Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शादी के वादे पर संबंध रेप नहीं: दिल्ली हाईकोर्ट

हाई कोर्ट ने कहा कि लड़की के लिए यह जरूरी नहीं था कि वह शादी के वायदे पर शारीरिक संबंध बनाने की इजाजत दे।

शादी के वादे पर संबंध रेप नहीं: दिल्ली हाईकोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा है कि सेक्सुअल असॉल्ट के मामले में पहले से ये नहीं माना जा सकता कि लड़की सब कुछ सही ही बोल रही है।

रेप मामले में ये तयशुदा नियम हैं कि लड़की का बयान अगर हाई क्वॉलिटी का और विश्वसनीय है तो सजा हो सकती है। बयान अहम पार्ट है, लेकिन साथ ही अभियोजन पक्ष को केस बिना संदेह के साबित करना होता है।

मौजूदा मामले में लड़की का बयान अविश्वसनीय है और ऐसे में आरोपी को बरी किया जाता है। लड़की का आरोप था कि आरोपी ने शादी का वादा कर उसके साथ संबंध बनाए थे।

इस मामले में लड़की के बयान पर रेप का केस दर्ज किया गया था। हाई कोर्ट ने कहा कि लड़की के लिए यह जरूरी नहीं था कि वह शादी के वायदे पर शारीरिक संबंध बनाने की इजाजत दे।

फिर तो सहमति से संबंध हुए

हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि लड़की 31 साल की थी। वह फिजिकल रिलेशन के अंजाम को जानती थी। रिकॉर्ड में ये बातें साबित नहीं हो पाई कि विक्टिम ने शादी के वायदे के कारण संबंध बनाने की सहमति दी थी।

लड़की ने तीन साल तक शादी के लिए आरोपी पर दबाव नहीं डाला। इस बात का जिक्र अपने माता-पिता से नहीं किया। उसने अपने माता-पिता को नहीं बताया कि शादी का वादा कर आरोपी ने उसके साथ संबंध बनाए हैं। बल्कि माता-पिता ने उसके लिए लड़का देख रहे थे। तब भी उसने नहीं कहा कि वह किसी और से शादी करने जा रही है।

ईमेल में भी लड़की ने शादी के लिए नहीं कहा

आरोपी और लड़की के बीच ईमेल का जो रिकॉर्ड है, उसमें लड़की ने कभी भी आरोपी से शादी के बारे में नहीं कहा। 2008 के जनवरी में जब पहली बार शारीरिक संबंध बनाने तक शादी का वादा नहीं किया गया था।

लेकिन लड़की ने उसके बाद भी कोई शिकायत नहीं की, बल्कि तीन साल तक वह शादी के कथित वायदे पर चुप रही और इस दौरान लगातार दोनों ने पूरी सहमति से शारीरिक संबंध बनाए।

क्या है यह मामला

मामला छावला इलाके का है। लड़की एक कंपनी में ट्रेनिंग कर रही थी, जबकि आरोपी ट्रेनर था। इस दौरान दोनों में जान पहचान हुई और बाद में दोनों फोन पर बात करने लगे।

इस दौरान दोस्ती और गहरी हुई और दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे। पुलिस के मुताबिक, इस दौरान जनवरी 2008 में आरोपी ने लड़की को अपने घर बुलाया और उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। बाद में भी दोनों के बीच की कई बार संबंध बने लेकिन शिकायत 2011 में की गई।

Next Story
Top