित कर दिया गया है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी अपनी टीम का पुनर्गठन करने जा रहे हैं। इन दोनों ही परिवर्तनों पर आरएसएस ने अपनी सहमति दे दी है। इससे पहले संघ और बीजेपी के बीच बातचीत का लंबा दौर चला। करीब चार घंटे चली इसी मैराथन बैठक में प्रत्येक मंत्रालय की ओर से पिछले दो साल के अपने काम-काज का लेखा जोखा पेश करने के साथ ही भविष्य की योजनाओं का ब्यौरा भी दिया गया था।
सूत्रों के अनुसार बैठक में प्रधानमंत्री ने विभिन्न मंत्रालयों से सरकारी योजनाओं के लिए आवंटित धनराशि के खर्च की जानकारी हासिल की और उन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए कहा था कि इन सरकारी योजनाओं का लाभ जन-जन तक पहुंचे। प्रधानमंत्री ने इसके साथ ही आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की ओर से घोषणा पत्र में किए गए वादों को सरकारी योजनाओं के जरिए लोगों तक पहुंचाने में विभिन्न मंत्रालयों की भूमिका की समीक्षा भी की थी।
मौजूदा समय में केन्द्रीय मंत्रिपरिषद् में प्रधानमंत्री को मिलाकर 64 मंत्री हैं। इसमें 27 कैबिनेट स्तर के, 12 स्वतंत्र प्रभार वाले और 25 राज्य मंत्री हैं। सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल के मौजूदा फेरबदल में चार शीर्ष मंत्रियों गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के विभागों में कोई बदलाव की संभावना नहीं है।
आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब से नए मंत्री बनाये जाने की संभावना है। कुछ मंत्रियों के प्रमोशन की संभावना है। माना जा रहा है कि ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल को कैबिनेट मंत्री बनाया जा सकता है। वहीं क़ानून मंत्री सदानंद गौड़ा के साथ एक ताक़तवर राज्य मंत्री लगाया जा सकता है।
यूपी से बीजेपी की सहयोगी अपना दल की अनुप्रिया पटेल का नाम लिया जा रहा है। बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव, उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे और पार्टी प्रवक्ता एम जे अकबर भी मंत्री बनने के दावेदार हैं। असम से सर्वानंद सोनोवाल की जगह किसी नेता को राज्य मंत्री बनाया जाएगा।
ऐसा अनुमान है कि 75 वर्ष से ज्यादा की आयु वाले मंत्रियों की विदाई की जा सकती है। गौरतलब है कि हाल ही में मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार में हुए फेरबदल में 75 पार उम्र के दो मंत्रियों की छुट्टी कर दी गई थी।
हालांकि 75 वर्ष से अधिक उम्र वालों को कैबिनेट में शामिल नहीं करने का पार्टी में कोई आधिकारिक या औपचारिक फार्मूला नहीं है, लेकिन सूत्रों की माने तो केंद्र में भी एमपी की तर्ज़ पर इसे अपनाया जा सकता है। अगर यह पैमाना काम करता है तो मंत्रिपरिषद में शामिल नजमा हेपतुल्लाह और कलराज मिश्र जैसे वरिष्ठ नेताओं की छुट्टी तय है। लेकिन इस बीच माना ये भी जा रहा है कि पीएम मोदी अगले साल उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र कलराज मिश्रा को मंत्रिपरिषद से 'बेदखल' नहीं करेंगे। मिश्र का लाभ यूपी में पार्टी के लिए ब्राह्मण चेहरे के तौर पर लिया जा सकता है।
सूत्रों की माने तो इस फेरबदल के दौरान उत्तर प्रदेश और असम के बीजेपी से जुड़े कद्दावर नेताओं को शामिल किया जा सकता है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने मंत्रिमंडल में पिछला फेरबदल नवंबर 2014 में किया था जब सुरेश प्रभु को रेल मंत्री और मनोहर पर्रिकर को रक्षा मंत्री के तौर पर इसमें शामिल किया गया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top