Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

डीडीए की आवासीय योजना 2014 हुई फ्लॉप, एक साल में 8500 लोगों ने लौटाए फ्लैट

दिल्ली में इन फ्लैटों की लोकेशन वसंत कुंज, द्वारका, नरेला और रोहिणी थी।

डीडीए की आवासीय योजना 2014 हुई फ्लॉप, एक साल में 8500 लोगों ने लौटाए फ्लैट
दिल्ली. दिल्ली विकास प्राधिकरण की आवासीय योजना 2014 के तहत दिल्ली में जिन लोगों को लॉटरी प्रक्रिया के तहत फ्लैट दिए गए थे, उनमें से 8500 लोगों अपने फ्लैट वापिस लौटा दिए हैं। सूत्रों के मुताबिक जिन लोगों ने ये फ्लैट वापिस करने का निर्णय लिया है, उनका मानना है कि डीडीए के इन फ्लैट्स के लिए सरकार ने जो कीमत तय की है, इन फ्लैट्स की कीमत उतनी नहीं है।
शहरी विकास राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि डीडीए ने सूचित किया है कि डीडीए की आवासीय योजना 2014 के तहत जिन लोगों को फ्लैट आवंटित किया गया था, उनमें से करीब 8500 ने अपने फ्लैट लौटा दिए हैं। गौरतलब है कि साल 2014 में जब इन फ्लैटों के लिए आवेदन किया जा रहा था, तब तमाम बैंकों की शाखाओं पर रोजाना लाखों लोगों की भीड़ आवेदन करने के लिए टूटती थी।
आपको बता दें कि अधिकतर मामलों में आवंटियों ने फ्लैट लौटाने पर कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है। उन्होंने बताया कि डीडीए ने सूचित किया है कि आर्थिक रूप से कमजोर श्रेणी के लिए बनाए जाने वाले फ्लैटों में से कई को निम्न आय वर्ग की आवासीय योजना में तब्दील किया जाएगा।
गौरतलब है कि दिल्ली में प्रोपर्टी के गिरते रेट देखकर अब लोग डीडीए की स्कीम से खुद को लुटा हूआ महसूस कर रहे हैं। इस स्कीम के तहत लोगों ने डीडीए के तीन टाइप के फ्लैटों के लिए आवेदन किया था। दिल्ली में इन फ्लैट्स की लोकेशन द्वारका, वसंत कुंज ,नरेला और रोहिणी थी।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top